आरुषि का मर्डर किस हथियार से हुआ? 4 हथियार, 40 थ्योरी
आरुषि-हेमराज हत्याकांड में इलाहाबाद हाईकोर्ट सुनाएगा फैसला  
आरुषि-हेमराज हत्याकांड में इलाहाबाद हाईकोर्ट सुनाएगा फैसला  (फोटो: द क्विंट)

आरुषि का मर्डर किस हथियार से हुआ? 4 हथियार, 40 थ्योरी

आरुषि मर्डर केस, देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री . इस केस में 9 साल तक इतनी चीजें बदली हैं, इतनी बार बदली हैं कि केस पर पैनी नजर रखने वाले भी कई बार धोखा खा गए. हर जांचदल ने मौका-ए-वारदात को अपनी तरह से पढ़ा, अपनी तरह से सुबूत जुटाए

आरुषि केस में मर्डर वेपन या कहें कत्ल के हथियार को लेकर कई थ्योरी चलीं. हम उन्हीं कुछ थ्योरी को आपके सामने ज्यों का त्यों रख रहे हैं.

सीबीआई की गॉल्फ क्लब थ्योरी में कई छेद

कहा गया कि आरुषि-हेमराज पर गॉल्फ क्लब से वार किया गया. आपको बताते चलें कि 'क्लब' गॉल्फ स्टिक को ही कहा जाता है. 24 मई 2010 को ‘पायनियर’ अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा कि सीबीआई एक गायब गॉल्फ क्लब को ढूंढ़ रही है. हालांकि, सच ये है कि राजेश तलवार की गॉल्फ किट सभी 12 क्लब के साथ सीबीआई ने अक्तूबर 2009 में ही कब्जे में ले ली थी.

सीबीआई के जांचकर्ता एजीएल कौल ने डॉ. सुनील दोहरे से पूछा, "क्या आरुषि की हत्या गॉल्फ क्लब से हुई है. दोहरे का जवाब था, "आरुषि के माथे पर लगी चोट V-शेप में है. लगता है कि ये किसी भोथरी, भारी चीज से की गई है. हो सकता है ये गॉल्फ क्लब हो.

यहां ये माना जा सकता है कि अगर मर्डर वेपन गॉल्फ क्लब हो भी तो वो कोई एक क्लब होगा. क्लब चार तरह के होते हैं.- ड्राइवर, वुड, आइरन, पटर. हर टाइप का अलग शेप-साइज होता है.

मर्डर वेपन पर क्या कहा फॉरेंसिक लैब ने?

फॉरेंसिक लैब ने अपनी रिपोर्ट में लिखा, "जब सभी 12 गॉल्फ क्लब को माइक्रोस्कोप के नीचे देखा गया तो क्लब नंबर 3 और 5 के सिरे पर बेहद कम मात्रा में मिट्टी मिली. बाकी क्लब तकरीबन साफ थे. ज्यादा ही साफ क्लबों में एक ‘वुड’ था और दूसरा ‘आइरन’.”

ये रिपोर्ट सीबीआई के गॉल्फ किट कब्जे में लेने के 8 महीने बाद आई थी. सीबीआई ने थ्योरी दी कि जो ‘आइरन’ कमोबेश साफ हालत में है, हो न हो, कत्ल उसी से हुआ है. दिसंबर 2010 में दाखिल क्लोजर रिपोर्ट के हिसाब से वो क्लब नंबर 5 था. लेकिन इस थ्योरी में एक छेद था. 5 नंबर का क्लब वो ‘आइरन’ नहीं था जिसे साफ किया गया था.

जो क्लब साफ थे, उनमें 3 नंबर का वुड और 4 नंबर का ‘आइरन’ शामिल थे. ट्रायल के दौरान जब इस ओर ध्यान दिलाया गया तो अचानक सीबीआई ने मर्डर वेपन बदल कर 4 नंबर का ‘आइरन’ बता दिया. इसके लिए कभी कोई सफाई पेश नहीं की गई. ये चौथी बार था जब मर्डर वेपन बदल दिया गया.

बदलता रहा कत्ल का हथियार

सबसे पहले उत्तर प्रदेश पुलिस की नजर में कत्ल का हथियार एक हथौड़ा था. एम्स की मेडिकल कमेटी ने आला-ए-कत्ल, खुकरी बता दिया. सीबीआई के कौल ने इसे 5 नंबर का ‘आइरन’ बता दिया और ट्रायल कोर्ट में सीबीआई ने कहा कत्ल 4 नंबर के ‘आइरन’ गॉल्फ क्लब से हुआ था.

गॉल्फ क्लब की थ्योरी में सबसे खास बात ये है कि उस दौरान बार-बार गायब गॉल्फ क्लब की बात खबरों में उछली लेकिन रिकॉर्ड में कहीं ये नहीं है कि अक्तूबर 2009 में सीबीआई के गॉल्फ किट कब्जे में लेने से पहले राजेश या नूपुर तलवार से गॉल्फ क्लब से जुड़ा कोई सवाल पूछा गया हो.

हालांकि, सीबीआई के इन्वेस्टिगेटर एजीएल कौल ने इसका बचाव ये कहकर किया कि वो तलवार के करीबी अजय चड्ढा से गॉल्फ क्लब के बारे में सवालात कर रहे थे और चड्ढा तलवार की ओर से जवाब दे रहे थे. दिलचस्प ये है कि तलवार ने कोर्ट में कहा कि उन्होंने चड्ढा को कभी खुद के बदले जवाब देने के लिए तय नहीं किया था.

(तथ्य, अविरूक सेन की किताब ‘आरुषि’ से लिए गए हैं)