ADVERTISEMENT

CAA के खिलाफ भड़काने वाले सावधान होकर सुन लें, सरकार निपटना जानती है - CM योगी

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, असदुद्दीन ओवैसी एसपी के एजेंट के तौर पर काम कर रहे हैं.

Updated
CAA के खिलाफ भड़काने वाले सावधान होकर सुन लें, सरकार निपटना जानती है - CM योगी
i

कृषि कानूनों (Farm Laws) की वापसी के बाद अब सीएए (CAA) को लेकर फिर से आवाजें उठने लगी हैं. हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कृषि कानूनों की वापसी के बाद सीएए का जिक्र किया था. अब इसे लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने असदुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा है.

ADVERTISEMENT

यूपी चुनाव से पहले छिड़ी इस बहस को लेकर कानपुर में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि,

आज मैं यहां पर उस व्यक्ति को चेतावनी देना चाहूंगा जो सिटीजनशिप एमेडमेंट एक्ट के नाम पर फिर से भावनाओं को भड़काने का काम कर रहा है. मैं इस अवसर पर चचा जान और अब्बा जान के अनुयाइयों से कहूंगा कि, वो सावधान होकर सुन लें. अगर प्रदेश की भावनाओं को भड़काकर माहौल खराब करोगे तो फिर सख्ती के साथ सरकार निपटना भी जानती है.
योगी आदित्यनाथ, सीएम, यूपी
ADVERTISEMENT

उन्होंने आगे कहा कि, व्यक्ति जानता है कि ओवैसी समाजवादी पार्टी के एजेंट बनकर प्रदेश में भावनाओं को भड़काने का काम कर रहे हैं.

ADVERTISEMENT

ओवैसी ने क्या कहा था ?

तीन कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद ओवैसी ने एंटी CAA आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा था कि इसके खिलाफ हुए आंदोलन से ये सुनिश्चित हुआ कि एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर) ठंडे बस्ते में चला गया.

ADVERTISEMENT

मुनव्वर राणा ने भी दिया था बयान

मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने कृषि कानून वापसी के बाद सीएए-एनआरसी पर कहा था कि जो दुनिया चाहेगी इसका वही होगा, अकेले PM मोदी के चाहने से कुछ नहीं होगा.

ADVERTISEMENT

19 नवंबर को वापस लिए गए तीन कृषि कानून

केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान करीब एक साल से प्रदर्शन कर रहे थे, जिन्हें 19 नवंबर को पीएम मोदी ने वापस लेने का ऐलान कर दिया. कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान करीब 700 किसानों की मौत हुई, ऐसा दावा किसान नेता करते हैं. उसके बाद ये फैसला लिया गया है. अब सीएए को लेकर भी काफी बातें हो रही हैं, क्योंकि इसका भी भारी विरोध हुआ था.

ADVERTISEMENT

क्या है सीएए (CAA)

नागरिकता संशोधन कानून 2019 में अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और क्रिस्चन धर्मों के प्रवासियों के लिए नागरिकता के नियम को आसान बनाया गया है. पहले किसी व्यक्ति को भारत की नागरिकता हासिल करने के लिए कम से कम पिछले 11 साल से यहां रहना जरूरी था. इस नियम को आसान बनाकर नागरिकता हासिल करने की अवधि को एक साल से लेकर 6 साल किया गया है.

ADVERTISEMENT

विवाद क्यों है?

विपक्ष समेत कई लोगों का सीएए पर विरोध ये है कि इसमें खासतौर पर मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया गया है. उनका तर्क है कि ये संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है जो समानता के अधिकार की बात करता है, क्योंकि इसमें मुस्लिमों को शामिल नहीं किया गया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और politics के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×