ADVERTISEMENT

शरद पवार ने लखीमपुर खीरी को लेकर BJP को घेरा- जिम्मेदारी से बच नहीं सकते योगी

Sharad Pawar का केंद्र पर आरोप- IT, ED, NCB जैसी एजेंसियों का हो रहा गलत इस्तेमाल

Published
<div class="paragraphs"><p>शरद पवार ने बीजेपी को लखीमपुर खीरी के मुद्दे पर स्टैंड लेने की सलाह दी.</p></div>
i

एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) ने लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) की घटना को लेकर केंद्र और यूपी सरकार को घेरा है. बुधवार को पवार ने कहा कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी इस मामले में जिम्मेदारी लेने से बच नहीं सकते. उन्होंने केंद्रीय मंत्री टेनी के इस्तीफ की मांग की.

ADVERTISEMENT

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र के इस्तीफे की मांग

पवार ने केंद्र और योगी सरकार को घेरते हुए कहा, '' लखीमपुर खीरी में किसानों को कुचला गया, केंद्रीय मंत्री के बेटे पर आरोप हैं. सुप्रीम कोर्ट के ऑब्जर्वेशन के बाद आरोपी की गिरफ्तारी हुई. सत्ताधारी पार्टी को इस मामले में स्टैंड लेना चाहिए. ना यूपी के मुख्यमंत्री और ना ही केंद्रीय मंत्री इस मामले में बच सकते हैं. केंद्रीय मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए.''

पवार ने केंद्रीय एजेंसियों की कार्रवाई के तरीके पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा, ''ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स का गलत इस्तेमाल हो रहा है. कुछ पार्टियों को बदनाम करने के लिए इसका इस्तेमाल हो रहा है. नवाब मलिक ने NCB के बारे में कुछ तथ्य सामने रखे हैं.''
शरद पवार, NCP चीफ

आर्यन खान ड्रग्स केस में एनसीबी को घेरा

पवार ने केंद्रीय एजेंसियों की कार्रवाई के तरीके पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा, ''ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स का गलत इस्तेमाल हो रहा है. कुछ पार्टियों को बदनाम करने के लिए इसका इस्तेमाल हो रहा है. नवाब मलिक ने NCB के बारे में कुछ तथ्य सामने रखे हैं.''

शरद पवार ने कहा कि पिछले कुछ सालों में NCB ने बहुत कम मात्रा में ड्रग्स सीज किया है. उनकी तुलना में राज्य की ऐंटी नार्कोर्टिक्स सेल ने बड़ी मात्रा में ड्रग्स पकड़ा है. इसीलिए राज्य की एजेंसियों को बदनाम करना गलत है.

पवार ने आर्यन खान मामले को लेकर भी एनसीबी की कार्रवाई पर उठाए. उन्होंने कहा कि

''किसी भी केस में पंचनामे के दौरान लिए हुए गवाह का बैकग्राउंड साफ होना अपेक्षित होता है. लेकिन क्रूज़ रेड मामले में सामने आए गवाह गोसावी खुद क्रिमिनल बैकग्राउंड के हैं, इसीलिए यह स्पष्ट है कि उनका इस्तेमाल इस केस में गलत तरीके से हुआ है.''
ADVERTISEMENT
पवार ने कहा कि इनकम टैक्स अधिकारियों ने उनके रिश्तेदारों को बताया है कि ऊपर से आदेश हैं कि जब तक कहा ना जाए, तब तक उनका घर नही छोड़ना है.

''छापों के जरिए हमें डराने की कोशिश''

पवार ने कहा कि सरकारी एजेंसियों का इस तरह का गलत इस्तेमाल देखने को मिल रहा है.

इनकम टैक्स रेड पर एनसीपी चीफ ने कहा, ''आज 6 दिन हो गए, हमारे घर की महिलाओं के घर पर आईटी की छापेमारी शुरू है. मैंने केंद्रीय अधिकारियों से जानकारी ली तो बताया गया कि इतने दिनों तक लंबी कार्रवाई शायद ही कभी चलती है.''

उन्होंने आगे कहा, ''फिलहाल हम आए हुए महमानों की खातिरदारी कर रहे हैं. लेकिन कोई मेहमान अगर निकलने का नाम ही नही ले रहा तो क्या करें?''

एनसीपी चीफ ने कहा कि ये एजेंसियां मुख्य टारगेट के इर्द-गिर्द घूमती नजर आ रही हैं. ये डराने की कोशिश है. उन्होंने इसके लिए अजित पवार, अशोक चव्हाण और सुभाष देसाई के करीबियों पर छापेमारी का हवाला दिया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT