ADVERTISEMENT

भारत में 12+ के वैक्सीनेशन को मिली इजाजत? फेक न्यूज वायरल

दावा किया जा रहा है कि सरकार ने 12 साल से अधिक उम्र वाले बच्चों को भी कोवैक्सीन दिए  जाने की अनुमति दे दी है

Updated
दावा किया जा रहा है कि अब 12 साल से अधिक के बच्चों को वैक्सीन की अनुमति मिल गई है 
i

सोशल मीडिया पर ये दावा किया जा रहा है कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को अब 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को लगाया जा सकता है.

ये दावा ऐसे वक्त पर किया जा रहा है जब कई वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है. ये लहर 18 से कम उम्र के उस वर्ग के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक है जिसका अभी तक वैक्सीनेशन शुरू नहीं हुआ है.

पड़ताल में सामने आया कि कोवैक्सीन को अब तक 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को दिए जाने की इजाजत नहीं मिली है. 13 मई को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने एक्सपर्ट कमेटी की सलाह मानते हुए भारत बायोटेक की वैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल 2 से 18 साल के आयु वर्ग पर करने की अनुमति दी है.

दावा

वायरल पोस्ट में लिखा है - "Breaking News: Bharat Biotech Vaccinen Approved For Children Above 12 Years." ब्रेकिंग न्यूज भारत बायोटेक की वैक्सीन को 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को लगाए जाने की अनुमति (हिंदी अनुवाद). फेसबुक और ट्विटर पर कई यूजर ये मैसेज शेयर कर रहे हैं.

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/7QN9-XSPC">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

ऐसे ही अन्य पोस्ट्स का अर्काइव यहां, यहां यहां और यहां देखा जा सकता है.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया ?

सबसे पहले हमने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय(MOHFW) की ऑफिशियल वेबसाइट और सोशल मीडिया हैंडल चेक किए. ऐसी कोई जानकारी हमें नहीं मिली जिससे पुष्टि होती हो कि 18 साल से कम आयुवर्ग के लिए भी वैक्सीन को अनुमति मिल गई है.

3 जनवरी को भारत में सीरम इंस्टीट्यूट को कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को अनुमति मिली. पहले चरण के वैक्सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी को हुई, जिसमें हेल्थकेयर और फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाई गई. दूसरे चरण में 60 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों को और तीसरे चरण में 45 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले लोगों को वैक्सीन लगाई गई.

ADVERTISEMENT

1 मई के बाद से 18 साल से अधिक उम्र वालों को वैक्सीन लगाए जाने की अनुमति दे दी गई. लेकिन 18 से कम उम्र वालों को वैक्सीन दिए जाने को लेकर अब तक कोई अपडेट नहीं आया है.

मंत्रालय की वेबसाइट पर FAQ सेक्शन में दी गई जानकारी के मुताबिक, सामान्य तौर पर कोई भी नई वैक्सीन पहले ज्यादा उम्र की आबादी को ही दी जाती है. इसके बाद वैक्सीन कितनी प्रभावी और कितनी सुरक्षित है ये देखते हुए कम उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जाती है. अब तक बच्चों को वैक्सीन नहीं दी जा रही है. कुछ क्लिनिकल ट्रायल्स चल रहे हैं जिससे पता चल सके कि बच्चों में कोविड वैक्सीन कितनी प्रभावी होगी.

4 जनवरी, 2021 को भारत बायोटेक को 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल करने की मंजूरी दे दी गई थी.
ADVERTISEMENT

13 मई को छपी न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, DCGI ने 12 वर्ष से 18 वर्ष की उम्र वाले बच्चों पर कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरी चरण के ट्रायल की मंजूरी दे दी है. भारत बायोटेक ने एक बयान जारी कर बताया है कि इस ट्रायल में 525 वॉलेंटियर हिस्सा लेंगे.

मतलब साफ है कि 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को कोवैक्सीन दिए जाने की अनुमति सरकार ने नहीं दी है. सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा फेक है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT