ADVERTISEMENT

T20 World Cup में खत्म भारत का 'काम', कप्तान से मेंटर तक सब नाकाम!

भारत के टी 20 वर्ल्ड कप से बाहर होने में इन गलतियों की बड़ी भूमिका रही

Published

अंग्रेजी में एक इडियम है 'होपिंग अगेंस्ट होप'... 7 नवंबर को अफगानिस्तान और न्यूजीलैंड के मैच से पहले भारत के लिए जो माहौल बना उसमें यही इडियम फिट बैठता है

भारतीय टीम (Indian Team ) समेत तमाम भारतीय फैंस को उम्मीद थी या यूं कहें तमन्ना थी कि अफगानिस्तान न्यूजीलैंड को हरा देगा और भारत के लिए सेमीफाइनल के दरवाजे खुले रहेंगे. लेकिन भारत के इस होप में कोई स्कोप नहीं था. लिहाजा अफगानिस्तान की हार के साथ भारत सेमीफाइनल की रेस से बाहर हो गया .

ADVERTISEMENT
लेकिन यहां सवाल ये कि जिस भारतीय टीम को टूर्नामेंट शुरू होने से पहले ट्रॉफी का प्रबल दावेदार माना जा रहा था उस भारतीय टीम की ऐसी हालत कैसे हो गई? क्यों भारत 2012 के बाद पहली बार किसी टूर्नामेंट के नॉकआउट स्टेज में पहुंचने से पहले ही बाहर हो गया ?

1. आईपीएल का दूसरा भाग 

भारत के इस हाल में पहुंचने के कई कारण हैं लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा आईपीएल की है तो बात आईपीएल की करते हैं. नामीबिया के खिलाफ आखिरी मैच के बाद रवि शास्त्री ने भी माना कि आईपीएल और T20 वर्ल्ड कप के बीच में थोड़ा और समय होना चाहिए था. आईपीएल के सेकंड हाफ के आयोजन के चक्कर में वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट की अनदेखी की गई.

लेकिन यहां सवाल रवि शास्त्री से भी पूछा जाना चाहिए कि जब आपको पता था कि दोनों टूर्नामेंट के बीच खिलाड़ियों को समय की जरूरत है तो बतौर कोच आपने समय रहते एक भी शब्द क्यों नहीं बोला ?

शायद इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी इस बात को समझते थे इसीलिए उन्होंने आईपीएल के सेकंड हाफ से पहले और कुछ खिलाड़िओं ने बीच में बीच में अपने नाम वापस ले लिए थे. उनकी टीमों को इसका फायदा भी मिला.

2. मेंटर की नियुक्ति

इसके बाद अब बात मेंटोर की करते हैं.. बीसीसीआई ने एक अहम फैसला लेते हुए T20 वर्ल्ड कप के लिए महेंद्र सिंह धोनी को मेंटोर नियुक्त किया. बीसीसीआई की नीयत भले साफ हो लेकिन इस नियुक्ति ने टीम मैनेजमेंट के अंदर एक नया पावर सेंटर क्रिएट कर दिया. कोच रवि शास्त्री, मेंटोर महेंद्र सिंह धोनी और कप्तान विराट कोहली की खिचड़ी पर भी ऊंगलियां उठ रही हैं.

3. अश्विन को न खिलाना

पाकिस्तान के खिलाफ पहले मुकाबले में 10 विकेट की हार को शायद ही भारत कभी भुला पाएगा. लेकिन भारत को भूलने की नहीं बल्कि इस मुकाबले से सीख लेकर अगले मैच में उतरने की जरूरत थी.

अश्विन जैसे मैच विनर जो कि इसी टूर्नामेंट की शुरूआत तक भारत के लिए T20 में हाईएस्ट विकेट टेकर थे, उन्हें पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ अहम मैचों से बाहर रखा गया, यह जानते हुए कि न्यूजीलैंड स्पिन के खिलाफ कमजोर है और अश्विन अपना कमाल दिखा सकते हैं.
ADVERTISEMENT

4. बल्लेबाजी फ्लॉप 

बल्लेबाजों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद तो थी लेकिन शुरुआती दोनों मैच में सिर्फ उम्मीद बनकर रह गई. भारत के नए नवेले टी 20 कप्तान रोहित शर्मा का जिक्र यहां जरूरी है. पाकिस्तान और न्यूजीलैंड को तो छोड़ दीजिए नामीबिया जैसी टीम के खिलाफ भी रोहित ने शुरुआती तीन ओवर में खुद के आउट होने के 3 मौके दिए.

रोहित ने इस मैच में अर्धशतक तो जड़ा लेकिन नामीबिया के फील्डर्स की रहनुमाई की बदौलत.

5. चोट की समस्या

हार्दिक पंड्या जैसे खिलाड़ियों के चोटिल होने की समस्या ने भी भारत को बड़ा नुकसान पहुंचाया है. हार्दिक पांड्या के साथ चोट की चिंता कभी न खत्म होने वाले डेली सोप ओपेरा की तरह है. क्या फिटनेस के मुद्दों पर कॉल लेने के लिए भारत के पास कोई सिस्टम है? कौन ले रहा है जिम्मेदारी? हमें कभी पता नहीं चलेगा.

6 टीम मैनेजमेंट का उतावलापन 

टीम मैनेजमेंट के उतावलेपन ने भी भारत को कहीं ना कहीं इस टूर्नामेंट में प्रभावित किया है. टूर्नामेंट शुरू होने से पहले विराट कोहली का टी20 की कप्तानी छोड़ने का ऐलान हो या टूर्नामेंट के बीच में राहुल द्रविड़ का नाम नए कोच के रूप में घोषित कर देना.

टीम के ऊपर इसका डायरेक्ट प्रभाव पड़ता भले ना दिखे लेकिन क्या यह संभव नहीं है कि विराट कोहली जब भी मैदान पर होंगे तो उनके जहन में बतौर कप्तान आखिरी T20 टूर्नामेंट खेलने का दबाव होगा. कम से कम टूर्नामेंट खत्म होने तक तो इंतजार किया जा सकता था.

इनमें से कौन से कारण कितने प्रभावी रहे इसका कोई आंकड़ा कभी उपलब्ध नहीं हो सकता लेकिन इनसे सीख लेकर ही भारत को अगले 2 साल में दो वर्ल्ड कप खेलने हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT