ADVERTISEMENT

BJP मंत्री मीनाक्षी लेखी ने किसानों को कहा 'मवाली', राकेश टिकैत ने दिया जवाब

बीजेपी मंत्री के किसानों को लेकर दिए गए बयान पर कांग्रेस ने की निंदा

Published
भारत
3 min read
<div class="paragraphs"><p>बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी और राकेश टिकैत</p></div>
i

बीजेपी की सांसद और हाल ही में केंद्रीय मंत्री बनाई गईं मीनाक्षी लेखी ने किसानों को लेकर विवादित बयान दिया. उन्होंने कहा कि जो कृषि कानूनों के खिलाफ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं वो किसान नहीं बल्कि मवाली हैं. उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो ऐसे लोगों को बढ़ावा दे रहे हैं. बीजेपी मंत्री के इस बयान को लेकर भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने भी जवाब दिया है. उन्होंने कहा है कि किसान के बारे में ऐसी बात नहीं करनी चाहिए.

किसानों का नाम लेते ही मीनाक्षी लेखी को आया गुस्सा

दरअसल ये पहली बार नहीं है जब बीजेपी नेताओं ने किसानों को लेकर विवादित बयान दिया हो. इससे पहले भी प्रदर्शनकारी किसानों को कई नामों से बुलाया जा चुका है. इस बार जब केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी से किसान आंदोलन को लेकर सवाल किया गया तो वो भड़क गईं. उन्होंने सीधे कहा कि,

आप पहले तो उन्हें किसान कहना बंद कीजिए, क्योंकि वो किसान नहीं हैं. वो षड़यंत्रकारी लोगों के हत्थे चढ़े कुछ लोग हैं, वो मवाली हैं. जो लगातार किसानों के नाम पर ये हरकतें कर रहे हैं. किसानों के पास जंतर-मंतर पर बैठने का समय नहीं है, वो अपने खेतों पर काम कर रहे हैं. जब इस दौरान पत्रकार ने किसानों का नाम लिया तो मीनाक्षी लेखी ने गुस्से में कहा कि, फिर आप लोग उन लोगों को किसान बोल रहे हैं, मवाली हैं वो.
ADVERTISEMENT

बीजेपी की बड़ी नेता के इस बयान पर जब किसान नेता राकेश टिकैत से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि, मवाली तो होते हैं जिनका कोई घर नहीं होता है. यहां तो किसान हैं. किसान के बारे में इस तरह की बातें नहीं कहनी चाहिए. ये देश का अन्नदाता है कोई मवाली नहीं हैं. वो बड़े लोग हैं, हम यहां झोपड़ी में 8 महीने से रह रहे हैं तो उन्हें हमें मवाली लगेंगे.

कांग्रेस ने कहा- बयान वापस ले मीनाक्षी लेखी

मीनाक्षी लेखी के इस बयान पर विपक्षी नेताओं ने भी उनकी खूब आलोचना की है. कांग्रेस नेता अलका लांबा ने एक वीडियो शेयर करते हुए बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि,

"हर बीजेपी नेता को बताया गया है कि उन्हें किसानों को बदनाम करना है. कभी उन्हें आतंकी कहना है, कभी खालिस्तानी तो कभी उपद्रवी बताना है. मीनाक्षी लेखी को मवाली शब्द को वापस लेना होगा. एक तरफ सरकार किसानों से बातचीत करने की बात कह रही है, वहीं नेता उन्हें बार-बार अपमानित कर रहे हैं."
ADVERTISEMENT

कांग्रेस के अलावा दिल्ली में आम आदमी पार्टी के विधायकों और अन्य लोगों ने भी मीनाक्षी लेखी को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर हमला बोला. उन्होंने किसानों पर दिए गए इस बयान को निंदनीय बताया.

लगातार चलती रहेगी किसान संसद

राकेश टिकैत ने कहा कि आज का कार्यक्रम काफी अच्छा रहा. शांतपूर्ण तरीके से प्रदर्शन हुआ. आज यहां किसानों ने अपनी बात रखी. यहां पर हर राज्य के किसानों ने अपनी बात रखी. कल किसानों का दूसरा जत्था यहां आएगा और अपनी बात रखी जाएगी. टिकैत ने बताया कि जब तक संसद चलेगी, तब तक हम यहां प्रदर्शन करेंगे. किसान पंचायत का नाम किसान संसद रखा गया है.

ADVERTISEMENT

बता दें कि किसानों ने पहले संसद के बाहर धरना प्रदर्शन की बात कही थी, लेकिन दिल्ली पुलिस की तरफ से इसकी मंजूरी नहीं मिली. इसके बाद किसानों को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत दी गई. किसानों ने भारी सुरक्षा के बीच यहीं अपनी किसान संसद लगाई और अपने मुद्दों पर चर्चा की. किसानों का साफ कहना है कि वो तीनों कृषि कानूनों को रद्द कराए बिना अपना ये आंदोलन खत्म नहीं करने वाले हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT