शतरंज के T-20 में वर्ल्ड चैंपियन को टक्कर दे रहा ये भारतीय खिलाड़ी

भारत का 16 साल का युवा शतरंज खिलाड़ी इस खेल के चार बार के वर्ल्ड चैंपियन रह चुके खिलाड़ी को तगड़ी टक्कर दे रहा है.

Published09 Jun 2020, 06:05 AM IST
स्पोर्ट्स
2 min read

भारत का 16 साल का युवा शतरंज खिलाड़ी इस खेल के चार बार के वर्ल्ड चैंपियन रह चुके खिलाड़ी को तगड़ी टक्कर दे रहा है. 5 जून को भारत के निहाल सरीन और नार्वे के मैग्नस कार्लसन के बीच एक मिनट चैस शूटआउट में तगड़ा मुकाबला देखने को मिला. इस बुलेट गेम के बाद स्कोर रहा- कार्लसन-19, सरीन- 13.

सिर्फ एक हफ्ते पहले ही सरीन ने कार्लसन को ब्लिट्ज गेम में हरा दिया था. इस खेल में हर खिलाड़ी को अपना दांव चलने के लिए तीन मिनट का समय मिलता है.

अगर क्रिकेट की भाषा में कहें तो निहाल सरीन को आज के भारत का टी-20 चैस स्पेशलिस्ट कहा जा सकता है. कार्लसन ने भी निहाल को “एक बेहतरीन ब्लिट्ज खिलाड़ी” बताया है. वहीं बढ़िया रेटिंग वाले Chess.com ने उसे 15,431 गेम के बाद बुलेट चेस में तीसरे नंबर का खिलाड़ी बताया है.

बुलेट चैस गेम हो रहे मशहूर

बुलेट और ब्लिट्ज चैस अब खिलाड़ियों और फैंस के बीच मशहूर हो रहे हैं. इस कोरोना वायरस के संक्रमण के वक्त में जब सभी घरों में बैठे हैं, इस वजह से इन खेलों को काफी सारे लोग खेल रहे हैं. शतरंज का खेल खिलाने वाली बॉडी फेडरेशन इंटरनेशनल डेस चैस (FIDE) का अभी ऑनलाइन चैस को रेटिंग और दर्जा देना बाकी है.

सरीन ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि-

अगर ये ऑनलाइन खेल मेनस्ट्रीम खेल बनता है तो ये मजेदार होगा. मैंने कार्लसन को ऑनलाइन देखा, इसलिए मैंने उन्हें चैलेंज भेज दिया. पिछले साल भर में मैंने कार्लसन के साथ 200 से ज्यादा बुलेट गेम खेले होंगे और इनमें से 4 गेम मैंने भी जीते हैं. 
निहाल सरीन, शतरंज का युवा खिलाड़ी

ऑनलाइन गेम इसलिए है खास

ऑनलाइन खेल की खासियत ये है कि इसे खेलने में आपकी फिजिकल दूरी या फिर सीनियर-जूनियर कुछ नहीं देखा जाता. दिग्गज शतरंज खिलाड़ी प्रवीण थिप्से जो कि चैस स्कूल भी चलाते हैंं वो बताते हैं कि नए खिलाड़ियों के साथ खासियत ये हैं कि ऑनलाइन खेलते वक्त उनका माउस पर जबरदस्त कंट्रोल रहता है.

उनके पास माउस को तेजी से भगाने की प्रैक्टिस होती है. नए जमाने के खिलाड़ी अक्सर ऑनलाइन गेम्स खेलते रहते हैं, इसलिए जो गेम्स तीन मिनट या एक मिनट वाले होते हैं उनमें फैक्शन ऑफ सैकेंड भी बहुत मायने रखता है. मैं एक सैकेंड में एक चाल चलता हूं मेरे पास कोई टाइम नहीं बचता. लेकिन सरीन जैसे खिलाड़ी 5 सैकेंड में 10 चालें चल देते हैं और उनके पास 5 सैकेंड का टाइम बच जाता है. इसका मतलब ये है कि वो सिर्फ आधे सैकेंड में चाल चल देते हैं. 
प्रवीण थिप्से, दिग्गज शतरंज खिलाड़ी

सरीन के ट्रेनिंग पार्टनर श्रीनाथ नारायणन बताते हैं कि- “अच्छी गुणवत्ता की चाल चलने से ज्यादा अहम है कम वक्त में चाल चलना. सरीन इस खेल के इस पीढ़ी के झंडाबरदार हैं. उनके पास ऑनलाइन खेलने का जबरदस्त अनुभव है. उन्होंने 50 हजार से ज्यादा खेल खेले हुए हैं.“

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!