ADVERTISEMENTREMOVE AD

Libya Flood: लीबिया में तूफान और बाढ़ से तबाही, 20000 मौतों की आशंका-हजारों लापता

Libya Flood: तूफान और बाढ़ की वजह से लीबिया के तटीय इलाकों में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. डर्ना को आपदा क्षेत्र घोषित किया गया है.

Published
छोटा
मध्यम
बड़ा

अफ्रीकी देश लीबिया (Libya) में विनाशकारी तूफान और बाढ़ ने भयंकर तबाही मचाई है. डैनियल तूफान (Daniel Storm) के चलते आई बाढ़ में 20000 लोगों के मारे जाने की आशंका जताई जा रही है. सबसे ज्‍यादा तबाही डर्ना में हुई है.

पूर्वी लीबिया सरकार के प्रधानमंत्री ओसामा हमाद ने कहा कि तटीय शहर डर्ना में 20,000 से ज्‍यादा लोगों के मारे जाने की आशंका है और हजारों लोगों के लापता होने की खबर है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

डर्ना को आपदा क्षेत्र घोषित किया गया

पूर्वी लीबियाई सरकार के प्रधानमंत्री ओसामा हमद ने कहा कि भूमध्यसागरीय तूफान डैनियल लीबिया में विनाशकारी बाढ़ का कारण बना है. उत्तरी अफ्रीकी राष्ट्र के पूर्व में कई तटीय शहरों के इलाके बह गए हैं. डर्ना को आपदा क्षेत्र घोषित किया गया है.

जबकि स्वास्थ्य मंत्री ओथमान अब्दुलजलील ने सऊदी के स्वामित्व वाले सैटेलाइट चैनल अल-अरबिया से बातचीत में मरने वालों की संख्या की घोषणा करते हुए 50 लोगों के लापता होने की पुष्टि की. अब्दुलजलील ने कहा कि इस संख्या में डर्ना, जिसे आपदा क्षेत्र घोषित किया गया है, शामिल नहीं है.

शहर के मुख्य चिकित्सा केंद्र ने कहा कि मृतकों में पूर्वी शहर बायदा के 12 लोग शामिल हैं. एम्बुलेंस और आपातकालीन प्राधिकरण के अनुसार, पूर्वोत्तर लीबिया के तटीय शहर सुसा में सात अन्य लोगों की मौत होने की सूचना है.

मंत्री ने कहा कि शाहट्ट और उमर अल-मुख्तार कस्बों में सात अन्य लोगों के मारे जाने की खबर है.

बिजली और संचार माध्यम न होने की वजह से स्थिति भयावह

रविवार को एक अन्य व्यक्ति की मौत की पुष्टि की गई. पूर्वी लीबिया में सरकार द्वारा संचालित आपातकालीन प्रतिक्रिया एजेंसी के प्रवक्ता वालिद अल-अरफी के अनुसार, वह व्यक्ति अपनी कार में फंस गया था और पूर्वी शहर मार्ज में बाढ़ से घिरा हुआ था. लीबियाई रेड क्रिसेंट ने कहा कि उसका अपने एक कर्मचारी से संपर्क टूट गया, क्योंकि वह बायदा में फंसे एक परिवार की मदद करने का प्रयास कर रहा था.

स्थानीय मीडिया के अनुसार, दर्जनों अन्य लोगों के लापता होने की सूचना है और अधिकारियों को डर है कि बाढ़ में उनकी मौत हो सकती है.

डर्ना, इस तूफान में सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है. स्थानीय मीडिया का कहना है कि बिजली और संचार माध्यम न होने से वहां की स्थिति काफी भयावह हो गई है.

पिछले दिनों, लीबियाई लोगों ने सोशल मीडिया पर बाढ़ की कई तस्वीरें साझा की थी. वीडियो में वो मदद की गुहार लगाते दिख रहे थें. वहीं घर के चारों ओर बाढ़ का पानी था. इमारतें और कार कागज के बने खिलौने की तरह बहते दिखाई दे रहे थें.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

लीबिया में तीन दिन के शोक की घोषणा

पूर्वी लीबिया सरकार के प्रधानमंत्री ओसामा हमाद ने भारी बारिश और बाढ़ के कारण शहर का अधिकांश हिस्सा नष्ट होने के बाद डर्ना को आपदा क्षेत्र घोषित कर दिया है. उन्होंने बताया कि सरकार ने 9 सितंबर को आपातकाल की घोषित कर दी थी और तूफान के मद्देनजर शिक्षण संस्थानों को भी बंद कर दिया गया था.

सोमवार 11 सितंबर को प्रधानमंत्री ओसामा हमाद ने तीन दिन के शोक की घोषणा की है.

पूर्वी और पश्चिमी लीबिया पर नियंत्रण रखने वाले कमांडर खलीफा हिफ्टर ने बेंगाजी और अन्य पूर्वी शहरों राहत-बचाव के लिए सेना तैनात की है. हिफ्टर की सेना के प्रवक्ता अहमद अल-मोस्मारी ने जानकारी देते हुए बताया है कि बायदा में लोगों की मदद के लिए गए पांच सैनिकों से उनका संपर्क टूट गया है.

18 सितंबर को तूफान डेनियल के पश्चिम मिस्र पहुंचने की संभावना

लीबिया 60 लाख से अधिक जनसंख्या वाला देश है. 2011 में नाटो समर्थित विद्रोह के बाद से यह भूमध्यसागरीय राष्ट्र अराजकता में डूब गया. तानाशाह मोअम्मर गद्दाफी ने इस देश पर काफी लंबे समय तक शासन किया. हालांकि बाद में उन्हें, सत्ता से हटा दिया गया और कुछ समय बाद उनकी मृत्यु हो गई.

यह तेल-समृद्ध देश पिछले दशक के अधिकांश समय से पूर्व और पश्चिम में प्रतिद्वंद्वी प्रशासनों के बीच विभाजित रहा है. प्रत्येक प्रशासन को सशस्त्र समूहों और मिलिशिया और विदेशी सरकारों का समर्थन प्राप्त है.

तूफान डैनियल के 18 सितंबर को पश्चिम मिस्र के कुछ हिस्सों में पहुंचने की आशंका है और देश के मौसम अधिकारियों ने संभावित बारिश और खराब मौसम के बारे में चेतावनी दी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×