ADVERTISEMENTREMOVE AD

राहुल गांधी को 'मोदी सरनेम' मानहानि केस में 2 साल की सजा, जमानत मिली

Rahul Gandhi defamation case: राहुल पर आरोप है कि रैली के दौरान उन्होंने कहा था, "कैसे सभी चोरों का सरनेम मोदी है?

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को सूरत जिला अदालत ने कथित 'मोदी सरनेम' टिप्पणी को लेकर दायर आपराधिक मानहानि मामले में दोषी ठहराया है. अदालत ने राहुल को 2 साल कैद की सजा भी सुनाई, लेकिन इसके बाद ही उन्हें जमानत भी दे दी गई है.

ये मामला 4 साल पुराना है, जिसे लेकर सूरत कोर्ट ने फैसला सुनाया. राहुल गांधी ने सुनवाई के दौरान कोर्ट में कहा कि उन्होंने चुनावी रैली के दौरान ये बयान दिया था, जो जानबूझकर नहीं दिया गया था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
बता दें कि इस मामले में सुनवाई पहले ही पूरी हो चुकी थी, गुरुवार को इस पर फैसला आना था. राहुल गांधी ने पहले ही अपना अंतिम बयान दर्ज कराया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि उनका मोदी उपनाम का उल्लेख सिर्फ पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर था ना कि किसी और या किसी विशेष समुदाय को बदनाम करने के लिए, इसके अलावा, जहां तक वह जानते थे, मोदी नाम का कोई समुदाय नहीं था.

क्या था मामला?

मामला 2019 लोकसभा चुनाव से पहले का है. राहुल गांधी पर आरोप है कि कर्नाटक के कोलार में एक रैली के दौरान उन्होंने कहा था, "कैसे सभी चोरों का सरनेम मोदी है?" उनके इस बयान के बाद बीजेपी विधायक और गुजरात के पूर्व मंत्री पूर्णेश मोदी ने शिकायत दर्ज कराई थी.

बीजेपी के सूरत पश्चिम विधायक पूर्णेश मोदी ने अप्रैल 2019 में गांधी के खिलाफ आईपीसी की धारा 499 और 500 के तहत शिकायत दर्ज कराई थी. पूर्णेश मोदी ने आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने चुनावी रैली को संबोधित करते हुए यह कहकर पूरे मोदी समुदाय को बदनाम कर दिया था, सभी चोरों का सामान्य उपनाम मोदी कैसे है?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×