ADVERTISEMENTREMOVE AD

भारतीय मूल के युवक युवराज गोयल की कनाडा में गोली मारकर हत्या, चार आरोपी गिरफ्तार

पुलिस के अनुसार युवराज के पास कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था. वर्तमान में वह कनाडा स्थित बसंत मोटर्स में सेल्स एग्जीक्यूटिव के रूप में काम कर रहे थे.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

कनाडा (Canada) के सरे में लुधियाना, पंजाब के रहने 28 वर्षीय युवक युवराज गोयल की गोली मारकर हत्या कर दी गई. वह 2019 में छात्र वीजा पर कनाडा गए थे और हाल ही में उन्हें कनाडा का स्थायी निवासी (पीआर) का दर्जा मिला था.

युवराज का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था और पुलिस अभी भी उनकी हत्या के पीछे के मकसद की जांच कर रही है. वहीं घटना के तुरंत बाद चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

घटना को कैसे अंजाम दिया ?

7 जून की सुबह, सुरे स्थित अपने घर पर गोली चलने की सूचना पर पुलिस पहुंची और वहां गोयल का शव पाया. गोयल की मां के साथ फोन पर बात करते समय उनकी हत्या की गई थी. उनके साले, बवंदीप ने ग्लोबल न्यूज को बताया, "वह जिम से वापस आए थे और जैसे ही अपनी कार से बाहर निकले, उन पर गोली चलाई गई."

पुलिस का बयान

सुरे रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस (RCMP) ने बयान जारी कर कहा कि चार संदिग्धों को तुरंत पहचान कर गिरफ्तार कर लिया गया. 8 जून को चारों आरोपियों को प्रथम-श्रेणी हत्या के आरोप में अदालत में पेश किया गया. गिरफ्तार व्यक्तियों में मनवीर बसराम (23), साहिब बसरा (20), हरकीरत झुट्टी (23) और कीलॉन फ्रैंकोइस (20) शामिल हैं.

इस हत्या की जांच का जिम्मा इंटीग्रेटेड होमिसाइड इन्वेस्टिगेशन टीम (IHIT) ने लिया है. IHIT सुरे RCMP, इंटीग्रेटेड फॉरेंसिक आइडेंटिफिकेशन सर्विस और ब्रिटिश कोलंबिया के कॉम्बाइंड फोर्सेस स्पेशल एनफोर्समेंट यूनिट (CFSEU-BC) के साथ मिलकर जांच कर रही है.

बता दें कि पुलिस के अनुसार, युवराज गोयल का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था. फिलहाल जांच टीम हत्या के पीछे के कारणों को जानने की कोशिश कर रही है, हालांकि, शुरुआती सबूत इसे टारगेट अटैक बता रहे हैं.

0

परिवार के सदस्यों का बयान

युवराज के पिता, राजेश गोयल, फायरवुड का बिजनेस करते हैं और उनकी मां, शकुन गोयल, हाउसवाइफ हैं.

इंडियन एक्सप्रेस के रिपोर्ट के अनुसार मां ने बताया कि मार्च में जब वह युवराज से मिलने गई थीं, तब वह बहुत खुश था. उन्होंने कहा, "घटना से कुछ समय पहले मैंने उससे बात की थी. वह जिम से घर लौट रहा था और मुझसे कहा था कि मैं सो जाऊं क्योंकि भारत में रात हो चुकी थी. उसने कहा था कि वह बाद में फोन करेगा.

" युवराज की मौत से दुखी माता-पिता ने कहा कि कनाडाई सरकार को समझना चाहिए कि माता-पिता अपने बच्चों को सपनों के साथ कनाडा भेजते हैं, ना कि उनकी मृत शरीर वापस पाने के लिए. परिवार को शक है कि यह गलत पहचान का मामला हो सकता है और इसकी पूरी जांच होनी चाहिए."

दिल्ली विश्वविद्यालय से बी.कॉम (ऑनर्स) करने के बाद युवराज 2019 में कनाडा गए थे. वह एक छात्र वीजा पर कनाडा आए थे और हाल ही में उन्हें स्थायी निवास की स्थिति प्राप्त हुई थी. उन्होंने भारत में लगभग दो वर्षों तक काम किया और फिर कनाडा में मास्टर्स इन फाइनेंस की पढ़ाई की. वर्तमान में वह कनाडा स्थित बसंत मोटर्स में सेल्स एग्जीक्यूटिव के रूप में काम कर रहे थे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×