ADVERTISEMENT

Chandigarh University वीडियो लीक पर विरोध तेज, खुलासे से गिरफ्तारी तक की कहानी

Punjab Video Leak Row: पुलिस ने कहा- आरोपी छात्रा ने सिर्फ अपना वीडियो शेयर किया है

Published
भारत
4 min read
ADVERTISEMENT

मोहाली स्थित चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी (Chandigarh University) में लड़कियों के कथित आपत्तिजनक वीडियो लीक (Punjab Video Leak Row) मामले में विरोध बढ़ता जा रहा है. हजारों स्टूडेंट मामले में निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर यूनिवर्सिटी प्रशासन के सामने विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. गर्ल्स हॉस्टल के गेट पर ताला लगने के बावजूद प्रदर्शनकारी लड़कियों ने गेट फांदा और विरोध किया. दूसरी तरफ यूनिवर्सिटी और पुलिस ने कहा है कि आरोपी लड़की ने केवल अपना वीडियो शेयर किया है, उसके मोबाइल से किसी भी अन्य लड़की का आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला है. हालांकि सामने आये वीडियो में आरोपी छात्रा कथित तौर पर दूसरी लड़कियों का वीडियो भी शेयर करने के आरोप को स्वीकार करती सुनी जा रही है.

 क्या है पूरा मामला?

आरोपी छात्रा द्वारा कथित तौर पर अन्य कई लड़कियों का नहाते हुए वीडियो बनाकर शेयर करने का मामला शनिवार, 17 सितंबर को सामने आया जिसके बाद छात्र-छात्राओं का विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गया. हंगामे के बीच कुछ लड़कियां बेहोश हो गईं जिसके बाद अफवाह फैली की लड़कियों ने आत्महत्या का प्रयास किया है. हालांकि मोहाली के SSP विवेक शील सोनी और यूनिवर्सिटी ने इन अफवाहों को सिरे से खारिज करते हुए बताया कि किसी भी स्टूडेंट ने ना ही आत्महत्या की कोशिश की है और न ही किसी की मौत हुई है.

यूनिवर्सिटी कैंपस में पत्रकारों से बात करते हुए पंजाब के एडीजीपी गुरप्रीत देव ने बताया कि तीन से चार छात्राओं ने आरोपी छात्र को कॉमन वॉशरूम में देखा, जहां वह अपने मोबाइल से बाथरूम के दरवाजे के नीचे से फोटो ले रही थी. उन्होंने फिर वार्डन को मामले की सूचना दी और बाद में पुलिस को सूचित किया.

आरोपी छात्रा चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में MBA की पढ़ाई करती है. सोशल मीडिया पर सामने आए एक वीडियो में आरोपी छात्रा हॉस्टल वार्डन के सामने स्वीकार करती सुनी जा सकती है कि उसने वीडियो बनाए थे और शिमला में मौजूद किसी लड़के के साथ शेयर किया था.

पुलिस ने आरोपी छात्रा को भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 66E (निजता का उल्लंघन - फोटो को कैप्चर करना, प्रसारित करना) और 354 C के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया है. उसके मोबाइल को फोरेंसिक जांच के लिए जब्त कर लिया गया है. साथ ही पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद हिमाचल प्रदेश उस लड़के को गिरफ्तार करने के लिए टीम भेजी है, जिसके साथ कथित तौर पर वीडियो शेयर किया गया है.
ADVERTISEMENT

पुलिस ने कहा- आरोपी छात्रा ने सिर्फ अपना वीडियो शेयर किया है

लड़कियों के आपत्तिजनक वीडियो के कथित तौर पर लीक होने के विरोध के घंटों बाद मोहाली के SSP विवेक शील सोनी ने रविवार को कहा कि आरोपी छात्रा ने अपने एक दोस्त के साथ केवल अपने वीडियो को शेयर किया है और उसके मोबाइल से किसी भी और लड़की का वीडियो नहीं मिला है.

"अगर आप अब तक की घटनाओं के क्रम को देखें, तो हमारी जांच में पता चला है कि मोबाइल में वीडियो केवल उसका (आरोपी छात्रा) ही था. इसके अलावा किसी और का कोई वीडियो नहीं मिला है. हम भी किसी को क्लीन चिट नहीं दे रहे हैं. मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है, हमने फोन जब्त कर लिया हैं."

इसके अलावा पंजाब के एडीजीपी गुरप्रीत देव ने बताया कि "ऐसा प्रतीत होता है कि छात्रा ने युवक के साथ सिर्फ अपना एक वीडियो शेयर किया है और किसी दूसरी लड़की का कोई आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला है."

ADVERTISEMENT

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने क्या कहा?

वीडियो लीक मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए यूनिवर्सिटी के प्रो-चांसलर डॉ आर एस बावा ने एक बयान में कहा कि “ऐसी अफवाहें हैं कि 7 लड़कियों ने आत्महत्या कर ली है जबकि तथ्य यह है कि किसी भी लड़की ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है. घटना में किसी लड़की को अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया है."

"मीडिया में यह अफवाह फैल रही है कि कई छात्राओं के 60 आपत्तिजनक MMS पाए गए हैं. यह पूरी तरह से झूठ और निराधार है. यूनिवर्सिटी द्वारा की गई प्रारंभिक जांच के दौरान किसी भी छात्रा का ऐसा कोई वीडियो नहीं मिला है जो आपत्तिजनक हो, सिवाय एक लड़की द्वारा शूट किया गया एक प्राइवेट वीडियो के, जिसे उसने अपने बॉयफ्रेंड के साथ शेयर किया था.”
यूनिवर्सिटी के प्रो-चांसलर

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट वेलफेयर के डीन का भी कहना है कि आरोपी छात्रा ने केवल अपने दोस्त को अपने वीडियो भेजने की बात कबूल की थी. उन्होंने यह भी कहा कि यूनिवर्सिटी ने पुलिस से इस आरोप की जांच करने का भी अनुरोध किया है कि पूरी घटना यूनिवर्सिटी को बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया कैंपेन का हिस्सा है.

ADVERTISEMENT

सीएम भगवंत मान ने घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए 

विरोध-प्रदर्शन के बीच राज्य सरकार एक्शन मोड में है. पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अफवाहों से बचने की अपील की और कहा कि घटना की उच्च स्तरीय जांच शुरू की गई है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है कि

"चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की घटना सुनकर दुख हुआ... हमारी बेटियां हमारी शान हैं... घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं.. जो भी दोषी होगा सख्त कार्रवाई करेंगे... मैं लगातार प्रशासन के संपर्क में हूं... मैं आप सब से अपील करता हूं कि अफवाहों से बचें..."

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वारिंग, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, शिरोमणि अकाली दल के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा सहित विपक्षी नेताओं ने दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग की है.

राष्ट्रीय महिला आयोग ने अपने एक बयान में बताया है कि अध्यक्ष रेखा शर्मा ने पंजाब के पुलिस महानिदेशक को तुरंत दोषियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने और मामले से सख्ती से और बिना किसी ढिलाई के निपटने के लिए लिखा है. राष्ट्रीय महिला आयोग ने कहा कि पीड़ित लड़कियों की उचित काउंसिंलिंग की जानी चाहिए और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जानी चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×