ADVERTISEMENT

मनमोहन सिंह के फेक अकाउंट से 'टू चाइल्ड पॉलिसी' के विरोध में ट्वीट

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कोई ट्विटर अकाउंट ही नहीं है.

<div class="paragraphs"><p>पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कोई ट्विटर अकाउंट ही नहीं है.</p></div>
i

पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस नेता डॉ. मनमोहन सिंह के नाम से एक ट्वीट वायरल हो रहा है. मनमोहन सिंह के नाम से बनी इस ट्विटर आईडी से ट्वीट कर लिखा गया है कि 2 से ज्यादा बच्चे होने पर सरकारी सुविधाएं नहीं मिलेंगी.

हालांकि, क्विंट की वेबकूफ टीम ने पाया कि ये मनमोहन सिंह के नाम से बना ये ट्विटर अकाउंट फर्जी है, क्योंकि मनमोहन सिंह ट्विटर पर हैं ही नहीं.

दावा

डॉ. मनमोहन सिंह के नाम वाले इस ट्विटर अकाउंट से शेयर किया गया है, "2 से अधिक संतान हुए तो नही मिलेगी सरकारी सुविधाएं, यह ऐलान खुद अपने माता-पिता की 7वीं संतान कर रही है"..

<div class="paragraphs"><p>पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/4m9S1">यहां</a> क्लिक करें</p></div>

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

आर्टिकल लिखते समय तक इस ट्वीट को 4000 से भी ज्यादा रिट्वीट और करीब 18,700 लाइक मिल चुके हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने सबसे पहले इस अकाउंट का बायो देखा जिसमें दावा किया गया है कि ये अकाउंट भारत के पूर्व प्रधानमंत्री का है. साथ ही, ये भी लिखा हुआ है कि @INCIndia को टैग करके ये भी लिखा गया है कि वो कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता हैं.

इसके अलावा, इस अकाउंट को कब बनाया गया है, इस बारे में भी जानकारी आप नीचे देख सकते हैं. अकाउंट क्रिएट होने का महीना जून, 2021 लिखा है.

<div class="paragraphs"><p>ये अकाउंट जून 2021 में ही बनाया गया है.</p></div>

ये अकाउंट जून 2021 में ही बनाया गया है.

(सोर्स:स्क्रीनशॉट/ट्विटर/Altered by The Quint)

हमने DR MANMOHAN SINGH (यूजरनेम- @Dr_manmohan_1) नाम की इस ट्विटर आईडी की टाइमलाइन चेक की. हमने पाया कि इस अकाउंट से पहला ट्वीट 11 जून 2021 को किया गया था. मतलब ये कि ये अकाउंट हाल में ही ऐक्टिव हुआ है.

<div class="paragraphs"><p>इस अकाउंट से पहला ट्वीट 11 जून को किया गया था</p></div>

इस अकाउंट से पहला ट्वीट 11 जून को किया गया था

(सोर्स:स्क्रीनशॉट/ट्विटर/Altered by The Quint)

हमने इस अकाउंट की ट्विटर आईडी (1402673019638607873) गूगल पर चेक की. हालांकि, ये अकाउंट इसी नाम से हाल में ही बनाया गया है. इसलिए, हमें यूजरनेम या नाम बदलने से जुड़ी कोई जानकारी नहीं मिल पाई.

<div class="paragraphs"><p>ये अकाउंट हाल में ही बनाया गया है</p></div>

ये अकाउंट हाल में ही बनाया गया है

(फोटो: Altered by The Quint)

ADVERTISEMENT

इस अकाउंट के 10,500 से भी ज्यादा लोग फॉलो करते हैं. और इस वायरल ट्वीट को रेप्लाई करने वाले यूजर्स के कमेंट पढ़कर ऐसा लगता है कि लोग इस अकाउंट को डॉ. मनमोहन सिंह का ही ऑफिशियल अकाउंट मानते हैंं, जबकि डॉ. सिंह ट्विटर पर नहीं हैं.

हमें कांग्रेस के सोशल मीडिया डिपार्टमेंट के नैशनल कन्वीनर सरल पटेल का 19 जून 2020को किया गया एक ट्वीट मिला. जिसमें उन्होंने साफ-साफ बताया था कि मनमोहन सिंह अगर ट्विटर पर आएंगे तो इसके बार में सबको बताया जाएगा, और उनका वेरिफाइड अकाउंट होगा. यानी अभी तक वो ट्विटर पर नहीं हैं. ये ट्वीट उन्होंने मनमोहन सिंह के नाम से बने ऐसे ही फेक अकाउंट को फॉलो न करने की सलाह के साथ किया था.

<div class="paragraphs"><p>पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.st/archive/2021/6/twitter.com/v37v/">यहां</a> क्लिक करें</p></div>

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

मतलब साफ है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ट्विटर पर नहीं हैं. उनके नाम से बना ये ट्विटर अकाउंट फेक है.

ADVERTISEMENT

क्या है 2 से ज्यादा बच्चे होने पर सरकारी सुविधाएं न मिलने से जुड़ा मामला

उत्तर प्रदेश के विधि आयोग ने ऐसे कानून का मसौदा बनाने की शुरुआत कर दी है, जिसके तहत 2 से ज्यादा बच्चे वालों के लिए सरकारी योजनाओं का लाभ सीमित कर देने का प्रावधान हो सकता है. विधि आयोग के अध्यक्ष रिटायर्ड जस्टिस आदित्यनाथ मित्तल का कहना है कि अगले दो महीनों में मसौदा तैयार कर लिया जाएगा.

हालांकि, ये बिल अभी तैयार नहीं हुआ है. इसके तैयार होने के बाद इसे संबंधित विभाग को भेजा जाएगा और फिर सरकार इस पर फैसला लेगी. बता दें कि इस पहले असम के सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने भी कहा था कि राज्य में सरकारी योजनाओं का लाभ उन लोगों को मिलेगा जिनके 2 बच्चे होंगे. NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक अगले महीने के बजट सत्र में विधानसभा में सरकार इस कानून को व्यापक रूप से लागू करने के लिए कानून ला सकती है. राज्य सरकार के मुताबिक अभी इस पर काम चल रहा है लेकिन अंतिम रूप नहीं दिया गया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT