ADVERTISEMENT

मुंबई ड्रग्स मामले में NCP बनाम NCB- एजेंसी ने कहा, गवाहों से कोई लेना-देना नहीं

NCB ने एक बार फिर क्रूज छापेमारी को लेकर अपनी सफाई दी है, कहा- सभी आरोप निराधार

Published
भारत
2 min read
मुंबई ड्रग्स मामले में NCP बनाम NCB- एजेंसी ने कहा, गवाहों से कोई लेना-देना नहीं
i

मुंबई क्रूज शिप ड्रग्स मामले (Mumbai Drugs Case) में जांच एजेंसी नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) लगातार सवालों के घेरे में है. सत्ता में काबिज पार्टी एनसीपी की तरफ से एक बार फिर एजेंसी को घेरा गया तो एनसीबी की तरफ से फिर सफाई सामने आई. एनसीबी ने फिर साफ किया है कि उनका किसी भी गवाह के साथ कोई लेना देना नहीं है.

ADVERTISEMENT

गवाहों को लेकर एनसीबी की सफाई

जांच एजेंसी की तरफ से सफाई देते हुए डीडीजी ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा कि, NCB एक निष्पक्ष संस्था है जो देश मे नशामुक्ति के लिए प्रतिबद्ध है. एक जानकारी के आधार पर कॉर्डेलिया क्रूज पर रेड की गई और 8 लोगों को हिरासत में लिया गया. जिन गवाहों को बीजेपी नेता बताया जा रहा है, उन्हें लेकर सिंह ने कहा,

"इस कार्रवाई में इंडिपेंडेंट विटनेसेस भी होते हैं. इसमे 9 स्वतंत्र गवाह शामिल थे. इस ऑपरेशन के पहले एनसीबी इसमें शामिल गोसावी और भानुशाली को नहीं जानती थी. जितने लोग डिटेन किए गए उनसे न्यायोचित व्यवहार किया गया."
ADVERTISEMENT

सबूतों के अभाव में छोड़े गए बाकी लोग

एनसीबी की तरफ से आगे अपनी सफाई में कहा गया कि, "उस दिन कुल 14 लोगों को NCB कार्यालय लाया गया. उनकी पूछताछ की गई. 8 लोगों के खिलाफ सबूत मिले तो उन्हें अरेस्ट किया गया. बाकी 6 लोगों को सबूत के अभाव की वजह से छोड़ा गया."

अधिकारी ने कहा कि, NCB के खिलाफ लगे सभी आरोप निराधार है. पूरी कारवाई नियमों के तहत हुई है. NCB अपना काम प्रोफेशनली कर रही है.
ADVERTISEMENT

एनसीबी को क्यों देनी पड़ रही सफाई?

ये पिछले कुछ दिनों में लगातार दूसरी बार है जब एनसीबी को खुद सामने आकर सफाई देनी पड़ी है. क्योंकि महाराष्ट्र सरकार में शामिल एनसीपी लगातार एजेंसी पर हमलावर है. एनसीपी नेता नवाब मलिक आरोप लगा रहे हैं कि क्रूज पर हुई ये पूरी रेड एक फर्जीवाड़ा है. इसमें शाहरुख खान के बेटे को फंसाने की प्लानिंग थी. यहां तक कि मलिक ने मुंबई पुलिस से जांच करवाने की बात भी कही है. साथ ही ये आरोप लगाया कि, रेड के दौरान कुछ और लोग भी पकड़े गए थे, जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया. उनमें से एक ऋषभ सचदेव भी था, जो बीजेपी युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष मोहित कंबोज का साला है.

ADVERTISEMENT

एनसीपी की तरफ से लगाए गए इन्हीं आरोपों का जवाब अब एनसीबी ने दिया है. इससे पहले भी एनसीपी ने गोसावी और भानुशाली को लेकर गंभीर सवाल उठाए थे. भानुशाली आरोपियों का हाथ पकड़कर ले जाते हुए देखे गए थे, जिसके बाद उनकी तस्वीरें पीएम मोदी, अमित शाह और फडणवीस के साथ सामने आईं. बाद में एनसीबी ने सामने आकर बताया था कि ये दोनों गवाह हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और india के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×