ADVERTISEMENT

अंबेडकर, परिवारवाद... संविधान दिवस बायकॉट पर PM नरेंद्र मोदी ने विपक्ष को घेरा

पीएम मोदी ने बाबा साहब अंबेडकर के योगदान का जिक्र करते हुए विपक्ष पार्टियों को घेरा.

Published
भारत
3 min read
<div class="paragraphs"><p>संविधान दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते पीएम मोदी</p></div>
i

संसद के सेंट्रल हॉल में संविधान दिवस (Constitution Day) पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रे सरकार के तमाम मंत्री मौजूद रहे. संविधान दिवस कार्यक्रम के बायकॉट को लेकर पीएम मोदी विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा.

ADVERTISEMENT

पीएम मोदी ने कार्यक्रम में 26/11 के हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी. पीएम ने कहा, ''देश के समान्य मानव की रक्षा के लिए अनेक वीर जवानों ने अपने आपको समर्पित कर दिया, सर्वोच्च बलिदान दिया. मैं उन सभी बलिदानियों को आदरपूर्वक नमन करता हूं.''

आजादी के आंदोलन की छाया, देशभक्ति का ज्वार, भारत विभाजन की विभीषका के बावजूद भी संविधान निर्माताओं ने देशहित को सुप्रीम रखा. हर किसी के हृदय में यह एक मंत्र था. विविधताओं से भरा देश, अनेक भाषाएं, अनेक बोलियां, अनेक राजे-रजवाड़े इन सबके बावजूद सबको एक बंधन में बांधा गया, आज तो पता नहीं शायद हम एक पेज भी संविधान नहीं बना पाते हैं.
पीएम नरेंद्र मोदी

पीएम ने कहा कि हमारा संविधान ये सिर्फ अनेक धाराओं का संग्रह नहीं है, हमारा संविधान सहस्त्रों वर्ष की महान परंपरा, अखंड धारा उस धारा की आधुनिक अभिव्यक्ति है. इस संविधान दिवस को इसलिए भी मनाना चाहिए, क्योंकि हमारा जो रास्ता है, वह सही है या नहीं है, इसका मूल्यांकन करने के लिए मनाना चाहिए

ADVERTISEMENT

संविधान दिवस कार्यक्रम के बायकॉट पर विपक्ष पर निशाना

पीएम मोदी ने संविधान दिवस कार्यक्रम के बायकॉट को लेकर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा.

2015 में जब मैं बाबा साहब अंबेडकर की 150 जयंती पर बोल रहा था और संविधान दिवस का ऐलान किया तो उस वक्त भी विरोध किया गया, कहा गया कि ये 26 नवंबर कहां से ले आए. बाबा साहब अंबेडकर का नाम हो और आपके मन में यह भाव उठे यह देश सुनने को तैयार नहीं है.
पीएम मोदी,संविधान दिवस कार्यक्रम

पीएम यहीं नहीं रुके, उन्होंने विपक्षी पार्टयों पर हमला जारी रखा. उन्होंने कहा, अब भी खुले मन से बाबा साहब अंबेडकर जैसे मनीषियों ने जो देश को दिया है, उसका स्मरण करनेकी तैयारी ना होना एक चिंता का विषय है.''

ADVERTISEMENT

परिवारवाद पर निशाना

पीएम ने कांग्रेस और अन्य पार्टियों पर परिवारवाद को लेकर निशाना साधते हुए कहा, ''भारत एक ऐसे संकट की ओर बढ़ रहा है, जो संविधान को समर्पित लोगों के लिए चिंता का विषय है, लोकतंत्र के प्रति आस्था रखने वालों के लिए चिंता का विषय है और वो हैं पारिवारिक पार्टियां.''

मोदी ने कहा कि जब राजनीतिक दल अपने आप में अपना लोकतांत्रिक कैरेक्टर खो देते हैं। जो दल स्वयं लोकतांत्रिक कैरेक्टर खो चुके हों, वो लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकते हैं.

पार्टी का पूरा कंट्रोल एक ही परिवार के पास होना चिंताजनक- पीएम

पीएम ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक राजनीतिक दलों की तरफ देख लीजिए, ये लोकतंत्र की भावना के खिलाफ है. संविधान हमें जो कहता है यह उसके विपरीत है.

पीएम ने कहा, जब मैं परिवारवाद की बात करता हूं तो इसका मतलब ये नहीं कि एक परिवार से एक से ज्यादा लोग राजनीति में नहीं आने चाहिए. बिल्कुल आएं, योग्ये हैं तो अन्य लोग भी आएं. लेकिन जब पीढ़ियों तक पार्टी का कंट्रोल एक परिवार के पास हो तो यह स्थिति चिंताजनक है.

ADVERTISEMENT

पीएम ने भ्रष्टाचार को लेकर भी राजनीतिक दलों पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि किसी को अगर कोर्ट ने भ्रष्टाचार के लिए दोषी ठहरा दिया हो, और राजनीतिक लाभ के लिए उसका महिमामंडन चलता रहे, सारी मर्यादाओं और लोक लाज को तोड़कर उनके साथ उठना-बैठना किया जाए तो देश के युवाओं को लगता है कि भ्रष्टाचार बुरा नहीं है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT