ADVERTISEMENT

कांग्रेस चिंतन शिविर: पहले दिन सोनिया गांधी-CM गहलोत के निशाने पर रही मोदी सरकार

Congress Chintan Shivir में छह कमिटियों में करीब 70 नेताओं का ग्रुप बनाकर तमाम मुद्दों पर चर्चा की जा रही है.

Updated

झीलों की नगरी कहे जाने वाले राजस्थान के उदयपुर में आज कांग्रेस का नवसंकल्प चिंतन शिविर (Congress Chintan Shivir) शुरू हो गया. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस तीन दिवसीय 'चिंतन शिविर' का उद्घाटन करते हुए देश में जारी हिंसा और अन्य समस्याओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि चिंतन शिविर उन कई चुनौतियों पर चर्चा करने का अवसर देगा, जिनका सामना देश आज BJP, RSS और उसके सहयोगियों की नीतियों के कारण कर रहा है.

ADVERTISEMENT

आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार इस चिंतिन शिविर के दौरान वहां आए सभी नेताओं के मोबाइल फोन को जमा कराया गया है. छह कमिटियों में करीब 70 नेताओं का ग्रुप बनाकर तमाम मुद्दों पर चर्चा की जा रही है.

शिविर में भाग लेने के लिए राहुल गांधी दिल्ली से ट्रेन से चलकर उदयपुर पहुंच हुए हैं तो वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी स्पेशल फ्लाइट से पहुंची.

"राष्ट्रीय मुद्दों और पार्टी संगठन, दोनों पर सार्थक आत्म-चिंतन का मौका"- सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा कि "यह मौका राष्ट्रीय मुद्दों के बारे में चिंतन और हमारे पार्टी संगठन के बारे में एक सार्थक आत्म-चिंतन दोनों है"

प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी के 'अमैक्सिमम गवर्नेंस, मिनिमम गवर्मेंट' का अर्थ है 'खाली नारे, भटकाव की रणनीति और हमेशा की तरह प्रधानमंत्री की चुप्पी.

"अब यह स्पष्ट हो गया है कि प्रधानमंत्री मोदी और उनके सहयोगियों का वास्तव में उनके बार-बार दोहराए जाने वाले नारे से क्या मतलब है : मैक्सिमम गवर्नेंस, मिनिमम गवर्मेंट इसका मतलब देश को हमेशा ध्रुवीकरण की स्थिति में बनाए रखना, हमारे लोगों को निरंतर भय और असुरक्षा की स्थिति में रहने के लिए मजबूर करना."
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी

कांग्रेस पार्टी पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि "हर संगठन को जीवित रहने के लिए परिवर्तन लाने होते हैं. हमे सुधारों की सख्त जरूरत है. काम करने के तरीके में परिवर्तन लाना होगा."

"लोगों को हमसे उम्मीद है, इससे भी हम अनजान नहीं हैं. हम देश की राजनीति में अपनी पार्टी को उसी भूमिका में लाएंगे जो लोग हम से उम्मीद करते हैं"
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी

"जब लोकतंत्र खतरे में है न्यायपालिका दबाव में है"- सीएम अशोक गहलोत

चिंतन शिविर में कांग्रेस नेता और राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि "इस समय जब लोकतंत्र खतरे में है न्यायपालिका दबाव में है, ईडी और सीबीआई का दुरुपयोग हो रहा है, सांप्रदायिक दंगे हो रहे हैं, जो हो रहा है उसे सुनने वाला कोई नहीं है. उनके लिए (बीजेपी) अब अगला निशाना राजस्थान है."

जल्द ही चुनावी मैदान में उतरने जा रहे राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत आज राहुल गांधी समेत अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ शिविर में पहुंचे थे.
ADVERTISEMENT

'कांग्रेस में होंगे बड़े बदलाव,1 परिवार-1 टिकट पर विचार'

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन चिंतन शिविर में होने वाली चर्चाओं को लेकर मीडिया के सामने आये. अजय माकन ने बताया कि इस चिंतन शिविर के बाद कांग्रेस संगठन में बड़े पैमाने पर बदलाव होंगे. साथ ही युवाओं का 50% से अधिक प्रतिनिधित्व दिया जाएगा.

कांग्रेस अपने शिविर में कई पहलुओ पर चर्चा करेगी, इसमें एक परिवार एक टिकट मामला भी शामिल है. इस प्रस्ताव के तहत अगर परिवार के किसी दूसरे सदस्य को चुनाव लडना है तो उसे कम से कम 5 साल तक संगठन में काम करना होगा. वहीं अगर कोई कांग्रेस पदाधिकारी अपने पद पर कार्यकाल पूरा कर चुका है यानी 5 साल का कार्यकाल पूरा कर चुका तो उसे 3 साल कूलिंग ऑफ पीरियड में रहना होगा, तभी उसे दोबारा पद मिलेगा.

(इनपुट-आईएएनएस)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×