ADVERTISEMENT

नीति आयोग की रिपोर्ट पर बोले लालू यादव - चुल्लू भर पानी में डूब मरें नीतीश कुमार

नीति आयोग की रिपोर्ट में गरीबी, शिक्षा, स्वास्थ्य समेत 7 सूचकांकों में बिहार की स्थिति बेहद खराब बताई गई है.

Updated
भारत
2 min read
<div class="paragraphs"><p>लालू प्रसाद यादव</p></div>
i

नीति आयोग (Niti Aayog) की हालिया रिपोर्ट को लेकर आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. लालू ने कहा कि नीति आयोग की रिपोर्ट में बिहार फिसड्डी राज्य है, इसलिए नीतीश कुमार को चुल्लू भर पानी में डूबकर मर जाना चाहिए.

ADVERTISEMENT

लालू प्रसाद यादव ने नीति आयोग की हालिया रिपोर्ट को लेकर कहा, ''नीति आयोग सहित मूल्यांकन करने वाली अनेक प्रतिष्ठित संस्थाओं की बेरोजगारी, गरीबी, विकास, विधि व्यवस्था, शिक्षा एवं स्वास्थ्य क्षेत्रों की बहुआयामी रिपोर्ट्स में लगातार बिहार देश में सबसे निचले पायदान पर है। नीतीश कुमार को अब चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए"


इससे पहले आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी नीतीश सरकार को नीति आयोग की इस रिपोर्ट को लेकर घेरा था.

नीति आयोग की दूसरी रिपोर्ट के 7 सूचकांकों में भी बिहार की सबसे बुरी और खराब स्थिति है. डबल इंजन सरकार के पास कोई तार्किक जवाब नहीं है.''
तेजस्वी यादव,

क्या था रिपोर्ट में

नीति आयोग ने बुधवार को नेशनल मल्टीडाइमेंशनल पोवर्टी इंडेक्स-बेसलाइन रिपोर्ट जारी की है. इसमें 7 प्रमुख सूचकांकों में बिहार की स्थिति बेहद खराब बताई गई है. रिपोर्ट में बताया गया है कि बिहार की 51.99 फीसदी आबादी गरीबी है. वहीं लगभग 52 फीसदी आबादी को पोषक आहार आहार नहीं मिल रहा है.

मैटरनल हेल्थ, इलेक्ट्रिसिटी, स्कूल अटेंडेंस और कुकिंग फ्यूल आदि के मामलों में भी बिहार की स्थिति बहद खराब बताई गई है. इसी को लेकर विपक्ष पार्टियों राज्य में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार पर हमलावर है.

ADVERTISEMENT

राज्य सरकार ने क्या कहा

नीति आयोग की रिपोर्ट को राज्य सरकार ने खारिज कर दिया है. ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने तो इस पूरी रिपोर्ट को आधारहीन और झूठ का पुलिंदा बता दिया है.

वहीं बिहार बीजेपी ने भी नीति आयोग की रिपोर्ट पर सवाल उठाए हैं. पार्टी प्रवक्ता प्रेमरंजन पटेल ने कहा कि नीति आयोग को बिहार आकर बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में किए गए काम को देखना चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT