ADVERTISEMENTREMOVE AD

बिल्डिंग गिरी, सड़कें टूटीं-बंदरगाह में आग: जापान में आए 155 भूकंप के झटके, 30 मौतें

Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

जापान में नए साल के पहले दिन आये भूकंप (Earthquake) में 30 लोगों की मौत हो गई और कई के अभी भी फंसे होने की आशंका है. बताया जा रहा है कि देश में एक दिन में 155 भूकंप आया. इस बीच, भूकंप में जीवित बचे लोगों को खोजने के लिए जापानी बचाव दल मंगलवार को घंटों जूझते रहे. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया, जिससे एक मीटर से अधिक ऊंची सुनामी लहरें उठीं, जिसके परिणामस्वरूप इमारतें गिर गईं, एक बड़े बंदरगाह में आग लग गई और सड़कें टूट गईं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कितना खतरनाक था भूकंप?

भूकंप के तीव्रता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि नोटो प्रायद्वीप पर बड़े स्तर पर नुकसान हुआ है. इमारतें अभी भी सुलग रही थीं, घर समतल हो गए और मछली पकड़ने वाली नावें डूब गईं या किनारे पर बह गईं हैं.

शिका शहर में पानी के लिए सैकड़ों अन्य लोगों के साथ कतार में खड़े 73 वर्षीय त्सुगुमासा मिहारा ने AFP को बताया, "यह बहुत शक्तिशाली झटका था." उन्होंने आगे कहा, "साल की शुरुआत करने का यह कितना भयानक तरीका है."

पुलिस ने कहा कि छह लोग मारे गए हैं, लेकिन मृतकों की संख्या अभी और बढ़ेगी. क्योदो समाचार एजेंसी ने बताया कि 30 लोगों की मौत हो गई, जिनमें बुरी तरह प्रभावित वाजिमा बंदरगाह के सात लोग शामिल हैं.

Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

यह हवाई तस्वीर जापान के इशिकावा प्रान्त के सुज़ु में भूकंप से प्रभावित क्षेत्र को दिखाती है.

(फोटो: PTI)

प्रधान मंत्री फुमियो किशिदा ने आपदा प्रतिक्रिया बैठक के बाद कहा, "बहुत व्यापक क्षति की पुष्टि की गई है, जिसमें कई लोगों की मौत, इमारत ढहना और आग शामिल है. हमें आपदा के पीड़ितों की तलाश और बचाव के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी."

हवाई समाचार फुटेज में वाजिमा में भीषण आग से हुई तबाही दिखाई गई, जहां एक सात मंजिला इमारत ढह गई.

स्थानीय ऊर्जा प्रदाता ने कहा कि क्षेत्र में लगभग 45,000 घरों में बिजली नहीं थी, जिससे रात भर तापमान में गिरावट दर्ज की गई. कई शहरों में पानी की भारी किल्लत देखी जा रही है.

अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (USGS) ने कहा कि भूकंप की तीव्रता 7.5 थी. जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी ने इसे 7.6 मापा, और कहा कि यह मंगलवार (2 जनवरी) सुबह तक क्षेत्र को हिला देने वाले 150 अधिक भूकंपों में से एक था.

Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

जापान के इशिकावा प्रान्त के सुज़ु में भूकंप के बाद एक पुल पर दरारें देखी गईं.

(फोटो: PTI)

मंगलवार तड़के कई तेज झटके महसूस किए गए, जिनमें से एक झटका 5.6 तीव्रता का था, जिसके कारण राष्ट्रीय प्रसारक एनएचके को एक विशेष कार्यक्रम पर बंद करना पड़ा.

प्रस्तुतकर्ता ने दर्शकों को उनकी रसोई में आग की जांच करने की याद दिलाते हुए कहा, "कृपया गहरी सांस लें."

सुनामी की चेतावनी हटाई गई

सोमवार (1 जनवरी) को कम से कम 1.2 मीटर (चार फीट) ऊंची लहरें वाजिमा से टकराईं, और अन्य जगहों पर छोटी सुनामी की एक श्रृंखला की सूचना मिली.

बहुत बड़ी लहरों की चेतावनियां निराधार साबित हुईं और मंगलवार को जापान ने सुनामी की सभी चेतावनियां हटा लीं.

सोशल मीडिया पर मौजूद तस्वीरों में इशिकावा में कारों और घरों को हिंसक रूप से हिलते हुए और भयभीत लोगों को दुकानों और रेलवे स्टेशनों पर दुबके हुए दिखाया गया है. मकान ढह गए और सड़कों में बड़ी-बड़ी दरारें आ गईं.

Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

शिकामाची में भूकंप के बाद एक बिल्डिंग ढह गई और इस दौरान एक वाहन इमारत के नीचे दब गया.

(फोटो: PTI)

टेलीविजन फुटेज में दिखाया गया कि वाजिमा में एक ढही हुई बड़ी कमर्शियल बिल्डिंग के नीचे अग्निशमन कर्मियों की एक टीम रेंगती हुई पहुंची.

एक बुजुर्ग व्यक्ति ने NHK को बताया, "ऐसा कंपन था जैसा मैंने पहले कभी अनुभव नहीं किया."

मेरे घर के अंदर, यह बहुत भयानक था. मैं अभी भी जीवित हूं. शायद मुझे उसी से संतुष्ट रहना होगा.
बुजुर्ग व्यक्ति

कितना हुआ नुकसान?

वीडियो फुटेज में दिखाया गया है कि वाजिमा में आग ने घरों की एक कतार को अपनी चपेट में ले लिया. इस दौरान कुछ लोग कंबल के साथ और अन्य बच्चों को लेकर अंधेरे में निकल रहे हैं.

NHK ने बताया कि शहर में 25 घर ढह गए हैं, जिनमें से 14 ऐसे हैं जिनके अंदर लोग फंसे हो सकते हैं.

Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

जापान के इशिकावा प्रान्त के वाजिमा में भूकंप के बाद एक इमारत ढह गई.

(फोटो: PTI)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इशिकावा के गवर्नर हिरोशी हसे ने एक्स, पर लिखा कि व्यापक क्षेत्रों में भूस्खलन या दरार के कारण सड़कें कट गई हैं, जबकि सुजु के बंदरगाह में "कई" जहाज पलट गए हैं.

अग्निशमन और आपदा प्रबंधन एजेंसी के अनुसार, कुल 62,000 लोगों को निकालने का आदेश दिया गया था.

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि लगभग 1,000 लोग एक सैन्य अड्डे पर रह रहे थे.
Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

भूकंप के बाद लोग प्रीफेक्चुरल सरकारी कार्यालय में शरण लेते हुए.

(फोटो: PTI)

बुलेट ट्रेनें निलंबित

रक्षा मंत्री मिनोरू किहारा ने कहा कि 1,000 सैन्यकर्मी इस क्षेत्र में जाने की तैयारी कर रहे हैं, जबकि 8,500 अन्य लोग तैयार हैं. क्षति का सर्वेक्षण करने के लिए लगभग 20 सैन्य विमान भेजे गए.

सोमवार को आए भूकंप से लगभग 300 किलोमीटर दूर राजधानी टोक्यो के अपार्टमेंट हिल गए, जहां सम्राट नारुहितो और उनके परिवार के सदस्यों को शामिल होने वाला एक सार्वजनिक नववर्ष शुभकामना कार्यक्रम रद्द कर दिया गया.

जापान के सड़क संचालक ने कहा कि भूकंप के केंद्र के आसपास कई प्रमुख राजमार्ग बंद कर दिए गए और टोक्यो से बुलेट ट्रेन सेवाएं भी निलंबित कर दी गईं.

जापान में हर साल सैकड़ों भूकंप आते हैं और अधिकांश भूकंपों से कोई नुकसान नहीं होता.

पिछले साल जापानी सरकार की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि नोटो प्रायद्वीप क्षेत्र में भूकंप की संख्या 2018 से लगातार बढ़ रही है.

जापान 2011 में पूर्वोत्तर जापान में समुद्र के अंदर आए 9.0 तीव्रता के भीषण भूकंप से परेशान है, जिसके बाद सुनामी आई, जिसमें लगभग 18,500 लोग मारे गए या लापता हो गए.
Japan: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, 7.5 तीव्रता का भूकंप होंशू के मुख्य द्वीप पर इशिकावा प्रांत में आया

जापान के इशिकावा प्रान्त के कनाज़ावा में भूकंप से गिरे हुए घर देखे गए.

(फोटो: PTI)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इसने फुकुशिमा परमाणु संयंत्र को भी तबाह कर दिया, जिससे दुनिया की सबसे खराब परमाणु आपदाओं में से एक हुई.

जापान के परमाणु प्राधिकरण ने कहा कि सोमवार के भूकंप के बाद इशिकावा में शिका परमाणु ऊर्जा संयंत्र या अन्य संयंत्रों में कोई असामान्यता की सूचना नहीं मिली है.

वाशिंगटन में, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को सोमवार के भूकंप के बारे में जानकारी दी गई और उन्होंने जापान को इसके परिणामों से निपटने के लिए "कोई भी आवश्यक सहायता" की पेशकश की.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने "एकजुटता" व्यक्त की, जबकि इतालवी प्रधान मंत्री जियोर्जिया मेलोनी ने संवेदना और सहायता की पेशकश की.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×