ADVERTISEMENTREMOVE AD

सलमान चिश्ती गिरफ्तार: अपने खादिम के भड़काऊ बयान पर अजमेर दरगाह ने दी सफाई

Salman Chishti ने Nupur Sharma के खिलाफ दिया था भड़काऊ बयान

Updated
न्यूज
4 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

बीजेपी (BJP) की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) को धमकाने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आने के बाद अजमेर दरगाह के एक खादिम (मौलवी) के खिलाफ मामला दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है.

अजमेर दरगाह के खालिद सलमान चिश्ती (Ajmer Dargah's Salman Chishti) ने कथित तौर पर नूपुर शर्मा के खिलाउ भड़काऊ बयान देने का आरोप था, जिसके बाद से पुलिस उनकी तलाश में जुटी थी. दरगाह पुलिस थाने में सोमवार, 4 जुलाई की रात एक व्यक्ति ने सलमान चिश्ती के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

भड़काऊ बयान में खालिद ने क्या कहा? 

जिस वीडियो के बाद सलमान चिश्ती पर शिकायत दर्ज हुई उसमें उन्होंने कथित तौर पर कहा कि वे नूपुर शर्मा का सिर लाने वाले को अपना घर सौंप देंगे. वीडियो में चिश्ती ने ये भी कहा कि वे पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने पर उसको (नूपुर शर्मा) को खुले आम गोली मार देते. उन्होंने आगे कहा कि "आपको सभी मुस्लिम देशों को जवाब देना होगा. ये मैं अजमेर राजस्थान से कह रहा हूं और यह संदेश हुजूर ख्वाजा बाबा के दरबार से है."

दरगाह थानाधिकारी दलवीर सिंह फौजदार ने बताया था कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया और आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे है, उन्होंने बताया कि आरोपी अपराधी प्रवृत्ति का है, लेकिन अब अजमेर पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर चुकी है. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विकास सांगवान ने इसकी जानकारी दी.

दरगाह ने बयान से किनारा किया

इस बीच दरगाह ने सलमान के बयान से किनारा कर लिया है. वीडियो की निंदा करते हुए अजमेर दरगाह के दीवान जैनुल आबेदीन अली खान के कार्यालय ने कहा कि आरोपी खादिम की तरफ से वीडियो में व्यक्त किये गये इस तरह के संदेशो को दरगाह का संदेश नहीं माना जा सकता. कार्यालय ने कहा कि यह उनका अपना व्यक्तिगत बयान है और निंदनीय है.

इनपुट—पंकज सोनी

कांग्रेस की मांग-NIA बीजेपी की भी करे जांच

राजस्थान उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड के पीछे की साजिश की जांच जैसे—जैसे आगे बढ़ रही है उसके साथ ही सियासत भी तेज होती जा रही है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने मंगलवार को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) के महानिदेशक दिनकर गुप्ता को पत्र लिखकर उदयपुर कांड में बीजेपी की भूमिका की भी जांच की मांग की है.डोटासरा ने कहा कि इस घटना के एक आरोपी मोहम्मद रियाज अख्तरी के बारे में मीडिया में आए तथ्यों को देखते हुए एजेंसी को जांच का दायरा बढ़ाना चाहिए. पत्र में डोटासरा ने लिखा है कि मीडिया में आईं खबरों के अनुसार अख्तरी बीजेपी का सक्रिय सदस्य था और वह लगातार बीजेपी के कार्यक्रमों में शामिल होता था तथा उदयपुर से बीजेपी विधायक गुलाबचंद कटारिया के साथ उसकी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर सामने आई हैं.

डोटासरा ने पत्र में लिखा है कि मीडिया में आईं खबरों के अनुसार चार जुलाई को जम्मू कश्मीर के रियासी में जम्मू पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए दो आतंकवादियों में से एक तालिब हुसैन शाह भी बीजेपी के जम्मू अल्पसंख्यक मोर्चे का सोशल मीडिया प्रभारी था.डोटासरा ने कहा कि इन खबरों से देशवासियों में बेचैनी है कि कहीं सत्ता के लालच में बीजेपी देश विरोधी गतिविधियों का समर्थन तो नहीं कर रही?

बता दें कि बीजेपी ने इस मामले पर कहा है कि अख्तरी पार्टी में घुसपैठ की कोशिश कर रहा था और किसी के साथ फोटो खिंचाने का मतलब नहीं है कि वो पार्टी का सदस्य था.

बीजेपी ने पत्र पर जताई आपत्ति

दूसरी तरफ डोटासरा के इस पत्राचार पर आपत्ति जताते हुए बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र राठौड़ ने कहा है कि राजस्थान में बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था से ध्यान हटाने एवं कन्हैयालाल को सुरक्षा नहीं देने वाली दोषी कांग्रेस सरकार अपनी नाकामी पर पर्दा डालने के लिए पत्राचार का ढोंग रच रही है, जो अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है. राठौड़ ने डोटासरा पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया. उन्होंने डोटासरा के पत्र का जिक्र करते हुए ट्वीट किया कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एडिटेड फोटो के आधार पर डोटासरा ओछी राजनीति कर रहे हैं.

इससे पहले उन्हें मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित रोजा इफ्तार पार्टी में छबड़ा सांप्रदायिक हिंसा के मुख्य आरोपी आसिफ हसाड़ी के शरीक होने के वायरल हुए फोटो की जांच अवश्य करानी चाहिए.
बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र राठौड़

NIA ने एक और को हिरासत में लिया

एनआईए ने उदयपुर के कन्हैया लाल हत्याकांड में गिरफ्तार एक और आरोपी को मंगलवार को यहां विशेष अदालत में पेश किया. अदालत ने उसे 12 जुलाई तक एनआईए की हिरासत में भेज दिया.एनआईए की टीम ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आरोपी मोहम्मद मोहसिन को यहां विशेष अदालत में पेश किया. विशेष लोक अभियोजक टीपी शर्मा ने बताया कि मामले कि सुनवाई के बाद अदालत ने मोहम्मद मोहसिन को 12 जुलाई तक एनआईए की हिरासत में भेज दिया. मोहम्मद मोहसिन को कन्हैया की दुकान की रेकी करने और साजिश रचने के आरोप में सोमवार को गिरफ्तार किया गया था. इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद को घटना के कुछ घंटे बाद ही पिछले मंगलवार को गिरफ्तार किया था. दो अन्य आरोपियों, मोहसिन और आसिफ, को कन्हैया की दुकान की रेकी करने और साजिश के आरोप में पिछले बृहस्पतिवार की रात गिरफ्तार किया गया था. ये चारों 12 जुलाई तक के लिए एनआईए की हिरासत में हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×