ADVERTISEMENTREMOVE AD

मुलायम सिंह यादव को सम्मान, BJP को रामभक्तों से डर क्यों नहीं लग रहा?

क्या बीजेपी ने मुलायम को कार सेवकों पर गोली चलाने वाले आरोपों से मुक्त कर दिया है?

Published
भारत
3 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

समाजवादी पार्टी के दिवंगत नेता मुलायम सिंह यादव को मरणोपरांत पद्म विभूषण सम्मान दिए जाने को लेकर प्रदेश में राजनीति गर्म हो गई है. जहां समाजवादी पार्टी नेताओं ने अपने दिवंगत नेता के लिए भारत रत्न की मांग की है वहीं दूसरी तरफ सरकार के इस फैसले को बदलते राजनीतिक समीकरण से भी जोड़कर देखा जा रहा है.

2022 के यूपी विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी ने कार सेवकों पर गोली चलवाने वाले आरोपों के साथ मुलायम सिंह यादव पर सीधा निशाना साधा था. मुलायम सिंह यादव को "मुल्ला मुलायम" की उपाधि देने वाली बीजेपी ने अचानक उन को पद्म विभूषण सम्मान से क्यों नवाजा है?

इसको लेकर कई प्रकार के कयास लगाए जा रहे हैं. इसमें एक है यादव वोट बैंक. जानकारों की मानें तो पिछले कुछ चुनावों में बीजेपी को यादवों के वोट मिले हैं. इस बात की पुष्टि हाल ही में हुए 2022 विधानसभा चुनाव के नतीजों में भी होती है. यादव लैंड के जिले मैनपुरी, इटावा एटा, कासगंज, फिरोजाबाद, औरैया, कन्नौज और फर्रुखाबाद की 29 सीटों पर भाजपा ने 18 सीटों पर परचम लहराया.

लेकिन हाल ही में शिवपाल यादव के समाजवादी पार्टी में आ जाने के बाद यादव वोट बैंक एक बार फिर अखिलेश यादव के साथ एकजुट हो सकता है. ऐसे में बीजेपी मुलायम सिंह यादव को सम्मानित करके यादवों को यह संदेश देना चाहती है कि उन्होंने मुलायम सिंह यादव को कार सेवकों पर गोली चलाने वाले आरोपों से मुक्त कर दिया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस मुद्दे पर बातचीत करते हुए लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार रतन मणिलाल ने क्विंट हिंदी से कहा

"मुलायम सिंह यादव को यह सम्मान ऐसे समय दिया जा रहा है जब यादव समाज अखिलेश यादव को अपने नए नेता के रूप में देख रहा है. बीजेपी के लिए यह सही समय है यह बताने के लिए कि अगर अखिलेश यादव आपके नए नेता हैं तो हमने उनके पिता को सम्मान दिया है. मुझे लगता है यह बीजेपी की रणनीति का हिस्सा है यह दावा करना कि ज्यादातर यादव राम भक्त हैं. वह (यादव) भी इस बात को मानेंगे कि मुलायम सिंह यादव जिनपर कार सेवकों पर गोली चलाने का आरोप लगता है उन्हें बीजेपी ने सम्मानित किया और शायद माफ भी कर दिया है. यह बीजेपी की तरफ से यादवों में एक सकारात्मक संदेश भेज सकता है और इससे बीजेपी यादव वोट बैंक में एक बड़ी चोट पहुंचा सकती है."

बीजेपी के वोटरों का एक बड़ा तबका मुलायम सिंह यादव को हिंदू कारसेवकों पर गोली चलाने का आरोपी मानता है. ऐसे में मुलायम को सरकार की तरफ से सम्मान मिलने से क्या यह तबका बीजेपी से नाराज हो जाएगा और क्या इससे आने वाले समय में कोई राजनीतिक हानि हो सकती है पार्टी को? इस सवाल के जवाब में उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार रतन मणिलाल कहते हैं कि बीजेपी जानती है कि अगर कोई तबका नाराज भी होता है तो पार्टी से टूटकर कहीं जाएगा नहीं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
बीजेपी वोटरों के एक तबके को नाराजगी है कि राम जन्मभूमि आंदोलन के आलोचक को इस तरीके से सम्मानित नहीं करना चाहिए था. उनके लिए यह राम भक्तों के अपमान की तरह है. जिस आदमी ने सरेआम इस बात को स्वीकारा था कि उसने कारसेवकों पर गोली चलवाई थी उसको यह सम्मान नहीं मिलना चाहिए था. लेकिन बीजेपी के जिस तबके को यह सम्मान रास नहीं आ रहा है. मुझे नही लगता वह बीजेपी को छोड़कर कांग्रेस, समाजवादी पार्टी या किसी और पार्टी में जाएगा. वह बीजेपी के साथ ही रहेंगे और पार्टी को इसी बात का भरोसा है,"
ADVERTISEMENTREMOVE AD

विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि जिस मुलायम सिंह यादव को विलेन बना कर उत्तर प्रदेश की राजनीति में बीजेपी फली फूली उसी मुलायम को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजा जाना नए परिवेश की राजनीति का हिस्सा है. मंदिर राजनीति को भुना चुकी बीजेपी जातीय समीकरण के फायदों से लगातार जीत का स्वाद चख रही है. ऐसे में यादव वोट बैंक उनके लिए उस अभेद्द किले की तरह रहा है जहां पर उन्होंने सेंध मारने की कोशिश तो की लेकिन अभी तक बड़ी सफलता नहीं मिली है. उत्तर प्रदेश में यादवों के सबसे बड़े नेता को मरणोपरांत सम्मानित कर बीजेपी यादव वोट बैंक में भले ही सेंध ना लगा पाए लेकिन अपनी ओर खींचने का प्रयास जरूर किया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×