ADVERTISEMENT

लखीमपुर कांड: जब पोती के चप्पल देख सिसक पड़े दादा- क्विंट ग्राउंड रिपोर्ट

Lakhimpur case: पुलिस ने लखीमपुर में दो नाबालिग बहनों की रेप-हत्या के मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है

Updated
भारत
2 min read
ADVERTISEMENT

Lakhimpur case: गन्ने के खेत के बगल से गुजरती ईंट की बनी पतली सड़क के किनारे पड़ा है राख का ढेर. और उसके ऊपर पड़ी है पीली चप्पलों की एक जोड़ी, जिसपर शायद किसी की नजर नहीं पड़ी थी. पिछले दो दिनों से लगातार हो रही बारिश में यह भीग रही है. आखिरकार एक कमजोर दिख रहे बुजुर्ग की नजर इसपर पड़ती है. चप्पलों पर टिकी उसकी एकटक निगाहों में अपनेपन का भाव है. उसकी जुबान शब्दों के लिए संघर्ष करती है और वह बुजुर्ग फूट-फूट कर रोने लगता है.

ADVERTISEMENT
यह चप्पल की जोड़ी उस बूढ़े दादा की 15 साल की छोटी पोती की थी जिसकी 17 साल की बड़ी बहन के साथ भी कथित तौर पर बलात्कार हुआ, दोनों की हत्या की गयी और लाश को पेड़ से लटका दिया गया.

मुश्किल से 100 मीटर दूर मौजूद पीड़ित परिवार में मातम छाया हुआ है. गुजर-बसर करने के लिए भी मशक्कत करने वाला यह गरीब परिवार अब जीवन भर का दर्द सह रहा है. उन्होंने अपनी दो बेटियों को खो दिया है, दोनों नाबालिग थीं.

17 साल की बड़ी बेटी ने स्कूल छोड़ दिया था और परिवार की देखभाल कर रही थी. मृत बेटियों के पिता ने बताया कि

“उसने (बड़ी बेटी) 8वीं क्लास के बाद स्कूल छोड़ दिया था. मेरी पत्नी का दो साल पहले एक ऑपरेशन हुआ था और तब से उसकी तबीयत खराब है. वो (बड़ी बेटी) ही अपनी मां और परिवार की देखभाल करती थी."

ऐसा लगता है लगभग सभी सड़कें अब गांव के एक कोने में मौजूद इस दो कमरों के साधारण घर की ओर जा रही हैं. घर के बरामदे में पड़ी चारपाई पर मृत बहनों की मां बेहोश पड़ी है. उन्हें आस-पड़ोस की महिलाओं ने घेरा हुआ है, जो 14 सितंबर को हुई इस घटना के बाद से उनके साथ हैं.

ADVERTISEMENT

एक कमरे में, दरवाजे के बगल में रखी सिलाई मशीन पर बंद पर्दे के बावजूद सूरज की कुछ रोशनी गिर रही है. परिवार को अपनी बड़ी बेटी के लिए इसी सिलाई मशीन को खरीदने के लिए बचत करनी पड़ी थी. वह घर में पड़े बेकार कपड़ों पर सिलाई सीखती थी. एक रिश्तेदार ने कहा कि "उसने सब काम किए, लेकिन ज्यादा पैसा नहीं कमा रही थी."

छोटी बहन 10वीं क्लास में पढ़ रही थी. वह पास के एक स्कूल में जाती थी, लेकिन परिवार उसको आगे तक पढ़ाने के लिए इच्छुक नहीं था. अपनी बड़ी बहन की तरह वह भी आर्थिक तंगी के कारण स्कूल छोड़ देती.

परिवार अभी तक इस त्रासदी को ठीक से समझ भी नहीं पाया है. पुलिस की जांच ने इसे और खराब कर दिया है. पुलिस ने अपने बयान में दावा किया है कि लड़कियों को उनके हत्यारे बहला कर ले गए थे, जबकि पीड़ित परिवार इसको सिरे से नकार रहा है.

मृतक लड़कियों के भाई ने कहा कि "उन्हें (पुलिस) कैसे पता कि उन्हें (बहनों को) बहला कर ले जाया गया था? क्या वे (पुलिस) यहां खुद देखने के लिए थे?"

लखीमपुर खीरी पुलिस ने दोनों लड़कियों के बलात्कार और हत्या के मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले को सुलझाने का दावा किया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×