ADVERTISEMENT

Agnipath: अमेरिका, इजरायल समेत कई देशों में है ऐसी स्कीम, समझिए क्या है फर्क

US में फुलटाइम सैनिक के रूप में दो साल के बाद उन्हें आर्मी रिजर्व में अतिरिक्त दो साल सेवा देने की जरूरत होती है

Updated
भारत
3 min read
Agnipath: अमेरिका, इजरायल समेत कई देशों में है ऐसी स्कीम, समझिए क्या है फर्क

केंद्र सरकार ने मंगलवार, 14 जून को सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए नई अग्निपथ योजना (Agnipath army recruitment scheme) की घोषणा की. रक्षा मंत्रालय का कहना है कि तत्काल प्रभाव से लागू इस योजना के कार्यान्वयन से भारतीय सशस्त्र बलों की औसत आयु में 4-5 वर्ष की कमी आएगी. अग्निपथ योजना के तहत सैनिकों की केवल 4 सालों के लिए भर्ती होगी. क्या आपको पता है ऐसी की योजना अमेरिका और इजरायल जैसे सैन्य रूप से मजबूत देशों में भी है.

ADVERTISEMENT

भारत: अग्निपथ योजना, शॉर्ट कमीशन और स्थायी कमीशन

अग्निपथ योजना द्वारा भर्ती ज्यादातर सैनिकों का कार्यकाल सिर्फ चार साल का होगा. इसके योजना के तहत हर साल 45,000 से 50,000 सैनिकों की भर्ती की जाएगी और उनमें से केवल 25 प्रतिशत को ही स्थायी कमीशन के तहत अगले 15 वर्षों तक काम करने की अनुमति दी जाएगी.

अग्निपथ योजना केवल अधिकारी रैंक से नीचे के कर्मियों के लिए है, जो कमीशन अधिकारी के रूप में सेना में शामिल नहीं होते हैं.

इससे पहले भारत में सेना शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत युवाओं को 10 साल के शुरुआती कार्यकाल के लिए भर्ती करती रही है, जिसे 14 साल तक बढ़ाया जा सकता है. जबकि स्थायी या परमानेंट कमीशन के तहत भर्ती किए गए सेना के जवान या अधिकारी का करियर रिटायर होने तक सशस्त्र बलों में होता है.

अमेरिका

U.S. Army Recruiting Command के अनुसार अमेरिकी सेना ने फरवरी 2022 में दो साल के लिए भर्ती के विकल्पों का विस्तार किया है, जिससे उन व्यक्तियों के लिए यह आसान हो गया है जो चार या छह साल के लिए आर्मी ज्वाइन करने में सहज नहीं हैं. यानी इस विकल्प के अनुसार बेसिक और एडवांस ट्रेनिंग के बाद अमेरिका के नए सैनिकों को एक्टिव ड्यूटी पर केवल दो साल बिताने की आवश्यकता होगी.

फुलटाइम सैनिक के रूप में दो साल बिताने के बाद उन्हें आर्मी रिजर्व में अतिरिक्त दो साल सेवा देने की आवश्यकता होती है. साथ ही अगर वे सक्रिय ड्यूटी पर रहने के लिए फिर से भर्ती होना चाहते हैं तो उनके पास यह विकल्प मौजूद होगा.

अमेरिका में जो सैनिक केवल दो वर्षों के लिए भर्ती होंगे उन्हें भी महत्वपूर्ण सुविधाएं मिलेंगी, जैसे कि वेटरन्स अफेयर्स होम लोन सब्सिडी और Post-9/11 G.I. Bill का 80%. अमेरिका में पारित Post-9/11 G.I कानून के बाद उन सैनिकों को शिक्षा लाभ प्रदान करता है. जिन्होंने 10 सितंबर 2001 के बाद 90 या अधिक दिनों तक सेना में सक्रिय ड्यूटी पर काम किया है.

यूनाइटेड किंगडम

यूके के सशस्त्र बलों में भर्ती होने की न्यूनतम आयु 16 वर्ष है. यूके यूरोप का एकमात्र देश है जो नियमित रूप से 18 वर्ष से कम आयु के नौजवानों की भर्ती करता है. जिनकी भर्ती 16 या 17 साल की उम्र में होता है उन्हें तब तक सेवा करनी होती है, जबतक की वे 22 के नहीं हो जाते.

यानी UK में जहां एक वयस्क (18+) को सेना में भर्ती के बाद कम से कम चार साल के लिए सेवा देनी होती है, वहीं एक नाबालिग के लिए 4 साल की टाइमपीरियड उसके 18वें जन्मदिन से शुरू होता है.

दूसरी तरफ यहां नौसेना (Navy) में कम से कम ट्रेनिंग पूरी होने के साढ़े तीन साल या ओवरऑल चार साल की सेवा- जो भी अधिक हो, उतनी देनी होती है. ठीक यही प्रावधान एयर फोर्स के फील्ड में भी है.

ADVERTISEMENT

इजराइल

इजराइल में 18 वर्ष से अधिक आयु के प्रत्येक यहूदी, ड्रुज या सर्कसियन नागरिक को सेना में अपनी सेवा देने की आवश्यकता होती है.हालांकि इसके कुछ अपवाद भी हैं. एक बार भर्ती होने के बाद, पुरुषों से कम से कम 32 महीने और महिलाओं से कम से कम 24 महीने तक सेना में सेवा देनी होती है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×