ADVERTISEMENTREMOVE AD

UP: एटा के गांव में अभी तक नहीं है बिजली, क्विंट की खबर के बाद एक्शन में विधायक

अलीगंज के विधायक सत्यपाल सिंह राठौर ने बिजली विभाग को लिखे लेटर में लिखा कि गांव में विद्युतीकरण जरूरी है.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

उत्तर प्रदेश के एटा (Etah) से 70 किमी दूर अलीगंज तहसील क्षेत्र के नगला तुलई नाम का गांव है, यहां अभी तक बिजली ही नहीं पहुंची है. पिछले दिनों क्विंट हिंदी पर इससे संबंधित खबर छपी थी, जिसका असर होता नजर आ रहा है. एटा जिले के अलीगंज विधानसभा के विधायक सत्यपाल सिंह राठौर ने जिले के विद्युत वितरण खंड के अधिशासी अभियंता को एक पत्र लिखा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सत्यपाल सिंह राठौर ने अपने पत्र में लिखा है कि अलीगंज में अभी तक विद्युतीकरण का काम नहीं हुआ है, जिससे गांव वालों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. गांव में विद्युतीकरण का काम होना बेहद जरूरी है.

उन्होंने विद्युतीकरण की लागत अपनी विधायक निधि से लेने की बात कही है.

अलीगंज के विधायक सत्यपाल सिंह राठौर ने बिजली विभाग को लिखे लेटर में लिखा कि गांव में विद्युतीकरण जरूरी है.

क्या है पूरा मामला?

एटा जिले की तहसील एवं विकासखंड क्षेत्र अलीगंज की ग्राम पंचायत राजा का रामपुर देहात के ग्राम नगला तुलई के रहने वाले लोग इस समय चल रही गर्म हवा के बीच में अपने घरों को छोड़ कर पेड़ों की छांव में अपनी जिंदगी चला रहे हैं.

इस गांव में आजादी के सात दशकों के बाद भी बिजली नहीं पहुची है, इस वजह से अब इस गांव में बच्चे बीमार पड़ रहे हैं. गांव के पास से निकली हुई नहर और गंदे पानी के नाले की वजह से जहरीले कीड़ों का भी खतरा रहता है. यहां सांप, बिच्छू जैसे जहरीले कीड़ों का भी खतरा रहता है.

"लोग लड़कियों की शादी करने से मना कर देते हैं"

गांव की एक बुजुर्ग महिला ने क्विंट से बात करते हुए बताया कि लोग हमारे गांव में अपने लड़की की शादी देखने आते हैं और फिर लाइट का होने की वजह से शादी करने से मना कर देते हैं.

उन्होंने बताया कि चाहे लड़की की शादी हो या लड़के की...गांव में बिजली ना होने की वजह से रामपुर में शादी का प्रोग्राम करना पड़ता है. बरात रुकने के लिए भी गांव में कोई व्यवस्था नहीं है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×