ADVERTISEMENTREMOVE AD

Kashmir Files: Lapid के बयान पर बवाल, अनुपम खेर भड़के, विवेक अग्निहोत्री का तंज

Kashmir Files Controversy: इजराइल के राजदूत नोर गिलोन ने लापिड के बयान को शर्मनाक बताया.

Updated
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) के ज्यूरी प्रमुख और इजराइली फिल्म निर्माता नदव लापिड ने विवेक अग्निहोत्री की द कश्मीर फाइल्स की निंदा करते हुए इसे "प्रचार और अश्लील फिल्म" कहा. इसे लेकर अब विवाद बढ़ता नजर आ रहा है. इजराइल के राजदूत से लेकर अनुपम खेर कई लोगों की प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं.

द कश्मीर फाइल्स को इंडियन पैनोरमा सेक्शन के लिए चुना गया था और 22 नवंबर को प्रदर्शित किया गया था. सोमवार को प्रमुख ज्यूरी ने फिल्म की आचोलना की. अनुपम खेर ने प्रतिक्रिया में कहा है कि टूलकिट के बाद एक गिरोह सक्रिय हो गया है. देखिए नदव लापिड के बयान के बाद किसने क्या कहा-

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अनुपम खेर ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि, यदि होलोकॉस्ट सही है, तो कश्मीरी पंडितों का पलायन भी सही है. उन्होंने नदव लापिड के बयान को शर्मनाक बताया और कहा -

"ये पूर्व नियोजित लग रहा है क्योंकि इसके तुरंत बाद टूलकिट गिरोह सक्रिय हो गया. उनके बयान ने उन लोगों को भी पीड़ा दिया, जिन्होंने कई साल पहले इस त्रासदी को झेला था. ईश्वर उसे सद्बुद्धि दे ताकि वह मंच से हजारों-लाखों लोगों की त्रासदी को अपने एजेंडे को पूरा करने के लिए इस्तेमाल न करे."
अनुपम खेर, अभिनेता

इजराइल के राजदूत ने भी शर्मनाक बताया

भारत, श्रीलंका और भूटान में इजराइल के राजदूत नोर गिलोन ने लापिड के बयान को शर्मनाक बताते हुए कहा कि तुम्हें (नदव लापिड को) शर्म आनी चाहिए. उन्होंने कहा "भारतीय संस्कृति में कहा जाता है कि अतिथि भगवान के समान होता है. आपने जजों के पैनल की अध्यक्षता करने के भारतीय निमंत्रण का सबसे खराब तरीके से दुरुपयोग किया है."

उन्होंने कहा कि "मैं इस तरह के बयानों की कड़ी निंदा करता हूं. इस बयान का कोई औचित्य नहीं है. ये यहां कश्मीर मुद्दे की संवेदनशीलता को दर्शाता है." गिलोन ने कहा एक इंसान के रूप में मुझे शर्म आ रही है. हम अपने मेजबानों से इस बुरे तरीके के लिए माफी मांगना चाहते हैं.

हमारे जख्मों पर नमक छिड़का- अशोक पंडित

भारतीय फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने कहा कि IFFI के जूरी प्रमुख के रूप में नावद लापिड का चयन सूचना और प्रसारण मंत्रालय की ओर से एक बड़ी चूक है...फिलिस्तीन के हमदर्द से कोई क्या उम्मीद कर सकता है?

"मैं एक कश्मीरी पंडित के रूप में और जो नरसंहार का शिकार है, हमारी त्रासदी के चित्रण को अश्लील बताने वाले IFFI 2022 के जूरी प्रमुख नदव लैपिड के खिलाफ एक गंभीर कार्रवाई की मांग करता हूं. उन्होंने हमारे जख्मों पर नमक छिड़का है और इसलिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए."
अशोक पंडित, भारतीय फिल्म निर्माता
ADVERTISEMENTREMOVE AD

मिडवेस्ट इंडिया के लिए इजराइल के महावाणिज्यदूत कोब्बी शोशान ने कहा कि मैंने कश्मीर फाइल देखी और कलाकारों से मिला हूं. फिल्म के बारे में मेरी नदव लापिड से अलग राय है. उनके बयान के बाद मैंने नदव को अपनी राय बताई है. इसपर भारतीय टीवी एक्टर सुमंत रमन ने ट्वीट करते हुए इसे डैमैज कंट्रोल की कोशिश बताया है.

इस पूरे विवाद पर कश्नीर फाइल्स के निर्माता विवेक अग्निहोत्री ने भी इशारों-इशारों में तंज कसा है. उन्होंने कहा कि "सत्य सबसे खतरनाक चीज है. यह लोगों को झूठा बना सकता है."

नदव लापिड ने क्या कहा था? 

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) के ज्यूरी प्रमुख नदव लापिड ने कहा था कि "द कश्मीर फाइल्स फिल्म से हम सभी परेशान और हैरान थे. यह हमें एक प्रचार, अश्लील फिल्म की तरह लगा, जो इस तरह के एक प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के एक कलात्मक, प्रतिस्पर्धी वर्ग के लिए अनुपयुक्त है."

ADVERTISEMENTREMOVE AD

दरअसल, भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) को भारत सरकार आयोजित करती है. इस बार के IFFI समारोह में जूरी प्रमुख इजराइली फिल्म निर्माता नदव लापिड थे. लापिड ने कश्मीर फाइल्स पर ये बात समारोह के समापन कार्यक्रम में कही, जब भारत सरकार में मंत्री भी वहां मौजूद थे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×