ADVERTISEMENT

बिना मीडिया,नेता के कैसे बड़ा बना RRB छात्र आंदोलन,24 जनवरी से पहले क्या हुआ था?

जमीन पर उतरने से पहले ये छात्र आंदोलन कई दिनों तक सोशल मीडिया पर चलता रहा

Published
भारत
5 min read
बिना मीडिया,नेता के कैसे बड़ा बना RRB छात्र आंदोलन,24 जनवरी से पहले क्या हुआ था?
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

RRB-NTPC के रिजल्ट और ग्रुप D में दूसरे चरण को जोड़े जाने के विरोध में 24 जनवरी को पटना में शुरू हुए छात्र आंदोलन की आवाज दिल्ली तक सुनाई दी. बिहार के अलग-अलग जिलों में 3 दिनों तक जमीन पर चले प्रदर्शन से केंद्र सरकार पूरी तरह से हिल गई और आनन-फानन में परीक्षाओं को स्थगित करते हुए छात्रों की समस्याओं का निपटारा करने के लिए कमेटी गठित कर दी गई.

ADVERTISEMENT

लेकिन इस फिजिकल प्रोटेस्ट की पूरी रूप रेखा वर्चुअल मीडियम में लिखी गई थी. जमीन पर उतरने से पहले ये आंदोलन कई दिनों तक सोशल मीडिया पर चलता रहा लेकिन न तो मीडिया को उसकी फिक्र हुई और न ही सरकार के कान पर जूं रेंगी. लेकिन छात्रों ने जैसे ही सड़क पर कदम रखे और आंदोलन उग्र हुआ, मीडिया से लेकर सरकार तक जाग गई.

फिजिकल प्रोटेस्ट को लेकर छात्रों के ट्वीट

ट्विटर ग्रैब

ADVERTISEMENT

सोशल मीडिया पर कब और कैसे शुरू हुआ आंदोलन?

14 जनवरी, 2022 को RRB-NTPC के CBT 1 का रिजल्ट आया. रिजल्ट से नाखुश अभ्यर्थी छिटपुट तरीके से अपनी बात सोशल मीडिया पर लिखने लगे. अभ्यर्थियों के साथ ही तमाम कोचिंग संचालक भी रिजल्ट में अनियमितता का आरोप लगाकर अभ्यर्थियों को सोशल मीडिया पर आवाज उठाने के लिए प्रेरित करते रहे. खान सर जैसे कई टीचरों ने अपने यूट्यूब चैनल के कई वीडियो में अभ्यर्थियों को ऑनलाइन प्रोटेस्ट करने का तरीका समझाया. ट्विटर पर ट्रेंड कराने के लिए बाकायदा तारीख और हैशटैग निर्धारित किए गए.

ADVERTISEMENT

खान सर और नवीन सर छात्रों को ऑनलाइन प्रोटेस्ट के लिए समझाते हुए

यूट्यूब ग्रैब

18 जनवरी को अपने एक वीडियो में खान सर ये बताते हुए दिखाई पड़े कि ये ट्विटर ट्रेंड कम से कम एक हफ्ते तक चलना चाहिए तभी सरकार अभ्यर्थियों की बात सुनेगी. 18 जनवरी के लिए #RRBNTPC_1student_1result और #RailwayMinister_SaveStudentsLife ट्रेंड डिसाइड हुआ था. छात्रों के साथ ही कई कोचिंग संचालकों ने भी इन हैशटैग्स पर ट्वीट किए. सूत्रों के मुताबिक इस ऑनलाइन कैम्पेन के लिए तमाम कोचिंग संचालक लगातार एक-दूसरे के संपर्क में थे और वो ही आपस मे हैशटैग डिसाइड कर अपनी-अपनी कोचिंग में छात्रों को बताया करते थे ताकि एक समय पर एक ही हैशटैग ज्यादा से ज्यादा बार इस्तेमाल हो जिससे वो लगातार ट्रेंड में बना रहे.

ADVERTISEMENT

छात्रों के आंदोलन को विदेश से भी मिला समर्थन

अभ्यर्थियों के समर्थन में एक्टिविस्ट और पत्रकार के ट्वीट

ट्विटर ग्रैब

लाखों की संख्या में हो रहे ट्वीट्स की वजह से ये हैशटैग ट्विटर पर लगातार ट्रेंड करते रहे. इस कैम्पेन में हंसराज मीणा जैसे एक्टिविस्ट और रांडा हबीब जैसी विदेशी पत्रकारों ने भी अभ्यर्थियों के समर्थन में ट्वीट किए. इसके अलावा कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई (NSUI) के अध्यक्ष नीरज कुंदन समेत कई दूसरे छात्र नेताओं ने भी अभ्यर्थियों का समर्थन किया. देखते ही देखते #RRBNTPC_1student_1result ट्रेंड पर 9 मिलियन से ज्यादा ट्वीट हो गए.

ADVERTISEMENT

छात्रों के समर्थन में NSUI नेताओं के ट्वीट

ट्विटर ग्रैब

पटना में RRB की कोचिंग कर रहे एक छात्र ने बताया कि ऑनलाइन कैम्पेन को लेकर उनके टीचर लगातार स्टूडेंट्स को प्रोत्साहित कर रहे थे. ट्विटर पर भी अभ्यर्थी एक-दूसरे से लगातार ट्रेंड को फॉलो करने और ट्वीट करने की अपील कर रहे थे. इसके अलावा तमाम व्हाट्सएप्प ग्रुप्स में भी ट्विटर कैंपेन का प्रचार किया जा रहा था ताकि ज्यादा से ज्यादा ट्वीट किए जा सकें. इस दौरान #RRBNTPC_Scam, #JusticeForRailwayStudents #RailwayMinister_HelpUs जैसे और भी कई ट्रेंड्स चलाये गए. 18 जनवरी के सफल ऑनलाइन प्रोटेस्ट के बाद 21 जनवरी को एक और मेगा ट्रेंड चलाया गया.

ADVERTISEMENT

कोचिंग संचालकों की आपसी प्रतिस्पर्धा ने छात्रों को सड़क पर उतार दिया?

RRB-NTPC अभ्यर्थियों का व्हाट्सएप्प ग्रुप

स्क्रीन ग्रैब

18 जनवरी के अपने वीडियो में खान सर ने ऑनलाइन प्रोटेस्ट के बाद फिजिकल प्रोटेस्ट करने की बात भी कही थी. खान सर के अलावा दूसरे शिक्षकों ने भी अपने अभ्यर्थियों से इस बारे में बात की थी. लगातार ऑनलाइन कैम्पेन के बाद भी जब छात्रों की मांगें नहीं सुनी गईं तो धीरे-धीरे व्हाट्सएप्प ग्रुप्स और ट्विटर पर अभ्यर्थी जल्द ही फिजिकल प्रोटेस्ट की बात करने लगे. 23 जनवरी को ही सोशल मीडिया पर 24 जनवरी को सुबह 11 बजे पटना के राजेन्द्र नगर टर्मिनल पर 'रेल रोको आंदोलन' का आह्वान किया जाने लगा और 24 तारीख को दोपहर होते-होते भिखना पहाड़ी और आस-पास के हॉस्टल-लॉज में रहने वाले छात्र इकट्ठा हो गए.

ADVERTISEMENT

24 जनवरी को राजेंद्र नगर टर्मिनल पर प्रदर्शन के लिए ऑनलाइन कैंपेन

ट्विटर ग्रैब

कुछ अभ्यर्थियों का दावा है कि भिखना पहाड़ी से राजेन्द्र नगर टर्मिनल के लिए निकले उस मार्च का नेतृत्व एक कोचिंग सेंटर के टीचर कर रहे थे. इस दौरान कई छात्र अपने फोन से लाइव कर रहे थे और कई छात्र वीडियो बनाकर अलग-अलग ग्रुप्स में शेयर रहे थे. जिसकी वजह से देखते ही देखते राजेन्द्र नगर टर्मिनल पर अभ्यर्थियों की भारी भीड़ जमा हो गई. इसी दौरान, RRB ग्रुप D में दूसरा चरण जोड़े जाने का नोटिफिकेशन आया. जिसने छात्रों के आंदोलन को और भी उग्र बना दिया और देखते ही देखते ये आंदोलन बिहार के दूसरे जिलों तक जा पहुंचा.

ADVERTISEMENT

छात्रों के समर्थन में विभिन्न कोचिंग संचालकों के ट्वीट

ट्विटर ग्रैब

RRB के एक अभ्यर्थी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि कोचिंग संचालकों में अभ्यर्थियों के बीच ज्यादा से ज्यादा फेमस होने की भी होड़ रहती है ताकि उनके पास ज्यादा अभ्यर्थी पढ़ने आएं. इसके लिए उनकी कोशिश होती है कि वो खुद को अभ्यर्थियों का हितैषी दिखाएं और हर मोर्चे पर आगे बढ़कर अपने छात्रों को प्रोटेक्ट करते रहें. पटना पुलिस ने राजेन्द्र नगर टर्मिनल की घटना के बाद जो FIR दर्ज की है, उसमें भी छात्रों के बयानों के आधार पर खान सर, नवीन सर, एस. के. झा सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर और दूसरे कोचिंग संचालकों द्वारा अभ्यर्थियों को भड़काने और प्रदर्शन के लिए उकसाने की बात कही गई है. वजह चाहे जो भी हो, लेकिन छात्रों के आंदोलन ने इतना तो साफ कर दिया कि बिना मीडिया और बिना किसी नेता के भी सोशल मीडिया के जरिए भी एक बड़ा और सफल आंदोलन खड़ा किया जा सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×