ADVERTISEMENT

मध्य प्रदेश: हिंदूवादी संगठनों ने धर्मांतरण का आरोप लगाकर स्कूल में की तोड़फोड़

स्कूल प्रबंधन का आरोप है कि मामले की जानकारी पहले से होने के बाद भी पुलिस ये हंगामा और तोड़फोड़ रोकने में नाकाम रही.

Updated
राज्य
2 min read

वीडियो प्रोड्यूसर/एडिटर: मौसमी सिंह

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के विदिशा में गंजबासौदा के सेंट जोसेफ स्कूल में हिंदूवादी संगठनों ने स्कूल पर धर्मांतरण (Conversion) का आरोप लगा स्कूल पर पथराव और तोड़फोड़ की. इसके साथ ही प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पुलिस प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा.

जहां एक और पुलिस ने मामला कंट्रोल में होने की बात कही है तो वहीं दूसरी ओर स्कूल प्रबंधन का आरोप है कि मामले की जानकारी पहले से होने के बाद भी पुलिस ये हंगामा और तोड़फोड़ रोकने में नाकाम रही.

ADVERTISEMENT

बीते हफ्ते लगा धर्मांतरण का आरोप

जानकारी के अनुसार स्कूल पर पिछले हफ्ते आठ बच्चो के धर्म परिवर्तन का आरोप लगाया गया और इस मामले को लेकर आज से पहले भी ज्ञापन दिए जा रहे थे.

बच्चों का धर्मांतरण कराने की खबर बीते कुछ दिनों में सोशल मीडिया पर वायरल की गई. सोशल मीडिया में एक फोटो वायरल हुआ जिसमें बच्चों के ऊपर जल छिड़ककर उन्हें ईसाई बनाकर उनका धर्म बदलने का दावा किया जा रहा था.

इस मामले पर स्कूल के प्रबंधक ब्रदर एंटोनी ने खबर को बेबुनियाद बताकर कहा कि, वो उनके ही धर्म के बच्चे थे उनमें से कोई भी बच्चा हिन्दू धर्म का नहीं था.

स्कूल प्रबंधक ने बताया की जिस समय बजरंग दल और अन्य हिंदूवादी संगठनों के लोग हंगामा कर रहे थे उस समय काफी बच्चे स्कूल के अंदर पेपर दे थे जिसकी जानकारी भी प्रशासन को दी गयी थी.

ब्रदर एंटोनी ने बताया कि हिंदूवादी संगठनों ने जो पत्र लिखा, उसमें 31 अक्टूबर को धर्म परिवर्तन कराने की आरोप लगे हैं, लेकिन 31 अक्टूबर को रविवार का दिन था जिस बच्चे या टीचर स्कूल नहीं आते हैं और जिन आठ बच्चों के नाम पत्र में लिखे हैं उनमे से एक भी बच्चा इस स्कूल का छात्र नहीं है.

स्कूल का आरोप, तमाशा देखती रही पुलिस

स्कूल के प्रबंधक ने मध्य प्रदेश पुलिस पर भी आरोप लगाया कि उन्हें इस तरह का हंगामा होने की सूचना पहले ही दे दी गई थी. उसके बाद भी पुलिस कि मौजूदगी में स्कूल पर पथराव हुआ.

पुलिस की ओर से कहा गया कि मामला फिलहाल कंट्रोल में है और उन्होंने स्कूल को पूरी सुरक्षा प्रदान की है. पुलिस की मौजूदगी में भी हंगामा होने पर पुलिस की ओर से गोलमोल जवाब दिए गए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT