तनिष्क का विज्ञापन वापस लेना किसकी जीत? न्यू इंडिया का नया ट्रेंड

धर्म निरपेक्ष भारत में कुछ लोगों ने इस विज्ञापन का इतना विरोध किया कि कंपनी को इसे हटाना पड़ा.

Published
पॉडकास्ट
1 min read
आखिर ‘न्यू इण्डिया’ सेक्युलर मेसेज क्यों नहीं सुन्ना चाहता? 
i

रिपोर्ट: फबेहा सय्यद
असिस्टेंट एडिटर: मुकेश बौड़ाई
म्यूजिक: बिग बैंग फज

विज्ञापन के बदलते नए तरीकों को हमने पिछले कई सालों में देखा है. अब कई कंपनियां अपने विज्ञापन में समाज के लिए एक ऐसा मैसेज देने की कोशिश करती हैं, जिससे आपसी लगाव बना रहे. इससे उनके प्रोडक्ट को भी फायदा पहुंचता है और सोसाइटी को भी. लेकिन फिलहाल एक ऐसे ही विज्ञापन पर बहस छिड़ी है. धर्म निरपेक्ष भारत में कुछ लोगों ने इस विज्ञापन का इतना विरोध किया कि कंपनी को इसे हटाना पड़ा.

विज्ञापन में हिंदू और मुस्लिम परिवारों को एक दूसरे के रिवाज अपनाते हुए दिखाया गया था. लेकिन लोगों ने इसे नफरत की नजर से देखा और लव जिहाद को बढ़ावा देने का आरोप लगा दिया.

ये विज्ञापन भारत के एक बड़े ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क का है. आज के पॉडकास्ट में आपको बताएंगे कि इस विज्ञापन में ऐसा क्या कंटेंट दिया गया था, जिससे लोगों को इतनी तकलीफ पहुंच रही है और तनिष्क के खिलाफ कैंपेन तक चलाया जा रहा है. साथ ही जानेंगे कि समाज में हो रहे इस बदलाव का मार्केटिंग इंडस्ट्री पर क्या असर पड़ेगा और उन्हें क्या करना चाहिए.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!