अधूरी पढ़ाई भी आएगी काम, 34 साल बाद नई शिक्षा नीति- 10 बड़ी बातें 

भारत में 34 साल बाद पहली बार नई शिक्षा नीति को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है

Updated
भारत
3 min read

भारत में 34 साल बाद पहली बार नई शिक्षा नीति को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है. जिसमें हायर एजुकेशन और स्कूली शिक्षा को लेकर कई अहम बदलाव हुए हैं. सबसे बड़ी राहत उन छात्रों को दी गई है, जिन्हें किसी कारण से अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ती है. अब उनके लिए नई शिक्षा नीति में एक तय समयसीमा में वापस आने और सर्टिफिकेट या डिप्लोमा का विकल्प दिया गया है. इसके अलावा बोर्ड एग्जाम्स को लेकर भी कुछ बदलाव होने जा रहे हैं. नई शिक्षा नीति को लेकर यहां पढ़िए 10 बड़ी बातें.

  1. जीडीपी का कुल 6 फीसदी शिक्षा पर खर्च करने का लक्ष्य तैयार किया गया है. फिलहाल भारत की जीडीपी का 4.43% हिस्सा शिक्षा पर खर्च होता है. वहीं मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर अब शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया है.
  2. अगर आप किसी पारिवारिक समस्या या फिर किसी अन्य कारण से पढ़ाई को बीच सेमेस्ट में छोड़ते हैं तो अब मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम के तहत अगर आपने एक साल पढ़ाई की है तो सर्टिफिकेट, दो साल बाद डिप्लोमा और तीन या चार साल के बाद डिग्री दी जाएगी. यानी आप अधूरी पढ़ाई का भी कहीं इस्तेमाल कर सकते हैं.
  3. अगर आपने पढ़ाई बीच में छोड़ दी और वापस कुछ महीने या कुछ साल बाद उसे पूरा करना चाहते हैं तो उसका भी प्रावधान है. आपने अगर तीसरे साल में ब्रेक लिया है और तय समय सीमा में वापस आते हैं तो आपको सीधे उसी साल में एडमिशन मिल जाएगा.
  4. आज अगर 4 सेमेस्टर या 6 सेमेस्टर पढ़ने के बाद मैं किसी कारणवश आगे नहीं पढ़ सकता हूं तो मैं आउट ऑफ द सिस्टम हो जाता हूं. लेकिन अब मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम में अब एक साल के बाद सर्टिफिकेट, दो साल के बाद डिप्लोमा और तीन या चार साल के बाद डिग्री दी जाएगी.
  5. रिसर्च में जाने वालों के लिए भी नई व्यवस्था की गई है. उनके लिए 4 साल के डिग्री प्रोग्राम का विकल्प दिया जाएगा. यानी तीन साल डिग्री के साथ एक साल एमए करके एम फिल की जरूरत नहीं होगी. इसके बाद सीधे पीएचडी में जा सकते हैं. हालांकि इस पर अभी सफाई की जरूरत है कि
  6. मल्टीपल डिसिप्लनरी एजुकेशन में अब आप किसी एक स्ट्रीम के अलावा दूसरा सब्जेक्ट भी ले सकते हैं. यानी अगर आप इंजीनियरिंग कर रहे हैं और आपको म्यूजिक का भी शौक है तो आप उस विषय को भी साथ में पढ़ सकते हैं.
  7. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी हर कॉलेज और यूनिवर्सिटी को एक एंट्रेंस एग्जामिनेशन ऑफर करेगी, ताकि बच्चे एक कॉमन एग्जाम से यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले सकें. ये हायर एजुकेशन के लिए कॉमन एंट्रेंस एग्जामिनेशन होगा.
  8. कहा गया है कि पांचवी कक्षा तक स्कूलों में मातृभाषा या क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जाए. हो सके तो इसी तरह 8वीं तक पढ़ाया जाए. टीचर्स के लिए एक नेशनल प्रोफेशनल स्टैंडर्ड तैयार किया जाएगा. जिससे टीचर्स का रोल क्या है और उन्हें किस बेंचमार्क तक पहुंचना है ये तय किया जाएगा.
  9. स्कूली बच्चों के रिपोर्ट कार्ड में तीन तरह के मूल्यांकन होंगे. जिसमें पहला मूल्यांकन बच्चा खुद करेगा, दूसरा उसके सहपाठी करेंगे और तीसरा टीचर्स करेंगे. इस रिपोर्ट कार्ड में बच्चे की लाइफ स्किल पर भी हर बार चर्चा होगी.
  10. बोर्ड एग्जाम के महत्व को कम करने के लिए अब इन्हें दो बार कराए जाने की योजना भी बनाई जा रही है. वहीं बोर्ड एग्जाम में हर सब्जेक्ट को दो लेवल पर भी ऑफर किया जा सकता है. बोर्ड एग्जाम के लिए कहा गया है कि इसमें सिर्फ नॉलेज टेस्ट की जाए. जो रटकर याद किया गया है उसे टेस्ट नहीं किया जाए. उन चीजों को इस एग्जाम में टेस्ट करें जो रोजमर्रा की चीजों में छात्र इस्तेमाल करेंगे.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!