ADVERTISEMENTREMOVE AD

कनाडा के आसमान में दिखा फ्लाइंग ऑब्जेक्ट, अमेरिकी फाइटर जेट ने मार गिराया

अमेरिकी राष्ट्रपति Joe Biden के आदेश पर एक दिन पहले ही अलास्का के पास उड़ रही अज्ञात वस्तु को मार गिराया गया था

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

अमेरिकी फाइटर जेट ने लगातार दूसरे दिन उत्तर अमेरिकी हवाई क्षेत्र में एक और अज्ञात वस्तु को मार गिराया (unidentified object shot down) गया है. इस बात की कनाडा (Canada) के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि इस लेटेस्ट 'वस्तु' ने कनाडाई हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया और उत्तर-पश्चिम कनाडा में युकोन के ऊपर इसे मार गिराया गया. उन्होंने अपने ट्वीट में बताया कि कनाडाई और अमेरिकी, दोनों देश के विमानों को उस वस्तु का पता लगाने के लिए पीछा करना पड़ा और आखिर में उसे एक अमेरिकी F-22 फाइटर जेट ने मार गिराया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

शुक्रवार 11 फरवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने अलास्का के पास उड़ रही एक अज्ञात वस्तु को मार गिराने का आदेश दिया था. हालांकि दोनों ही मामलों में वह 'अज्ञात वस्तु' क्या है, सार्वजनिक रूप से इसकी जानकारी नहीं है. अधिकारियों ने कहा कि उन्हें अभी यह निर्धारित करना है कि युकोन के ऊपर फाइटर जेट ने जिसे उड़ाया है, वह क्या है.

कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो ने अपने ट्वीट में कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति बाइडेन के साथ बात की थी. उन्होंने अपने ट्विटर पोस्ट में कहा "कनाडाई सेना अब वस्तु के मलबे को रिकवर करेगी और विश्लेषण करेगी... उत्तरी अमेरिका पर नजर रखने के लिए NORAD को धन्यवाद."

एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए, कनाडा की रक्षा सचिव, अनीता आनंद ने कहा कि वस्तु बेलनाकार/सिलिंड्रिकल थी, और पिछले हफ्ते अटलांटिक के ऊपर जिस चीनी जासूसी गुब्बारे को मार गिराया गया था, उससे छोटी थी.

चीनी जासूसी गुब्बारा मिलने के बाद से सरगर्मी बढ़ी

ऐसा माना जाता है कि अमेरिका के लिए अज्ञात उड़ने वाली वस्तुओं को मार गिराना दुर्लभ है. लेकिन लगभग दो हफ्ते पहले अमेरिकी आसमान में एक चीनी जासूसी गुब्बारे के मिलने के बाद से अमेरिका में तनाव बहुत अधिक है. पहले अमेरिका ने उसे मार गिराया और फिर विदेश मंत्री एंटनी जे. ब्लिंकेन ने चीन की अपनी यात्रा रद्द कर दी.

चीनी सरकार ने स्वीकार किया कि यह गुब्बारा उसका अपना था, लेकिन कहा कि यह मौसम विभाग से जुड़ा था, जासूसी के उद्देश्य से नहीं.

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार तीन अमेरिकी अधिकारियों ने बताया है कि, अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का आकलन है कि चीन का जासूसी गुब्बारा प्रोग्राम एक वैश्विक निगरानी प्रयास का हिस्सा है. दावा है कि इसे दुनिया भर के देशों की सैन्य क्षमताओं के बारे में जानकारी जमा करने के लिए बनाया गया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×