ADVERTISEMENT

‘बगैर सबूत’, इन्हें जेल में 300 दिन क्यों रहना पड़ा?

दिल्ली हाईकोर्ट ने यूएपीए के तहत गिरफ्तार हुए आरोपियों को दी जमानत

Published

दिल्ली में पिछले साल हुई हिंसा मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया और उनके खिलाफ UAPA के तहत मामला दर्ज हुआ. इनमें से कुछ लोगों को अब हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. जिनमें देवंगाना कलिता, नताशा नरवाल और आसिफ इकबाल तन्हा शामिल हैं. इन सभी लोगों के खिलाफ यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी.

ADVERTISEMENT

सरकार की नीतियों के खिलाफ बोलना आतंकवाद नहीं

दिल्ली हाईकोर्ट ने इन सभी को जमानत देते हुए कहा कि, सरकार या दिल्ली पुलिस ने ऐसा कोई सबूत नहीं दिया, जो ये दिखा सके कि ये तीनों आतंकवाद जैसे बड़े गुनाह में शामिल थे. कोर्ट ने कहा कि सरकार की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करना आतंकवाद नहीं माना जा सकता है. कोर्ट ने कहा कि,

“आजकल सरकार की तरफ से ये ट्रेंड बन चुका है कि जो भी उनकी नीतियों के खिलाफ सवाल उठाए, जो भी उनकी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करे उनके खिलाफ आतंकवाद निरोधी कानून यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज कर दी जाती है. ये जो नया ट्रेंड है, .ये काफी खतरनाक ट्रेंड है और हमारे लोकतंत्र के खिलाफ है.”
ADVERTISEMENT

हालांकि इन तीनों लोगों को काफी देर से इंसाफ मिला है. इन तीनों ने 300 दिन जेल में बिताए. नताशा नरवाल ने इस दौरान अपने पिता को भी खो दिया. इस दौरान वो उनके साथ भी नहीं रह पाईं. दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश काफी अच्छा है, लेकिन ये उस नाइंसाफी को नहीं मिटा सकता है जो इन तीनों को 300 दिन तक जेल में बंद रखे. इसका जिम्मेदार आखिर कौन है? अगर दिल्ली पुलिस इसकी जिम्मेदार है तो उसके खिलाफ कार्रवाई कब होगी?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT