फीस विवाद के बीच सरकार के पूर्व सलाहकार ने गिनाईं JNU की 11खूबियां

JNU में आपको वह लोग मिलेंगे जो आपकी असुरक्षाओं पर आसानी से बात कर सकेंगे

Updated
भारत
2 min read
भारत सरकार के पूर्व सलाहकार अमिताभ मट्ठू
i

JNU में बढ़ी हुई फीस पर छात्रों के प्रदर्शन के बीच यूनिवर्सिटी के बारे में लोगों की बहुत सारी गलतफहमियां सामने आई हैं. लेकिन इन गलतफहमियों का पूर्व छात्रों समेत, बहुत सारे लिखने-पढ़ने वाले लोगों ने जवाब दिया है.

मशहूर लेखक, विचारक और प्रोफेसर अमिताभ मट्टू ने ऐसी 11 वजहें गिनाई हैं, जो JNU को बेहद खास बनाती हैं. अमिताभ मट्टू के मुताबिक,‘आपकी कोई भी पृष्ठभूमि हो, आप JNU में अपनी शख्सियत के साथ आराम से रह सकते हैं.’ मटटू भारत सरकार के पूर्व कैबिनेट स्तरीय सलाहकार भी रह चुके हैं. उन्हें 2009 में पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था.

मट्टू का कहना है कि, ‘JNU वह जगह है जहां भारत की बहुलता की बेहतर समझ बनती है और छात्र लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बेहतर तरीके से समझते हैं.’

मटठू ने ट्विटर पर लिखा, '50 साल पहले JNU बना. यह 11 कारण हैं, जो JNU को खास बनाते हैं.'

  • JNU वह जगह है, जहां आप अपनी शख्सियत के साथ आराम से रह सकते हैं. यहां आपकी पृष्ठभूमि कोई मायने नहीं रखती.
  • JNU वह जगह है, जहां भारत की बहुलता, लोकतंत्र की शक्ति को समझने की शुरूआत करती है.
  • JNU बतौर कम्यूनिटी रहने के लिए बहुत शानदार जगह है.
  • JNU पूरी तरह एक अहिंसक जगह है.
  • पूरे NCR में JNU सबसे जेंडर फ्रेंडली जगह है.
  • JNU एक ऐसी कम्यूनिटी है, जहां आप हर दिन, हर किसी से, कुछ न कुछ सीखते हैं.
  • बेहद खराब दौर में भी JNU में आदर्शवाद जिंदा रहता है. (आपातकाल के दौर में भी)
  • JNU आपको एक संवेदनशील, ईमानदार नागरिक बनाता है, जो उन वंचित तबकों के बारे में फिक्रमंद होते हैं, जिनके बारे में सत्ता प्रतिष्ठान बहुत कम सोचते हैं.
  • JNU दुनिया में जिज्ञासु लोगों की सबसे ज्यादा घनत्व वाली जगह है. 100 मीटर के भीतर आपको JNU में ऐसे लोग मिल जाएंगे जो आपकी सबसे बड़ी असुरक्षाओं के बारे में जानना-सुनना पसंद करेंगे.
  • JNU अभी भी एक ऐसी जगह है, जहां किसी भी तरह की ऊंच-नीच नहीं मानी जाती.
  • अंत में जेएनयू वह संस्थान है, जो इस देश का कोई भी संस्थान बनना चाहता है.

बता दें जेएनयू में बढ़ी हुई फीस के खिलाफ आंदोलन छे़ड़ रखा है. यूनिवर्सिटी में सर्विस चार्ज, डिपॉजिट, रूम रेंट और मेस के किराए को मिलाकर करीब 6 गुनी वृद्धि की गई है.

पढ़ें ये भी: सबरीमाला: सभी महिलाओं की एंट्री पर केरल सरकार का यू टर्न?

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!