ADVERTISEMENT

दूसरे शहर कैसे भेजें दवाई? लॉकडाउन में दवा कैसे मिलेगी? FAQ

क्विंट के FAQs में जानिए सभी सवालों के जवाब

Published
भारत
2 min read
क्विंट के FAQs में जानिए सभी सवालों के जवाब
i

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में लगाए गए 21 दिनों के लॉकडाउन में जरूरी सेवाओं को छूट दी गई है. इसमें दवाइयां भी शामिल हैं. हालांकि, खबरें आईं कि लोगों को अस्पताल जाने से लेकर दवाइयां मिलने में परेशानी हो रही है. अगर आप भी इस समस्या का सामना कर रहे हैं, या आपका कोई जानने वाला दूसरे शहर में फंसा है और आप उस तक दवाई पहुंचाना चाहते हैं, तो जानिए ये कैसे मुमकिन है.

क्या आसपास की केमिस्ट की दुकान खुली होगी?

ये खुली होनी चाहिए. गृह मंत्रालय की गाइडलाइन्स के मुताबिक, दवाइयां जरूरी सामान में आती हैं. इसलिए आपके पास की दवाई की दुकान खुली होनी चाहिए. कई केमिस्ट और फार्मेसी दुकानों के मालिकों के साथ हैरेसमेंट की खबरें आ रही हैं, जिसके कारण हो सकता है कि आपके इलाके की दुकान खुली न हो. 28 मार्च, 2020 को, ऑल इंडिया ऑर्गनाइजेशन ऑफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट (AICOD) ने राज्य सरकारों को पुलिस के बर्ताव को लेकर एक लेटर लिखा था और कहा कि था कि वो दुकानों को 24X7 खुला नहीं रख पा रहे हैं.

ADVERTISEMENT

क्या दवाइयां घर मंगाई जा सकती हैं?

अपने घर के पास की केमिस्ट की दुकानों के अलावा, ऐसे कई हेल्पलाइन नंबर्स हैं. जो दवाइयां घर डिलीवर कर रहे हैं.

  • सीनियर सिटीजन, मुंबई, अहमदाबाद, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता और चंडीगढ़ में हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर के दवाई मंगा सकते हैं. आप इन हेल्पलाइन नंबर्स के बारे में यहां पढ़ सकते हैं. Caremongers India भी देशभर में सीनियर सीटिजन के लिए खाने और दवाई जैसे जरूरी सामान पहुंचा रहे हैं.
  • केंद्र सरकार ने भी जरूरी सामान के ट्रांसपोर्टेशन और डिलीवरी की निगरानी के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया है. आप 011-23062487 नंबर पर हेल्पलाइन से जुड़ सकते हैं.
  • आप 1MG, मेडलाइफ, नेटमेड्स, प्रैक्टो और MyUpchar के जरिए भी ऑनलाइन दवाई मंगा सकते हैं.
  • राज्य सरकारों ने भी COVID-19 से जुड़े सवालों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं, जिसे आप यहां देख सकते हैं.
ADVERTISEMENT

मैं दूर सरकारी अस्पताल से दवाई खरीदता हूं. क्या मुझे कर्फ्यू पास मिलेगा?

गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के मुताबिक, दवाई खरीदने के लिए कर्फ्यू पास की अनुमति है.

आप यहां पर कर्फ्यू पास और इसे कैसे लें, पढ़ सकते हैं.

केमिस्ट की दुकानों पर दवाइयों की कमी क्यों हो रही है?

प्रैक्टो, 1MG जैसी ई-फार्मेसी कंपनियां सप्लाई में परेशानी और डिलीवरी पर्सन में कमी का सामना कर रही हैं.

Livemint से बात करते हुए, MyUpchar के को-फाउंडर और सीईओ रजत गर्ग ने कहा कि “डिलीवरी वाले अधिकतर लोग अपने गांव के लिए निकल गए हैं और वो उपलब्ध नहीं हैं. दिल्ली में, 75% स्टाफ वापस आ गया है, लखनऊ में 30%.”

पैनिक में आ कर दवाइयां खरीद रहे लोग भी एक समस्या हैं. इससे दवाई की दुकानों की सप्लाई पर भी असर पड़ रहा है. Outlook India की रिपोर्ट में, ऑल इंडिया ड्रगिस्ट एंड केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष, राजीव सिंघल ने कहा, “पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और गुवाहटी के आगे उत्तर-पूर्वी राज्य डायबिटीज, कार्डिएक, रेस्पिरेट्री और कैंसर समेत कई बीमारियों की दवाई की कमी झेल रहे हैं.” इन सभी कारणों से ऐसा हो सकता है कि आपके आसपास की दवाई की दुकानों में दवाई नहीं मिल रही हो या उसकी कमी हो.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT