ADVERTISEMENT

T20 वर्ल्ड कप हारे, अब आगे क्या? पंड्या को T20 कप्तान और अलग कोच बनाने की जरूरत

T20 World Cup 2022: 9 साल से भारत ने ICC के तीनों प्रारूपों में से किसी में भी खिताब नहीं जीता है

Updated
T20 वर्ल्ड कप हारे, अब आगे क्या? पंड्या को T20 कप्तान और अलग कोच बनाने की जरूरत
i

पिछले साल विश्व कप (T20 World Cup 2022) से पहले जब विराट कोहली ने T20 कप्तान के रूप में पद छोड़ दिया, तो उन्होंने इस फॉर्मेट में आगे बढ़ने की एक स्पष्ट योजना दी. कोहली ने सुझाव दिया कि वे एक युवा उप-कप्तान के साथ भारत के ODI कप्तान के रूप में अपना खेल जारी रखना चाहेंगे, ताकि 2023 विश्व कप पर कब्जा किया जा सके.

T20 फॉर्मेट के लिए कोहली ने सुझाव दिया कि रोहित शर्मा को उसी तरह युवा उपकप्तान के साथ कप्तानी करनी चाहिए.

ADVERTISEMENT

साधारण शब्दों में कहें तो कोहली ने सफेद गेंद के दो फॉर्मेट को अलग करने और उनमें गौरव हासिल करने के लिए दो अलग-अलग तरीके अपनाने का सुझाव दिया था. लेकिन उनके इस विचार को पूरी तरह से खारिज कर दिया और BCCI इस बात पर भड़क गया कि कोहली सफेद गेंद के दो फॉर्मेट को अलग करने के बारे में सोच भी कैसे सकते हैं.

एक साल बाद, जब भारत को खिताबी मुकाबले से पहले एक और टी20 विश्व कप से बाहर होना पड़ा, तो एक बार फिर सवाल उठता है कि कोहली के सुझाव को नजरअंदाज क्यों कर दिया गया?

भारतीय क्रिकेट में सबसे बड़ी भूल टी20 और एकदिवसीय फॉर्मेट को एक साथ देखने की रही है, जबकि वास्तव में दोनों अलग-अलग हो सकते हैं. खिलाड़ियों के पहने जाने वाले रंगीन कपड़ों और खेलने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सफेद गेंद को छोड़कर दोनों फॉर्मेट किसी भी बिंदु पर मेल नहीं खाते हैं.
ADVERTISEMENT

ODI-T20 में अलग-अलग स्किल सेट की जरूरत

दोनों फॉर्मेट में अब पूरी तरह से अलग स्किल सेट की आवश्यकता है. कुछ खिलाड़ी केवल टी20 क्रिकेट खेल सकते हैं, और एकदिवसीय फॉर्मेट में चुने जाने में मुश्किल हो सकती है. इस साल के इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के बाद दिनेश कार्तिक और हर्षल पटेल को चुनते ही भारत ने उसी रास्ते पर जाना शुरू कर दिया. लेकिन सभी फॉर्मेट वाले खिलाड़ियों को चुनने में खास T20I पक्ष को अधिक महत्व देने की आवश्यकता थी.

दुर्भाग्य से सेमीफाइनल में एडिलेड ओवल में इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जोस बटलर और एलेक्स हेल्स के बदौलत भारत का खिताब जीतने का सपना टूट गया.

ADVERTISEMENT

T20I टीम की खास टीम बनाने की जरूरत

अब अगर आप इंग्लिश T20I टीम को देखें, तो वे इस विश्व कप में सही तरीके से गए हैं. उन्होंने ऐसी प्लेइंग चुनी जहां उनके पास 11 बल्लेबाज और सात-आठ गेंदबाज थे. ये कप्तान बटलर को मैदान पर बहुत सारे विकल्प देता है. बाद में, जब वे बल्लेबाजी करते हैं, तो वे बल्लेबाजी में गहराई के कारण स्पष्ट आक्रामक दृष्टिकोण के साथ बल्लेबाजी कर सकते हैं.

T20I फॉर्मेट में भारतीय प्लेइंग इलेवन को देखें तो बल्लेबाज गेंदबाजी नहीं करते हैं, गेंदबाज बल्ले से कुछ भी नहीं करते हैं (शायद रविचंद्रन अश्विन को छोड़कर). हार्दिक पांड्या अपवाद हैं.

इसलिए, अंत में कोशिश होती है कि किसी तरह बटकर खेला जाए. हालांकि इस टी20 विश्व कप की अगुवाई से पहले टेम्पलेट में बदलाव के बारे में बहुत सारी बातें हुईं थी.

इस टी20 विश्व कप में खासतौर पर पावरप्ले में आक्रामकता गायब थी और इसी के चलतेभारत हमेशा कैच-अप खेल रहा था. ऐसा लगता है कि टीम के दृष्टिकोण को बदलने का कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है. वे खास खिलाड़ी जो सफेद गेंद के टूर्नामेंट में टीम को लचीलापन देते हैं, इस लाइन-अप में गायब हैं.

ADVERTISEMENT

यह चयनकर्ताओं और टीम प्रबंधन के लिए सबसे जरूरी काम होना चाहिए था. भारत दुनिया की सबसे बड़ी टी20 फ्रेंचाइजी लीग की मेजबानी करता है, फिर भी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वालों के साथ एक अच्छी टीम को मैदान में नहीं उतार सकता. यह कहकर कि गेंदबाजी सही नहीं थी या इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, अपने खुद के खिलाड़ियों को नीचा दिखाने की अनिच्छा जाहिर करता है.

T20I टीम में संतुलन की कमी के कारण भारत ने युजवेंद्र चहल को पूरे टूर्नामेंट में XI में नहीं चुना. कुछ तो गलत होगा कि चहल को पिछले साल के विश्व कप के लिए नहीं चुना गया था और इस साल प्लेइंग इलेवन में नहीं चुना गया था. कारण सरल है, यदि आप चहल को चुनते हैं तो बल्लेबाजी कमजोर हो जाती है और अंतर को पाटने के लिए टीम अक्षर पटेल के साथ गई.

तो, समस्या भारतीय क्रिकेट में एक ही है- दृष्टिकोण. दुर्भाग्य से, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड आदि में प्रोफेशनल क्रिकेट सेट-अप के उलट. भारत में ICC टूर्नामेंटों में इतनी निराशाओं के बावजूद कोई सिर नहीं झुकाएगा. यह फैसला चयनकर्ताओं और टीम प्रबंधन को ही करना होगा.

ADVERTISEMENT

साफ दृष्टिकोण की कमी

अब समय आ गया है कि गलत को ठीक किया जाए और खुले तौर पर 2024 टी20 विश्व कप की योजना बनाई जाए. उन्होंने हार्दिक पांड्या को अगले सप्ताह न्यूजीलैंड की यात्रा करने वाली टी20 टीम का कप्तान नियुक्त किया है, लेकिन दिग्गजों की वापसी के लिए दरवाजा खुला छोड़ दिया है. न्यूजीलैंड सीरीज के लिए टीम एक बार फिर सोच की कमी दिखाती है. उन्होंने ऋषभ पंत को उप-कप्तान बनाने के साथ तीन विकेटकीपर चुने हैं.

टीम में बहुत कम ऑल-राउंडर खिलाड़ी हैं और इस कमी को फिर से दूर नहीं किया गया है. केवल एक ही बात निश्चित है, कार्तिक अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेलेंगे क्योंकि उन्हें सेमीफाइनल के लिए भी नहीं चुना गया था, बावजूद इसके कि उन्हें पूरी तैयारी से ले जाया गया. चयनकर्ताओं या टीम प्रबंधन से एक स्पष्ट दृष्टिकोण की जरूरत है.

9 साल से भारत ने तीनों प्रारूपों में ICC पुरुष खिताब नहीं जीता है. किसी अन्य सेट-अप में उनके सामने आने वाली समस्याओं का एक ईमानदार समाधान होता लेकिन यहां समस्याएं कालीन के नीचे बह जाती हैं.
ADVERTISEMENT

इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने एशेज में अपनी टीम की हार की नियमित रूप से खुली समीक्षा की है. इंग्लैंड की सफेद गेंद का पुनरुद्धार बांग्लादेश के हाथों 2015 वनडे विश्व कप क्वार्टर फाइनल में हार के ठीक बाद हुआ था. उसी एडिलेड ओवल में जहां भारत गुरुवार को हार गया. उन्होंने स्वीकार किया कि इंग्लैंड को अपनी सफेद गेंद क्रिकेट को फिर से शुरू करने की जरूरत है और इयोन मोर्गन को खुली छूट दे दी.

सबको अपनी-अपनी जगह सुरक्षित लग रही

भारत में कभी भी खुला प्रवेश नहीं होता है, क्योंकि यदि आप स्वीकार करते हैं कि कोई समस्या है तो आपको समाधान खोजना होगा. भारत ने 2011 विश्व कप के बाद इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में 0-8 टेस्ट हार को नजरअंदाज करना चुना. इसलिए 9 साल का यह लंबा इंतजार शायद ही कोई आश्चर्य की बात हो. चयनकर्ता को नहीं पता कि उनका भविष्य क्या है, कोचिंग स्टाफ सोट रहे हैं कि उनका कांट्रैक्ट 2023 ODI विश्व कप तक है, जबकि सीनियर खिलाड़ी जानते हैं कि वे अपने कद के कारण सुरक्षित हैं और उनकी जगह को कोई खतरा नहीं.

ADVERTISEMENT

पांड्या को छूट देने की जरूरत

अब 2024 टी20 विश्व कप जीतने के लिए एक स्पष्ट दृष्टिकोण होना ही चाहिए. पांड्या को नामित टी20ई कप्तान होना चाहिए और उन्हें सर्वश्रेष्ठ संभव टीम बनाने की अनुमति दी जानी चाहिए. यहां तक ​​कि अगर ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो सिर्फ टी20 प्रारूप में खेलते है, तो पांड्या को पूरी छूट दी जानी चाहिए.

बहुत गहराई के साथ एक टीम तैयार करें, कप्तान को विकल्प दें. कोचिंग स्टाफ को पता है कि 2024 में उस टी20 विश्व कप के लिए उनके कांट्रैक्ट का विस्तार इस बात पर निर्भर करेगा कि भारत अगले साल का टूर्नामेंट जीतता है या नहीं. चयनकर्ताओं को नहीं पता कि वे जनवरी 2023 में श्रृंखला के लिए टीम चुनने के लिए तैयार होंगे या नहीं.

ADVERTISEMENT

अलग कोच क्यों नही?

भारत को टी20 टीम के लिए एक अलग कोच नियुक्त करना चाहिए और उस कोच को समानांतर रूप से टीम बनाने देना चाहिए. उस नए टी20 कोच को पांड्या के साथ टीम बनाने का अधिकार दिया जाना चाहिए, ताकि 2024 टी20 विश्व कप के आने तक, भारत के पास खिताब के लिए दावा पेश करने के लिए एक क्रैक स्क्वाड होगा.

दुर्भाग्य से, इनमें से किसी भी आमूल-चूल परिवर्तन का प्रयास कभी नहीं किया जाएगा क्योंकि इसका अर्थ यह स्वीकार करना होगा कि कोई समस्या है. इसलिए, हम शुतुरमुर्ग की तरह के दृष्टिकोण के साथ जारी रखेंगे और अगली बार जब भारत ICC इवेंट खेलेगा, तो हम अपनी उसी पुरानी योजना को बढ़ावा देंगे. भारतीय क्रिकेट के आसपास किसी भी चीज में कोई लंबे समय की योजना नहीं होने के कारण, हम प्रमुख आयोजनों में खराब प्रदर्शन करना जारी रखेंगे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×