ADVERTISEMENTREMOVE AD

UPSC में चौथा रैंक हासिल करने वाले ऐश्वर्य वर्मा ने बताए कामयाबी के टिप्स

UPSC AIR 4 Topper Aishwarya Verma: ऐश्वर्य ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और अपने दोस्तों को दिया.

Updated
भारत
2 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस साल कुल 685 उम्मीदवारों ने 2021 की सिविल सेवा परीक्षा पास की है (Union Public Service Commission), जिसका रिजल्ट संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने सोमवार, 30 मई को घोषित किया. टॉप तीन रैंक लड़कियों के नाम रहीं ,तो वहीं चौथे नंबर पर उज्जैन के ऐश्वर्य वर्मा (Aishwarya Verma) रहें हैं. ऐश्वर्य ने अपने चौथे एटेम्पट में UPSC एग्जाम में चौथी रैंक (AIR4) हासिल की है.

0

ऐश्वर्य वर्मा उज्जैन के महानंदा नगर के रहने वाले हैं, वह 2017 से दिल्ली में रहकर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे थे. पांच साल की मेहनत के बाद उन्हें आल इंडिया में चौथा और पुरुष वर्ग में पहला स्थान मिला. ऐश्वर्य का IAS बनना तय है. ऐश्वर्य ने आठवीं तक उज्जैन में पढ़ाई की है. उत्तराखंड के बैंक ऑफ बड़ौदा में कार्यरत अपने पिता विवेक वर्मा के ट्रांसफर के बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई उत्तराखंड से की.

ऐश्वर्य ने कहा कि उन्होंने गोविंद वल्लभ पंत विश्वविद्यालय, पंत नगर, उत्तराखंड से इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में बीटेक की पढ़ाई की है. बाद में उन्होंने दिल्ली में रहकर सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी की. ऐश्वर्य ने बताया कि उन्होंने 2017 से यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी की थी. इसके बाद दो साल तक कोविड-19 के चलते वह उज्जैन आ गए और तैयारी में लगे रहे और चौथे प्रयास में उन्हें सफलता मिली.

ऐश्वर्य वर्मा अभी बरेली (यूपी) में अपने बैंकर पिता के साथ हैं, उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और अपने दोस्तों को दिया.

"मेरे माता-पिता ने हमेशा मेरा साथ दिया है. मेरे दोस्तों ने मेरा समर्थन किया और हर परीक्षा और इंटरव्यू से पहले मेरा मनोबल बढ़ाया."
ऐश्वर्या वर्मा

जब उनसे पूछा गया कि वह आने वाले एस्पिरेंट्स को क्या सन्देश देना चाहेंगे तब उन्होंने कहा कि, "यूपीएससी का सिलेबस बड़ा है, ऐसे में छोटे-छोटे, म‍िड टर्म और लॉन्‍ग टर्म प्‍लान बनाकर पूरे सिलेबस की तैयारी करनी चाहिए." उन्होंने आगे कहा कि लगातार मन से पढ़ाई करने पर किसी भी स्ट्रीम का छात्र छोटे छोटे हिस्सों में खुद में कांस्टेंट बदलाव महसूस कर सकता है.

ऐश्वर्य ने यह भी कहा की 16 या 18 घंटे पढ़ाई नहीं बल्कि पूरी मन से की गई पढ़ाई ज्यादा मैटर करती है. छात्र किसी भी स्ट्रीम या लेवल से हो अगर समय समय पर खुद को कांस्टेंट इम्प्रूव करते रहें तो यह एग्जाम निकाल सकते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×