हाथरस केस में रोज नए एंगल, लेकिन कहां गुम हो गई दरिंदगी की बात?

हाथरस केस में जाती का एंगल भी है क्युंकि बार बार जाति के हवाले से विक्टिम की शिनाख्त की जा रही है.

Published
पॉडकास्ट
1 min read
हाथरस केस में जाती का एंगल भी है क्युंकि  बार बार  जाति के हवाले से विक्टिम की शिनाख्त की जा रही है.
i

हाथरस मामले पर हर रोज कोई नया एंगल निकाला जा रहा है. जिससे अब ये चर्चा तो लगभग खत्म हो चुकी है कि उस 20 साल की लड़की के साथ क्या हैवानियत हुई थी. इस पूरी घटना को अब नया रूप दिया जा रहा है और उसकी आड़ में हर सवाल को छिपाने की कोशिश हो रही है. नया एंगल ये है कि हाथरस में पिछले कुछ दिनों से जो कुछ भी हो रहा है उसे दंगे भड़काने की साजिश बताया गया है, साथ ही ये भी कहा गया है कि इसके लिए विदेशी फंडिंग भी हुई. खुद राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ ये दावा कर रहे हैं. जिसके बाद से अब मीडिया को भी नया मसाला मिल गया और हर सवाल की जगह अब यही नए एंगल चलाए जा रहे हैं.

इस केस को लेकर अब विपक्षी नेताओं, मीडिया, सत्ता पक्ष और सोशल मीडिया पर कई पहलुओं पर बहस जारी है. तो आज इस पॉडकास्ट में इस मल्टीलेयर्ड मामले को अलग-अलग एंगल से एक्सपर्ट्स की मदद से समझेंगे.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!