ADVERTISEMENT

नागालैंड में नागरिकों की मौत से जोड़ कोलंबिया का पुराना वीडियो वायरल

वायरल हो रहा वीडियो न तो हाल का है और न ही नागालैंड का है. ये वीडियो कोलंबिया का है और 2018 का है.

Published
नागालैंड में नागरिकों की मौत से जोड़ कोलंबिया का पुराना वीडियो वायरल
i

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कुछ स्थानीय लोग सैन्य अधिकारियों से टकराव करते नजर आ रहे हैं. इसे नागालैंड (Nagaland) में हाल में हुई नागरिकों की मौत से जोड़कर शेयर किया जा रहा है. शनिवार, 4 दिसंबर को उग्रवाद विरोधी ऑपरेशन में अर्द्धसैनिक बल के जवानों की गोलीबारी में 14 नागरिक मारे गए हैं.

हालांकि, वायरल हो रहा वीडियो न तो हाल का है और न ही नागालैंड का है. ये वीडियो कोलंबिया का है और 2018 का है.

ADVERTISEMENT

दावा

वीडियो शेयर कर दावे में लिखा जा रहा है, "Soldiers don't fire unless attacked upon, even then they warn first. See this video, you will know #NagalandFiring." (अनुवाद- सैनिक तब तक फायर नहीं करते जब तक हमला न हो, इसके बावजूद वो पहले चेतावनी देते हैं. ये वीडियो देखें, आपको नागालैंड फायरिंग के बारे में पता चल जाएगा.)

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

रिटायर्ट ग्रुप कैप्टन और फाइटर पायलट एमजे ऑगस्टीन विनोद ने इस वायरल वीडियो को ट्वीट किया था, जिसे 15,000 से भी ज्यादा बार देखा जा चुका था. उन्होंने वीडियो को ओरिजिनली इंग्लिश में इस कैप्शन (अनुवादित) के साथ ट्वीट किया था, ''याद रखें भारत के सैनिक तब तक गोली नहीं चलाते जब तक हमला नहीं किया जाता, तब भी वो पहले चेतावनी देते हैं. इस वीडियो को देखें, आपको नागालैंड फायरिंग के बारे में पता चल जाएगा.''

ADVERTISEMENT

ट्विटर यूजर ने बाद में ट्वीट का जवाब भी दिया: ''दुनिया की सभी पेशेवर सेनाओं के लिए लागू, साल में किसी भी समय.'' हालांकि, बाद में इसे हटा लिया गया.

कई फेसबुक और ट्विटर यूजर्स ने इस वीडियो को शेयर किया है, जिनके आर्काइव आप यहां और यहां देख सकते हैं.

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने वायरल ट्वीट पर आए जवाब देखे. हमें EastMojo के एडिटर इन चीफ कर्मा पलजोर का जवाब मिला, जिसके मुताबिक ये वीडियो नागालैंड नहीं, कोलंबिया का है.

EastMojo के एडिटर इन चीफ के जवाब मुताबिक ये वीडियो कोलंबिया का है

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

ये वीडियो कोलंबिया का है और पुराना है

यहां से संकेत लेकर, हमने यूट्यूब पर स्पैनिश में जरूरी कीवर्ड की मदद से सर्च किया, जिससे हमें कोलंबिया के एक न्यूज पोर्टल Cablenoticias पर 5 जनवरी 2018 को अपलोड किया गया एक बुलेटिन मिला. इसमें वायरल विजुअल का इस्तेमाल किया गया था.

वीडियो के कैप्शन में लिखा था, ''कोरिंटो, काउका में मूल निवासियों और सेना के बीच टकराव."

ये वीडियो 5 जनवरी 2018 को अपलोड किया गया था

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/यूट्यूब/Altered by The Quint)

ADVERTISEMENT

इसके अलावा, El Tiempo नाम के एक नैशनल न्यूजपेपर में जुलाई 2018 को पब्लिश एक आर्टिकल में कोरिंटो, कोलंबिया में जनवरी 2018 में हुई वायरल वीडियो वाली घटना के बारे में लिखा गया था.

आर्टिकल के मुताबिक, सैनिकों ने स्थानीय लोगों के उस ग्रुप को गिरफ्तार करने की कोशिश की थी, जिन्होंने अधिकारियों के मुताबिक अवैध रूप से एक संपत्ति पर कब्जा कर लिया था. वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि सैनिकों से झगड़े में शामिल ग्रुप के लोगों में से एक ने एक सैनिक की गर्दन में चाकू रख दिया था. इस वजह से सैनिकों ने फायरिंग की.

आर्टिकल के मुताबिक बाद में जुलाई में, काउका की एक अदालत ने कथित हमलावर को जेल भेज दिया था.

कोलंबिया के कई दूसरी मीडिया आउटलेट जैसे Semana और W Radio ने भी 2018 की इस घटना पर रिपोर्ट दी थी. ये आर्टिकल यहां और यहां पढ़े जा सकते हैं.

मतलब साफ है, सैनिकों से झगड़ा करते स्थानीय लोगों का ये वीडियो नागालैंड का नहीं है और न ही हाल का है. ये वीडियो 2018 का है और कोलंबिया का है जिसे नागालैंड में हाल में हुई नागरिकों की हत्या से जोड़कर झूठे दावे से वायरल किया जा रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और webqoof के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  वेबकूफ   Webqoof   Nagaland 

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×