फोर्टिस के फाउंडर भाइयों के बीच मारपीट, मलविंदर घायल
कभी ये भी दिन थे.....
कभी ये भी दिन थे.....(फोटो: रॉयटर्स)

फोर्टिस के फाउंडर भाइयों के बीच मारपीट, मलविंदर घायल

फोर्टिस हेल्थकेयर के संस्थापक भाइयों मलविंदर और शिविंदर सिंह के बीच मारपीट की खबरें हैं. संपत्ति विवाद में दोनों के बीच मारपीट हुई है. मलविंदर सिंह ने आरोप लगाया है कि उनके छोटे भाई शिविंदर सिंह ने उनके साथ मारपीट की. मलविंदर ने एक वॉट्सग्रुप ग्रुप पर फोटो भेजा है, जिसमें उनका हाथ टूटा हुआ दिखाई दे रहा है.

मलविंदर का कहना है कि उनके छोटे भाई शिविंदर सिंह ने उनसे और परिवारवालों से मारपीट की और धमकियां भी दी. मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह के बीच पिछले कुछ सालों से संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा है.

मलविंदर और शिविंदर ने 1200 करोड़ उड़ा दिए

मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह भाइयों ने दौलत खूब कमाई पर उसे गंवाने में भी उतनी ही तेजी दिखाई. उन्होंने शौक ही शौक में चार्टर्ड एयरलाइंस बिजनेस खोला और 1200 करोड़ रुपए उड़ाकर जमीन पर ला दिया. दोनों भाइयों के पास बड़ा कारोबार था लेकिन पहले दवा कंपनी रैनबैक्सी बेची, फिर हॉस्पिटल और वित्तीय कारोबार का धंधा बेचने की नौबत भी आ गई.

ये भी पढ़ें : बड़े भाई मलविंदर ने बिजनेस ‘बर्बाद’ कर दिया,शिविंदर ने मुकदमा ठोका

गुरुजी के बेटे बने बिजनेस पार्टनर

दोनों भाइयों ने लिगारे एविएशन कंपनी बनाई जो विमान और हेलीकॉप्टर किराए पर देती थी. लेकिन इस धंधे में उन्होंने राधा स्वामी सत्संग के गुरु गुरिंदर सिंह ढिल्लों के दोनों बेटों को गुरप्रीत और गुरकीरत को पार्टनर बना लिया.

कंपनी रजिस्ट्रार को दी गई जानकारी के मुताबिक एविएशन का बिजनेस चलाने की जिम्मेदारी संजय गोधवानी को दी गई थी. वो फेमिली फ्रेंड सुनील गोधवानी के भाई हैं. इन सभी ने मिलकर एविएशन बिजनेस चलाया पर पूरी कंपनी बंद हो गई.

आसमां में छाने की ख्वाइश जमीं पर ले आई

दोनों भाइयों ने जब 2006 में चार्टर्ड एयरलाइंस को खऱीदा तब वो अरबपति थे. उन्होंने दो साल बाद रैनबैक्सी 4.6 अरब डॉलर में जापान की डाइची सैंक्यो को बेच दी. रेन एयर सर्विस को रैनबैक्सी की सब्सिडियरी विद्युत इन्वेस्टमेंट ने खरीदा.

लेकिन इस बात से दोनों भाइयों की आर्थिक हालत बिगड़नी शुरू हो गई और कुछ सालों में वो कर्ज के बोझ में दब गए.

लिगारे एविएशन की दिक्कतें

  • 2015-16 में कस्टम ने 11 में 7 विमान जब्त
  • कई डायरेक्टरों ने कंपनी छोड़ी
  • कमाई 70 परसेंट घटी
  • कुल मिलाकर 1004 करोड़ का घाटा

पहले उड़ा फिर जमीन पर

रेलिगेयर वोयाज बनी और 13 दिन के अंदर इसने रेन एयर को 2.6 करोड़ रुपए में खरीद लिया. इसके बाद कंपनी का नाम बदलकर लिगारे एविएशन रख दिया गया.

अगले 5 साल में 2.6 करोड़ रुपए की कंपनी 668 करोड़ रुपए की हो गई. लेकिन इस पर 641 करोड़ का कर्ज भी हो गया.

धंधा फेल हुआ तो गुरु जी की फैमिली ने रकम वापस ले ली

गुरुजी की फेमिली को नुकसान ना हो इसके लिए सिंह भाइयों ने लिगारे एविएशन में उनका हिस्सा खरीद लिया.

ब्लूमबर्ग क्विंट ने मुताबिक उसने ढिल्लों और गोधवानी परिवार से जानकारी मांगी है जिसका जवाब अभी तक नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें : मलविंदर और शिविंदर ने 1200 करोड़ उड़ा दिए

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो