ADVERTISEMENTREMOVE AD

आतंकी बुरहान वानी की तीसरी बरसी:कश्मीर में सुरक्षा कड़ी,इंटरनेट बंद

अलगाववादी संगठनों ने सोमवार को घाटी में बंद का आह्वान किया है.

Updated
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के तीन साल पूरे होने पर घाटी में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. बुरहान दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के कोकरनाग में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में आठ जुलाई 2016 को मारा गया था. अलगाववादी संगठनों ने सोमवार को घाटी में बंद का आह्वान किया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

चार जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

अधिकारियों ने बताया कि ऐहतियात के तौर पर दक्षिण कश्मीर के चार जिलों अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि बरसी का दिन शांतिपूर्वक निकल जाए इसके लिए सारे उपाए किए गए हैं. उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रा पर इससे कोई असर नहीं पड़ेगा.

पिछले साल भी बुरहान वानी की बरसी को लेकर अलगावादियों ने 8 जुलाई को घाटी में बंद का ऐलान किया था. इसे देखते हुए ऐहतियातन एक दिन के लिए अमरनाथ यात्रा रोक दी गई थी.

सुरक्षा बलों के लिए एहतियात

इस बीच पुलिस के एक प्रवक्ता के बताया कि श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग से सोमवार को सुरक्षा बलों के काफिले को गुजरने की इजाजत नहीं दी जाएगी. उन्होंने हालांकि इसका कोई कारण नहीं बताया, लेकिन माना जा रहा है कि बुरहान की बरसी के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है. साल 2017 में वानी की पहली बरसी पर आतंकियों ने सेना के जवानों पर हमला किया था, जिसमें 2 जवान घायल हो गए थे. 8 जुलाई 2017 को सुबह 6.30 बजे बांदीपुरा इलाके में आतंकियों ने फायरिंग की थी.

ये भी पढ़ें- बुरहान वानी के गांव में जीरो वोटिंग, पुलवामा हमलावर के यहां 15 वोट

0

बुरहान की मौत के बाद हुए थे हिंसक प्रदर्शन

दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के कोकरनाग इलाके में 8 जुलाई 2016 को हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने त्राल के रहने वाले आतंक के 'पोस्टर बॉय' बुरहान वानी को मार गिराया था. उसकी मौत के बाद घाटी में बड़े पैमाने पर हिंसक प्रदर्शन हुए थे और लंबे समय तक कर्फ्यू लगा रहा था. करीब चार महीने तक चले विरोध प्रदर्शनों के दौरान सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई झड़पों में करीब 85 लोगों की जान चली गई थी.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान ने बुरहान वानी को बताया ‘फ्रीडम आइकन’,जारी किया डाक टिकट

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×