पेट्रोल हो सकता है और महंगा,US के दबाव में ईरान से तेल आएगा कम
एक मालवाही जहाज से दिख रहा ईरान के चाबहार शहर का कालानतारी तेल बंदरगाह 
एक मालवाही जहाज से दिख रहा ईरान के चाबहार शहर का कालानतारी तेल बंदरगाह फोटो : रॉयटर्स 

पेट्रोल हो सकता है और महंगा,US के दबाव में ईरान से तेल आएगा कम

पेट्रोल-डीजल अभी और महंगा हो सकता है. अमेरिका और भारत के बीच 2+2 की बातचीत के महज एक सप्ताह बाद ही भारत ने ईरान से सितंबर और अक्टूबर में तेल का आयात आधा घटाने का फैसला किया है. भारत के तेल आयात में दस से बारह फीसदी हिस्सेदारी ईरान की है.

भारत चाहता है कि ईरान पर नवंबर से लगने वाले प्रतिबंधों की चपेट में न आए. इस प्रतिबंध के तहत भारत का अमेरिकी वित्तीय संस्थाओं से कारोबार प्रभावित हो सकता है.

रॉयटर्स की खबर के मुताबिक सितंबर और अक्टूबर में भारत की रिफाइनरियों की ओर से ईरान से मंगाए जाने वाले तेल की मात्रा दो करोड़ 40 लाख बैरल कम हो जाएगी. दरअसल अमेरिका 2015 में न्यूक्लियर समझौते से पीछे हटने के लिए सजा के तौर पर ईरान पर नए प्रतिबंध लाना चाहता है. इसके तहत ईरान के साथ सौदा करने वाले देशों को अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है.

भारत इन प्रतिबंधों से बचने के लिए ही ईरान से तेल आयात में कटौती कर रहा है. अमेरिका ने इस साल 6 अगस्त से ईरान पर कुछ वित्तीय प्रतिबंध लगाए हैं, इससे ईरान के पेट्रोलियम सेक्टर को चोट पहुंच सकती है. ये प्रतिबंध 4 नवंबर से लागू होंगे.

भारत चीन के बाद ईरानी तेल का दूसरा बड़ा ग्राहक है. भारत ईरान पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों को मान्यता नहीं देता. उसका कहना है कि वह सिर्फ संयुक्त राष्ट्र को प्रतिबंधों को ही मान्यता देता है. लेकिन अमेरिकी प्रतिबंधों के लागू होने से पहले ही भारत चाहता है कि उसे अमेरिका से रियायत मिल जाए. ऐसा इसलिए कि भारत का अमेरिकी वित्तीय व्यवस्था से गहरा नाता है. इसलिए अमेरिका कोई प्रतिबंध लगाता है तो भारत पर इसका बड़ा असर होगा.

2+2 की बातचीत के बाद भारत का रुख बदला

पेट्रोलियम मंत्रालय ने घरेलू रिफाइनरियों को कहा है वे तेल आयात में कटौती के लिए तैयार रहे. नवंबर से तेल आयात पूरी तरह बंद भी हो सकता है. हालांकि तेल कारोबार से जुड़े कुछ विश्लेषकों का कहना है कि कुछ रिफाइनरियों ने अपने कांट्रेक्ट का ज्यादातर तेल अपने पास स्टोर कर लिया है. इसलिए इसका ज्यादा असर नहीं भी पड़ सकता है.

पिछले सप्ताह भारत-अमेरिका 2+2 की बातचीत के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था कि अमेरिका भारत जैसे देश को प्रतिबंध से छूट दे सकता लेकिन पहले उसे ईरान से पूरी तरह कच्चे तेल का आयात रोकना होगा.डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट की वजह भारत के लिए तेल आयात और महंगा हो गया है. साथ ही भारत ईरान से तेल मंगाना नहीं छोड़ना चाहता क्योंकि इस पर उसे छूट मिल रही है.

ये भी पढ़ें : पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम से भड़के लोग, पूछा- कब आएंगे अच्छे दिन?

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो