ADVERTISEMENTREMOVE AD

राजस्थान कलह पायलट के लिए 'आपदा में अवसर',राजनीतिक भविष्य क्रैश करेगा या टेक ऑफ?

Rajasthan Congress crisis: राजस्थान कांग्रेस में संकट ने Sachin Pilot को ये 4 फायदे भी पहुंचाए हैं.

story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

राजस्थान कांग्रेस में पिछले 3 दिनों से आंतरिक कलह (Rajasthan Congress crisis) जारी है. इस वक्त सचिन पायलट (Sachin Pilot) किस कदर अलर्ट हैं और अपनी छवि को किसी भी डेंट से बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, इसका उदाहरण उनका एक ट्वीट है. न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से सचिन पायलट से जुड़ी एक खबर रिपोर्ट की, जिसपर सचिन पायलट ने तुरन्त रिप्लाई किया कि खबर झूठी है. इतना ही नहीं, राजस्थान कांग्रेस संकट पर सचिन पायलट चुप्पी साधे रहे. ऐसे में समझते हैं कि आखिर पूरे विवाद के बाद सचिन पायलट का भविष्य कहां जाता दिख रहा है?

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कांग्रेस संकट में खुद की इमेज क्लीन रखने की कोशिश

न्यूज एजेंसी ने खबर चलाई कि कांग्रेस विधायक सचिन पायलट ने कांग्रेस आलाकमान से कहा है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अगर पार्टी अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने का फैसला करते हैं तो उन्हें सीएम की कुर्सी छोड़नी चाहिए और ऐसी स्थिति में विधायकों को एक साथ लाना सचिन पायलट की जिम्मेदारी है. इससे पहले लोग इस खबर से अंदाजा लगाते कि ‘सचिन पायलट के मन में क्या है’- पायलट ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “मुझे डर है कि झूठी खबर रिपोर्ट की जा रही है”.

तो हमारा भी सवाल वही है कि राजस्थान में जब 90 से अधिक गहलोत समर्थक विधायक किसी भी कीमत पर पायलट को अपना नेता स्वीकार करने के लिए राजी नहीं हैं, और आलाकमान से बगावत तक पर उतर आए हैं- तब सालों से CM कुर्सी का सपना देख रहे सचिन पायलट के मन में क्या चल रहा हैं? सवाल यह भी कि मौजूदा संकट के बीच उनका राजनीतिक भविष्य किस ओर बढ़ता दिख रहा है और क्या इसने पायलट को किसी रूप में फायदा भी पहुंचाया है?

 सचिन पायलट के मन में क्या चल रहा हैं?

गांधी परिवार के बाहर कांग्रेस अध्यक्ष की रेस में जैसे ही अशोक गहलोत का नाम सामने आया, राजस्थान में गहलोत और पायलट- दोनों खेमे में बैठकों का दौर शुरू हो गया. वैज्ञानिक सिद्धांत कहता है कि रात चढ़ने पर राजस्थान के रेगिस्तानी इलाके ठंडे हो जाते हैं. लेकिन जयपुर में रविवार, 25 सितंबर की रात ठीक उलट सियासी पारा चढ़ रहा था.

गहलोत खेमे के 90 से अधिक विधायकों ने उस रात आलाकमान का सन्देश लेकर पहुंचे पर्वेक्षकों- अजय माकन और खड़गे की बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया. उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा सौंप साफ कर दिया कि हमें पायलट स्वीकार नहीं हैं. वैसे तो गहलोत ने सफाई दी कि यह विधायकों का अपना फैसला है लेकिन राजस्थान की राजनीति को करीबी से देखने वाले इसे ‘जादूगर की गुगली’ बता रहे हैं.

हालांकि इन सबके बीच सचिन पायलट ने चुप्पी साधी है और उन्होंने जाहिर तौर पर अभी अपनी चाल नहीं चली है. लेकिन सचिन पायलट का राजस्थान मुख्यमंत्री बनने की ख्वाहिश किसी से छुपी नहीं है. 2020 में वो इस पद के लिए पार्टी को बागी रूप दिखा चुके हैं.

सचिन पायलट की चुप्पी और सूत्रों के हवाले से चली खबर को सामने से नकारना यह दिखाता है कि सचिन पायलट पूरी तरह से अलर्ट हैं और अपनी छवि को किसी भी डेंट से बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.

राजस्थान कलह के बाद सचिन पायलट का राजनीतिक भविष्य क्या होगा?

अशोक गहलोत की रजामंदी या खुद के निर्णय, कारण चाहे जो हो, राजस्थान के 90 से अधिक कांग्रेसी विधायकों ने आलाकमान के सामने सिर्फ दो ही विकल्प रखे हैं- या तो अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बने रहें या उनके खेमे के ही किसी विधायक को मुख्यमंत्री बनाया जाए. सचिन पायलट लगभग 20 विधायकों के समर्थन के साथ आलाकमान के सामने शक्ति प्रदर्शन की स्थिति में नहीं दिख रहे हैं. क्विंट के पॉलिटिकल एडिटर आदित्य मेनन लिखते हैं कि ऐसी स्थिति में सचिन पायलट के लिए प्रदेश इकाई में मुश्किलें आनी जाहिर हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सचिन पायलट को पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने 2018 में सीएम की कुर्सी का वादा किया गया था, लेकिन 2022 में भी वह अपने वादे को पूरा करने की स्थिति में नहीं है. ऐसी स्थिति में आलाकमान में पास एक विकल्प है कि वह उन्हें कोई और पद देकर संतुष्ट करे. कांग्रेस के लिए समस्या यह है कि शायद ही कोई पद ऐसा है जो दूर-दूर तक सीएम पद के रुतबे, उसकी शक्ति के करीब हो.

क्या पार्टी अशोक गहलोत को राजस्थान में हुई किरकिरी के सजा के तौर पर कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव की रेस से निकाल, पायलट को इस पद पर बैठा सकती है? इस सवाल का जवाब हां में होना मुश्किल है. जब पायलट राजस्थान में पर्याप्त विधायकों का समर्थन नहीं जुटा पा रहें तब वो उस पार्टी का नेतृत्व कैसे कर सकते हैं जो अपने इतिहास के सबसे मुश्किल वक्त से गुजर रही है.

अगर कांग्रेस नेतृत्व राजस्थान के अंदर गहलोत के कद को थोड़ा छोटा करना चाहता है, तो वह गहलोत के वफादार गोविंद डोटासरा को हटाकर पायलट को वापस प्रदेश पार्टी प्रमुख बना सकता है. हालांकि यहां भी उसके सामने मुश्किल कम नहीं है. पंजाब में पार्टी ने जिस तरफ अमरिंदर सिंह के मुखर विरोध के बावजूद नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश पार्टी प्रमुख बनाया था, उसका नतीजा पार्टी ने अमरिंदर सिंह की बगावत पर राज्य चुनाव में मिली बुरी हार में देखा है. ऊपर से राजस्थान के कांग्रेसी नेताओं पर पायलट का दबदबा भी नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

यह देखना खास होगा कि पायलट सीएम पद की जगह इनमें से किसी भी विकल्प से सहमत होंगे या ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह पार्टी छोड़ देंगे.

क्या राजस्थान संकट ने पायलट को किसी रूप में फायदा भी पहुंचाया है?

1. कई राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि रविवार को राजस्थान में जो कुछ भी हुआ उसने अशोक गहलोत की राजनीतिक छवि को नुकसान पहुंचाया है. अशोक गहलोत को अब तक गांधी परिवार के लिए वफादार और कांग्रेस का सच्चा सिपाही माना जाता था, गांधी परिवार को भी उम्मीद थी कि गहलोत कभी भी उनके फैसले के खिलाफ नहीं जाएंगे और कांग्रेस अध्यक्ष पद परिवार से बाहर उन्हें सौंपने की मंशा भी इसी उम्मीद से आई थी. लेकिन राजस्थान संकट ने गहलोत की इस छवि को नुकसान पहुंचाया है. पायलट गहलोत के इसी नुकसान में अपना फायदा देख सकते हैं. गहलोत पर भरोसा घटेगा तो आलाकमान के लिए राजस्थान में दूसरे विकल्प पायलट ही बचेंगे.

2. मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन ने राजस्थान की स्थिति पर अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. सूत्रों की माने तो शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है जबकि 3 अन्य को कारण बताओ नोटिस भेजा जा सकता है. ध्यान रहे कि ये सभी गहलोत के करीबी हैं. यानी अगर आलाकमान गहलोत के खिलाफ कोई एक्शन न भी ले तो भी इसे उनके लिए क्लीनचीट नहीं कहा जाएगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

3. सवाल यह भी है कि क्या सचिन पायलट बिना किसी अतिरिक्त मेहनत के सीएम की कुर्सी के ज्यादा नजदीक पहुंच चुके हैं? 2020 में उन्हें सीएम की कुर्सी के लिए बगावत करनी पड़ी थी लेकिन इस बार गहलोत खेमे की बगावत ने उन्हें आलाकमान की नजर में वफादार बना दिया है.

4. सचिन पायलट के लिए राजस्थान कांग्रेस में संकट के इस एपिसोड ने एक और मौका बनाया है. आजतक गहलोत कैंप के विधायक सचिन पायलट के खिलाफ गद्दारी का इल्जाम लगाते थे. अब सचिन पायलट भी यह कह सकते हैं कि गहलोत भी कुछ अलग नहीं हैं और आलाकमान के लिए जितना बागी मैं था अब उतना आप भी हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×