ADVERTISEMENTREMOVE AD

हरियाणा में किसानों का आंदोलन खत्म, MSP-FIR वापसी समेत इन बातों पर बनी सहमति

Haryana Farmers protest: किसानों को सूरजमुखी की फसल के लिए ₹6400 प्रति क्विंटल देने के लिए सरकार तैयार हुई.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

Haryana Farmers protest: हरियाणा के कुरुक्षेत्र में जारी किसानों का आंदोलन समाप्त हो गया है. हरियाणा की खट्टर सरकार ने किसानों की सूरजमुखी के बीज के लिए न्यूनतम समर्थन मुल्य की मांग को स्वीकार कर लिया है. इसके साथ-साथ प्रदर्शनकारी किसानों पर दर्ज सभी मुकदमें वापस लिए जाएंगे. गुरनाम सिंह चढूंनी समेत सभी नेताओं की कल रिहाई हो जायेगी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सरकार और किसानों के बीच किस बात पर बनी सहमति

  • किसानों को सूरजमुखी की फसल के लिए ₹6400 प्रति क्विंटल देने के लिए प्रशासन तैयार हुआ.

  • किसानों की सूरजमुखी की फसल ₹5000 प्रति क्विंटल बिकेगी जबकि ₹1400 प्रति क्विंटल भावांतर भरपाई योजना के तहत किसानों के खाते में भेजा जाएगा.

  • किसानों पर सभी मुकदमे होंगे खारिज. बुधवार शाम तक किसानों के बीच पहुंच जाएंगे गुरनाम सिंह चढूनी.

"आगे भी MSP पर लड़ाई पूरे देश में करेंगे"

किसानों के आंदोलन की समाप्ति की घोषणा करते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कुरुक्षेत्र में कहा, "आंदोलन समाप्त हुआ है. आज सभी रास्ते खोल दिए जाएंगे. हम इसलिए विरोध कर रहे थे कि हमारी फसल MSP पर खरीदी जाए. हम आगे भी MSP पर लड़ाई पूरे देश में करेंगे. भारत सरकार की MSP को लेकर जो दर है वह देना होगा.

सूरजमुखी के बीज के लिए न्यूनतम समर्थन मुल्य की मांग पर एक संयुक्त प्रेस वार्ता में किसान नेता करम सिंह मथाना ने कहा कि हमने एक हफ्ते तक संघर्ष किया है और आज आप सबके सहयोग से हमारी मांग को सरकार ने मान लिया है.

किसानों ने NH-44 किया जाम किया था

हरियाणा और दिल्ली को जोड़ने वाले नेशनल हाईवे को किसानों ने सोमवार, 12 जून से जाम कर दिया था. किसानों ने सरकार पर सूरजमुखी के बीज को MSP पर नहीं खरीदने का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन के तहत एनएच 44 पर मार्ग को रोकने का फैसला किया था.

राकेश टिकैत ने लगातार ये कहा कि हाईवे पर जाम की बात सब करते हैं लेकिन किसानों की बात कोई नहीं करता है. किसानों पर लाठी चलाई जा रही है. देश में एमएसपी पर बड़ा सवाल है, एमएसपी पर आंदोलन होंगे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×