‘किसानों के घरों में लूट और PM के दोस्तों को छूट’- प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी ने कहा- अहंकारी राजा के सामने जब लोग सच कहने से डरने लगे तो उसका अहंकार बढ़ने लगा

Published
प्रियंका गांधी ने कहा- अहंकारी राजा के सामने जब लोग सच कहने से डरने लगे तो उसका अहंकार बढ़ने लगा
i

किसानों के मुद्दे को लेकर कांग्रेस अब फ्रंटफुट पर आकर खेल रही है. पार्टी के तमाम नेताओं ने किसान सभाओं और महापंचायतों को संबोधित करना शुरू कर दिया है. इसी बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर पहुंचीं. जहां उन्होंने किसान महापंचायत को संबोधित किया. प्रियंका ने यहां कहा कि, देश की जो स्थिति है, वो शायद मुझसे अच्छी तरह आप लोग जानते हैं.

प्रियंका ने कहा कि, एक ऐसा समय आया है कि 90 दिनों से लाखों किसान, इस देश की राजधानी के बाहर बैठे हैं, संघर्ष कर रहे हैं. इसमें 215 किसान शहीद हुए, बिजली काटी गई, पानी रोका गया, उन्हें मारा गया, जबकि वो शांति से बैठे थे. राजधानी की सीमा को देश की सीमा की तरह बनाया गया. किसान को अपमानित किया गया, देशद्रोही और आतंकवादी कहा. खुद प्रधानमंत्री ने संसद में उसका मजाक उड़ाया, उसे परजीवी और आंदोलनजीवी कहा.

टिकैत की आंखों में आंसू, पीएम को सूझता है मजाक

प्रियंका ने कहा, किसानों को प्रताड़ित किया गया. प्रियंका ने कहा कि जब राकेश टिकैत की आंखों में आंसू आते हैं, तो हमारे प्रधानमंत्री को मजाक सूझता है और उनके होंठों पर मुस्कुराहट आती है. किसान के घरों में लूट हो रही है और पीएम के मित्रों को छूट दी गई है. प्रियंका ने किसानों से पूछा कि, प्रधानमंत्री ने किसानों का भुगतान कनरे की बात कही थी, क्या आपका भुगतान हुआ? 15 हजार करोड़ रुपये का भुगतान होना बाकी है. पीएम के लिए 16 हजार करोड़ के हवाई जहाज खरीदे गए.

प्रियंका ने पेट्रोल डीजल को लेकर भी सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि जो डीजल 2018 में 60 रुपये प्रति लीटर मिलता था, वो अब 80 या फिर 90 रुपये तक पहुंच रहा है. 2014 से अब तक मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर टैक्स बढ़ाकर 21 लाख 50 हजार करोड़ कमाए.

प्रियंका गांधी ने कहा कि, इसी साल जब किसान तड़प रहा है, तो आप देखेंगे कि इन अरबपतियों ने कितना पैसा कमाया है, आप चौंक जाएंगे. लेकिन आप सड़कों पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं और कोई सुन नहीं रहा है.

अहंकारी राजा की तरह बन चुके हैं पीएम मोदी- प्रियंका

प्रियंका ने कानूनों को लेकर कहा कि, कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग का मतलब है कि बड़े खरबपति आपके साथ एक सौदा कर सकते हैं. बोलेंगे कि आप हमारे लिए गन्ना उगाइए, हम आपको इसके 500 रुपये दूंगा. लेकिन बाद में वो खरबपति ये कह सकता है कि न तो मैं आपको 500 रुपये दूंगा और न ही आपका गन्ना चाहिए. इसके लिए आप अदालत भी नहीं जा सकते. आप अपने हक के लिए नहीं लड़ सकते हैं.

प्रियंका ने आगे कहा, इन नए कानूनों के तहत न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म होगा, मंडियां खत्म होंगी और आपके हक खत्म होंगे. ये लोग आपको, आपकी जमीन को आपकी कमाई को अपने खरबपति मित्रों को बेचना चाहते हैं. मैं जानती हूं कि आप लोग कितना संघर्ष कर रहे हैं, पूरा देश नहीं पूरी दुनिया देख रही है. प्रियंका ने कहा-

“जैसे पुरानी कहानियों में अहंकारी राजा होते थे, लोग उनके सामने सच कहने से डरने लगे, गिड़गिड़ाने लगे. तो उनका अहंकार बढ़ने लगा. ऐसा लगता है कि पीएम मोदी भी ऐसे ही अहंकारी राजाओं की तरह बन गए हैं. उन्हें ये पता नहीं है कि जो जवान देश की रक्षा करता है वो भी किसान का ही बेटा है. उनका सम्मान करना चाहिए.”

वही देशवासी जिन्होंने उन्हें सत्ता दी, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हो रही है. वो कह रहे हैं कि ये कानून किसानों के लिए बनाया है, तो बताएं कि किस किसान से बात करके बनाया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!