एसिड से चेहरा जल सकता है, हिम्मत नहीं, इन महिलाओं से सुनिए

एसिड से चेहरा जल सकता है, हिम्मत नहीं, इन महिलाओं से सुनिए

फीचर

आपका चेहरा आपकी पहचान होता है. लेकिन जरा सोचिए आगर आप उसी चेहरे को आईने में न पहचान पाएं तो इससे ज्यादा भयानक क्या होगा. एसिड अटैक सर्वाइवर्स की जिंदगी भी कुछ ऐसी ही होती है. घर की दहलीज से जब ये कदम बाहर रखतीं है, तो इन्हें हर बार ये सोचना पड़ता है कि कहीं इन्हें देख कर कोई डर तो नहीं जाएगा..!

Loading...

हैवानियत का शिकार हुई ये लड़कियां अपनों की ही नफरतों की सूली चढ़ जातीं हैं, जिंदगीभर साथ निभाने और मोहब्बत का भरोसा देने वाला प्यार ही इनकी सारी उम्मीदें छीन कर अंधेरों में धकेल देता है. तेजाब ने इनके चहरे को ही नहीं, बल्कि इनके ख्वाबों और हिम्मत को भी जला कर रख दिया है. लड़खड़ते हुए कदमों से ही सही, लेकिन ये लड़कियां अपने पैर जमाने की कोशिश कर रही हैं.

एसिड अटैक सर्वाइर नीतू को सजना सवरना बहुत पसंद है, उनकी ये ख्वाहिश देखकर उस दर्द का एहसास लगाना बहुत मुश्किल है कि उन्हीं के किसी अपने ने उनके चेहरे को तेजाब से जला दिया.
एसिड सर्वाइवर नीतू
एसिड सर्वाइवर नीतू
फोटो: स्मृति चंदेल 

स्टेट लेवल पर बॉलीवॉल खेल चुकी रितु सैनी के सारे सपने एसिड अटैक के साथ जलकर खाक हो गए. रिजेक्शन की शिकार रितु एसिड की खुलेआम बिक्री पर सवाल उठाती है. समाज के लिए मिसाल बनी रितु अपनी कोशिश से समाज की सोच को बदलना चाहती हैं.

 रिजेक्शन की शिकार रितु एसिड की खुलेआम बिक्री पर सवाल उठाती है.
रिजेक्शन की शिकार रितु एसिड की खुलेआम बिक्री पर सवाल उठाती है.
फोटो:Twitter 

नीतू के साथ उसकी मां गीता भी एसिड अटैक का शिकार हुई थी, जो कि उनके पति ने ही उन दोनों पर किया था. वो अपने पति की उस नफरत को याद करते हुए कहती हैं कि ‘मैरा पति मुझे हमेशा ये कहकर धमकाया करता था कि ‘’मैं तेरा ऐसा चेहरा कर दूंगा कि जब भी तू आईना देखेगी, मुझे याद करेगी’’.

नीतू की मां गीत
नीतू की मां गीत
फोटो: स्मृति चंदेल 

रूपा अपनी सौतेली मां के हाथों इस बर्बरता की शिकार हुईं. मां को खोने के बाद अपना चेहरा और अपनी पहचान को खो दिया, लेकिन हार नहीं मानी को एक बार फिर अपने हौसलों से दुनियां जीतने निकली हैं.

एसिड सर्वाइवर रूपा
एसिड सर्वाइवर रूपा
फोटो: स्मृति चंदेल 

अब दीपिका पादुकोण एसिड अटैक सर्वाइवर्स पर फिल्म ‘छपाक’ लेकर आ रही हैं. ये एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की जिंदगी पर बनी है, जिनपर 2005 में एक लड़के ने एसिड फेंक दिया था. एसिड अटैक सर्वाइवर्स की तकलीफों और उनके मजबूत जज्बे को दिखाती क्विंट की ये डॉक्यूमेंट्री देखिए.

यह भी पढ़ें: दीपिका पादुकोण, ट्रोल आर्मी से मत डरिए, वो खुद आपसे डरी हुई है

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our फीचर section for more stories.

फीचर
    Loading...