चीन के बढ़ते हौसले पर क्या रणनीति तैयार कर रहा है भारत?

ऐसा क्यों कहा जा रहा है कि इस स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के इस्तेमाल से चीन को ज़ोर का झटका धीरे से लगेगा?

Published
पॉडकास्ट
1 min read
कहा जा रहा है कि पांगोंग सो के दक्षिणी इलाके में अब स्पेशल फ्रंटियर फोर्स तैनाती कर दी गई है. 
i

भारत और चीन के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है. पिछले करीब दो महीने से जारी बातचीत के बाद एक बार फिर चीन की तरफ से एलएसी पार करने की कोशिश की गई. पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो झील के नजदीक चीनी सैनिक पूरी तैयारी से घुसपैठ करने के लिए आए थे, लेकिन भारतीय जवानों ने दीवार बनकर एक बार फिर उनका रास्ता रोक लिया और चीनी सेना अपने मंसूबों में नाकाम रही. 29 अगस्त की रात हुई इस घुसपैठ की कोशिश के बाद भी चीनी सेना ने 31 अगस्त को भी ऐसी ही हरकत करने की कोशिश की, जिसे फिर भारतीय सेना ने नाकाम किया. लेकिन  इस नए डेवलपमेंट की खास बात ये है कि पैंगोंग त्सो के साउथ एरिया पर कभी कोई तनाव नहीं होने की वजह से वहां आर्मी कभी भी तैनात नहीं रही.

अब भारत ने उस पूरे इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी है. इस इलाके में अब स्पेशल फ्रंटियर फोर्स तैनाती कर दी गई है. जिन्हे 'विकास बटालियन' भी कहा जाता है.

अब ये स्पेशल फ्रंटियर फोर्स क्या हैं, इनका महत्व क्या होता है, और ऐसा क्यों कहा जा रहा है कि इस स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के इस्तेमाल से चीन को जोर का झटका धीरे से लगेगा? आज के पॉडकास्ट में इसी मुद्दे पर बात होगी.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!