ADVERTISEMENT

सूटकेस में शव का डरावना सच,मर्जी से शादी की तो पिता ने मारी गोली-मां भी गिरफ्तार

Mathura murder case: पुलिस ने बताया कि उन्हें हत्या में इस्तेमाल गाड़ी, खोखा कारतूस और लड़की का फोन भी बरामद हुआ है.

Published
भारत
2 min read

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा (Mathura) में 18 नवंबर को मिली अज्ञात युवती के शव को लेकर पुलिस ने खुलासा किया है. केस में पुलिस ने युवती के माता- पिता को ही गिरफ्तार किया है. उनपर युवती की गोली मारकर हत्या करने का आरोप है.

ADVERTISEMENT

एक्सप्रेसवे के पास बैग में मिला था शव

मथुरा में यमुना एक्सप्रेसवे के पास एक ट्रॉली बैग के अंदर पॉलीथिन में लिपटी एक युवती का शव मिला था. शव मिलने के बाद पुलिस की कई टीमें युवती की लाश की शिनाख्त के लिए लगाई गई.

"18 तारीख को हमें एक लाल सूटकेस में एक लड़की का शव मिला जिसकी पहचान दिल्ली के बदरपुर निवासी के रूप में हुई. युवती की हत्या उसके माता-पिता ने ही 17 तारीख को घर में गोली मारकर कर दी थी. माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया गया है."
मार्तंड प्रकाश सिंह, SP सिटी, मथुरा

मजदूरों ने लावारिस सूटकेस देखा और पुलिस को फोन किया जिसके बाद पुलिस ने पहुंचकर उसे खोला और शव मिला. जहां सूटकेस मिला था, वहां पहुंचे पुलिस अधिकारी महावन आलोक सिंह ने कहा कि फोरेंसिक टीम ने सबूत और संभावित सुराग जुटाए हैं.

पुलिस की जांच में पता चला की यह युवती दिल्ली के थाना बदरपुर इलाके में मोरबन्द की रहने वाली थी, जिसकी शिनाख्त उसकी मां ब्रजबाला और भाई आयुष ने की. इसके बाद पूछताछ में पुलिस को पता चला कि युवती आयुषी के पिता नीतेश ने ही अपनी पिस्टल से दो गोलियां मार उसकी हत्या की थी. जिसमें उसकी मां भी शामिल थी.

इसके बाद पूरे मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है.

"हत्या में उपयोग गाड़ी, खोखा कारतूस और लड़की का फोन बरामद हुआ है. हत्या का कारण माता-पिता की मर्जी के बिना एक लड़के से शादी करना है. लड़की ने 1 साल पहले आर्य समाज मंदिर में छत्रपाल नामक लड़के से शादी कर ली थी, इस कारण इनके बीच मतभेद होते थे."
मार्तंड प्रकाश सिंह, SP सिटी, मथुरा

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×