ADVERTISEMENTREMOVE AD

Bihar Politics: पटना में JDU-RJD की बैठक आज, सीटों के गणित में कौन किसपर हावी?

Bihar Politics: बिहार में सबसे ज्यादा 80 विधायक RJD के पास हैं. BJP के पास 77 और JDU के 45 विधायक हैं.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

बिहार (Bihar Politics) में सियासी सरगर्मियां तेज है. राजनीतिक उलट-फेर की आशंका जताई जा रही है. कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बीजेपी का साथ थोड़ आरजेडी से हाथ मिला सकते हैं. आज जेडीयू और आरजेडी के विधायकों की बैठक होने वाली है. विधायकों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है. वहीं आरजेडी विधायकों की बैठक राबड़ी आवास पर होगी. जहां विधायकों के मोबाइल ले जाने पर प्रतिबंध भी लगा दिया गया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

पटना में बैठकों का दौर

आरसीपी सिंह के इस्तीफे के बाद बिहार की सियासी हवा ने करवट ली है. इसको देखते हुए JDU ने सभी सांसदों और विधायकों की अहम बैठक बुलाई है. हालांकि, बैठक किस मुद्दे पर होगी इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पायी है. लेकिन माना जा रहा है कि, मीटिंग में बीजेपी (BJP) के साथ गठबंधन को लेकर चर्चा हो सकती है. इस बैठक में जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह भी मौजूद रहेंगे.

वहीं, दूसरी तरफ आरजेडी भी राबड़ी आवास पर बैठक कर रही है. दोनों दलों के बैठक का दिन एक है. जिसको लेकर तरह-तरह की अलटलें लगाई जा रही हैं.

NDA गठबंधन में ऑल इज वेल!

बिहार में सियासी उलटफेर की चर्चा के बीच जेडीयू नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान सामने आया है. उन्होंने दावा किया है कि बिहार में एनडीए गठबंधन में सब कुछ ठीक चल रहा है. अभी तक कोई दिक्कत नहीं है. हालांकि, उन्होंने कहा कि भविष्य में क्या होगा, यह कोई नहीं बता सकता. इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा की उनमें पीएम बनने की सभी खूबियां हैं.

भले ही उपेंद्र कुशवाहा कह रहे हैं कि NDA में ऑल इज वेल है. लेकिन सूत्रों के मुताबिक जेडीयू और आरजेडी के बीच एक बार फिर खिचड़ी पक रही है. इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा रहा है कि दोनो पार्टियां एक दूसरे के खिलाफ कुछ बोल नहीं रही हैं.

बिहार का सियासी समीकरण

चलिए अब बिहार का ताजा सियासी समीकरण समझ लेते हैं. बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं. लेकिन आरजेडी के अनंत सिह के विधायक नहीं रहने से वर्तमान में 242 विधायक हैं. इनमें सबसे ज्यादा 79 विधायक आरजेडी के पास हैं. बीजेपी के पास 77 विधायक हैं. जेडीयू के 45, कांग्रेस के 19, सीपीआई (ML) के 12 और जीतन राम मांझी के 4 विधायक हैं. इनके अलावा सीपीएम 2, सीपीआई 2, AIMIM के पास एक और निर्दलीय एक विधायक है. सरकार बनाने के लिए 122 विधायकों का बहुमत होना चाहिए.

बिहार में फिलहाल NDA की सरकार है. जिसमें बीजेपी के 77 विधायक हैं, वहीं जेडीयू के 45 विधायक हैं. इसके साथ ही हम के 4 विधायक हैं. इस तरह से कुल 126 विधायक हैं.

अगर नीतीश कुमार NDA छोड़ महागठबंधन में शामिल होते हैं तो भी आसानी से सरकार बन जाएगी. RJD के 79, जेडीयू के 45, कांग्रेस के 19, सीपीआई (ML) के 12, सीपीएम के 2, सीपीआई 2, AIMIM के एक विधायकों को मिलाकर कुल 160 विधायक हो जाएंगे. जो बहुमत के आंकड़े से करीब 38 ज्यादा है.

क्या फिर नीतीश दोहराएंगे 2014 का इतिहास

इससे पहले नीतीश कुमार ने 2014 लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी का साध छोड़कर महागठबंधन में शामिल हुए थे. हालांकि, 2015 में सरकार बनने के बाद 2 साल बाद ही वे वापस एनडीए में आ गए. अब एक बार फिर कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार बीजेपी का साथ छोड़ने का मन बना चुके हैं. हालांकि, नीतीश कुमार के लिए यह उतना आसान नहीं होगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें