ADVERTISEMENT

दक्षिणपंथ की आंधी में उजड़ते जनजातीय समाज को वामपंथ की नजर से देखें

दक्षिणपंथ का वामपंथ पर सबसे बड़ा प्रहार इतिहास लेखन को लेकर है

Updated
दक्षिणपंथ की आंधी में उजड़ते जनजातीय समाज को वामपंथ की नजर से देखें
i

वैश्विक स्तर पर दक्षिणपंथी आंधियां चल रही हैं, जिसमें अन्य विचारधाराओं को अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. खासकर वामपंथ घनघोर आलोचना का शिकार है. यहां तक कि इसका चित्रण इतने नकारात्मक रूप में किया जा रहा है कि लगता है भारत की तमाम समस्याओं के लिए वामपंथ ही जिम्मेवार है.

दक्षिणपंथ का वामपंथ पर सबसे बड़ा प्रहार इतिहास लेखन को लेकर है. इनका कहना है कि वामपंथ ने भारतीय इतिहास लेखन को विकृत किया, जिससे आम-जनमानस में राष्ट्रीय भावना का विकास नहीं हो पाया. हालांकि भारतीय इतिहास लेखन में वामपंथ का बहुत बड़ा हस्तक्षेप और योगदान रहा है.

ADVERTISEMENT

इससे राष्ट्रीय भावना की क्षति हुई है, इसे मानना इसलिए स्पष्ट रूप से गलत होगा, क्योंकि राष्ट्रीय भावना का निर्माण महज पाठ्य-पुस्तकों तक सीमित नहीं है. समाज और संस्कृति भारतीय चेतना के मूलभूत तत्व हैं और राष्ट्रवाद का प्राण भी इसी में बसता है. समाज का निर्माण व्यक्तियों से होता है और संस्कृति का निर्माण क्षेत्रीय अस्मिता से और यह भारत में बिना किसी प्रतिकार के सतत रूप से चलता आ रहा है. न तो समाज कमजोर हुआ और न संस्कृति नष्ट हुई.

उदाहरण के लिए, वामपंथ से प्रभावित बंगाल और केरल में अगर लोक-संस्कृति का पतन हो जाता तो ऐसा माना जाता कि वामपंथ ने भारतीय लोक-संस्कृति को नष्ट किया है, लेकिन इन दो राज्यों में ऐसा कोई प्रभाव देखने को नहीं मिलता है. यहां तक कि कई मामलों में इसकी सामाजिक और सांस्कृतिक बुनावट भारत के कई राज्यों से अधिक मजबूत हैं.  

जल-जंगल और जमीन- क्या ये राष्ट्रवादी प्रश्न नहीं!

जल-जंगल और जमीन- क्या इसका प्रश्न एक राष्ट्रवादी प्रश्न नहीं है! जल-जंगल और जमीन दक्षिणपंथियों की तरफ से वामपंथ का सबसे उपेक्षित विश्लेष्णात्मक पक्ष रहा है. जिसे कभी भी दक्षिणपंथियों ने न तो स्वीकारा और न सराहा. वामपंथ की सबसे बड़ी शक्ति का श्रोत है- ‘पावर टू पीपुल’. मतलब इसका सीधे जनता के मुद्दो से जुड़ना जिसका आमतौर पर दक्षिणपंथ में अभाव रहा है. वामपंथ ने भारतीय संस्कृति के विभिन्न आयाम जैसे लोक-कला और संगीत, लोक-संस्कृति, लोक-दर्शन, लोक-अर्थव्यवस्था आदि विषयों को बड़े प्रभावी तरीके से उठाया है. और इस तरह से राष्ट्र के भीतर मिट रहे समुदायों को पहचान दिलाने में सार्थक भूमिका निभाई है.

ADVERTISEMENT

दक्षिणपंथ के लिए है कहां है जनजातीय समाज

स्वतंत्रता के बाद जिस प्रकार विकास के नाम पर जनजातीय समाज का विस्थापन हुआ वह दक्षिणपंथियों के विमर्श का कभी कोई हिस्सा नहीं बन पाया, बल्कि कई बार तो वह इस राज्य प्रायोजित हिंसा का सक्रिय हिस्सा भी रहा. आप तमाम दक्षिणपंथी विचारकों पर विचार कर लें वे शायद ही कभी जनजातियों के मुद्दो पर मुखर हुए हैं. इतना ही नहीं इन्होने जनजातियों के जीवन दर्शन को बड़ी मुश्किल से एक जीवन दर्शन के रूप में स्वीकारा. आप इसे समाजविज्ञानी जीएस घुरये के लेखन में भी देख सकते हैं जिनके लिए जनजाति ‘पिछड़े हिन्दू’ से अधिक कुछ नहीं थे.

आदिवासियों के विस्थापन को समझने की जो क्षमता वामपंथ के पास रही है वह दक्षिणपंथ के पास नहीं है. दक्षिणपंथ में जल-जंगल और जमीन नहीं है. वहां शहर हैं, नगर हैं, बाजार और इसका बाजारू-दर्शन है. दक्षिणपंथी वहां नहीं जाना चाहते जहां जनजाति विस्थापन और राज्य की लूट के विरुद्ध संघर्ष कर रहे हैं. जनजाति देश की आबादी की दस प्रतिशत हिस्सेदारी रखते हैं.

पूर्वोत्तर और अंडमान निकोबार को अगर छोड़ दिया जाये तो भारत के समस्त आदिवासी बहुल क्षेत्र किसी न किसी रूप में बहिष्करण के शिकार हैं. विकास के नाम पर विस्थापन और पुनर्वास के नाम पर धोखाधड़ी यह एक जगजाहिर तथ्य है.

सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि भारत में संसाधन बहुल क्षेत्र पर भारत के सबसे गरीब लोग निवास करते हैं. इन असहाय और निर्धन बना दिए गए लोगों की पीड़ा पर बोलने-लिखने वाले आमतौर पर वामपंथ से जुड़े लोग ही हैं. इसमें यह जरुरी नहीं कि जनजातियों के पास अपनी कोई आवाज ही नहीं है, लेकिन जनजातियों की अधिकतर आवाज वामपंथियों के आवाज से मेल खाती है. वामपंथ पूंजी की तानाशाही के विरुद्ध आवाज उठाते हैं. चुंकि पूंजी की तानाशाही संसाधन संपन्न क्षेत्र दिखती है.

ADVERTISEMENT

संसाधन संपन्न वैसे क्षेत्र हैं जहां जल, खनिज और जमीन की प्रचूरता होती है. ऐसे क्षेत्र पूंजी के तानाशाहों और लुटेरों के लिए दोहन के माध्यम से अतिरिक्त पूंजी का निर्माण करने के लिए मनपसंद जगह होती है. और इन क्षेत्रों की सबसे बड़ी विडंबना यह है कि यहाँ भारत के सबसे निर्दोष और सांस्कृतिक रूप से खुशहाल लोग रहा करते हैं. ये निर्दोष लोग बहुतायत में जनजाति हैं. जिनके पास पूंजी के तानाशाहों के विरुद्ध लड़ने के लिए आधुनिक तर्क और उपक्रम नहीं होते. इन परिस्थितियों में वामपंथ, जनजातियों की मदद करके शक्ति के असुंतलन को भरने का कार्य करते हैं. और इसके लिए वामपंथ जनजातियों की जनचेतना को जागृत करने का प्रयास करते हैं.

क्या माओवाद भी एक वामपंथ है?

अब यह सबसे बड़ा प्रश्न है कि क्या माओवाद भी एक वामपंथ है? तो इसका उत्तर है नहीं. माओवाद वामपंथ नहीं है. दक्षिणपंथियों की सबसे बड़ी कमजोरी माओवाद को वामपंथ से जोड़कर देखने से है और संभवत वे ऐसा जानबूझकर करते हैं. भारत में विचारधाराओं के मूल्यांकन की सबसे बड़ी कमी विषयों के अतिवादी विश्लेषण से है.

उदाहरण के तौर पर ओडिशा में जब गंधमरदान पर्वत पर खनन की बात आई तो जनांदोलन ने न सिर्फ गंधमरदान पर्वत को बचाया, बल्कि उससे जुड़ी धार्मिक मान्यताओं का भी संरक्षण हुआ.

ओड़िशा में अपने क्षेत्रकार्य के दौरान मैंने एक वामपंथी चिन्तक को यह स्पष्ट रूप से बोलते हुए सुना कि बालको कम्पनी की तरफ से पहाड़ पर विष्फोट से वहां स्थित नरसिंह भगवान के मंदिर में दरार आ गयी. हो सकता है कि एक आदर्श वामपंथी के तौर पर उनके ह्रदय में धार्मिक मान्यताओं के प्रति ज्यादा झुकाव न हो लेकिन गंधमरदान पर्वत को बचाने की लड़ाई में उस पर्वत से जुड़ी धार्मिक मान्यताएं जैसे हनुमान जी का संजीविनी बूटी लाने की कहानी या फिर नरसिंह देव का मंदिर का भी बचाव हुआ. इस पर्वत को बचाने के लिए वर्तमान के कोई चर्चित दक्षिणपंथी आगे नहीं आये.

ADVERTISEMENT

इस तरह नियमगिरि में डोंगरिया कंध की देवभूमि और उनके देव ‘नियमराजा’ को खनन कम्पनी के घोषित विनाश से बचाने में बामपंथी विचारधारा के योगदान को हम नहीं नकार सकते. यहां भी आंदोलन जनजातीय परिवेश, नियमगिरि पर उनकी आर्थिक एवं धार्मिक निर्भरता केंद्र बिंदु में था. वामपंथी जितने डोंगरिया के परिवेश को लेकर चिंतित थे उतने ही उनके धार्मिक एवं सांस्कृतिक अस्तित्व और पहचान को लेकर भी. यहाँ वामपंथ प्रतिवाद की आवाज है.

भारत में कहां है दक्षिणपंथ?

व्यक्तिगत रूप से मैंने यह महसूस किया है कि भारतीय वामपंथ की तुलना में यहां का दक्षिणपंथ अधिक अपरिपक्व दर्शन है. अभी इसे और अधिक विचार के स्तर पर मजबूत होने की जरुरत है. इसमें समावेशी सोच की अभी पर्याप्त कमी देखी जा सकती है. भारत में दक्षिणपंथ का आदर्श कहां है? गो-गंगा और गायत्री की सबसे बड़ी दुर्दशा तो इनके धार्मिक आस्था के केन्द्रों में ही है.

मैं इसका उदाहरण देकर बताना चाहूंगा कि प्रयागराज की प्रत्येक गलियों में गायें पाली जाती हैं. और अधितकतर मामलों में इन गायों को दूह कर सड़कों पर छोड़ दिया जाता है. ये गायें घूम-घूम कर कचरा खाती हैं और दर्दनाक मौत मरती हैं.

इसी तरह संकीर्ण स्थानों पर गो-पालन करने के कारण गायों को इतनी छोटी रस्सियों से बांधा जाता है कि वो अपना गर्दन ऊपर नहीं उठा सकती हैं. बारिश के दिनों में सैकड़ों गायें बिजली के खम्बों से करंट का शिकार होकर मर जाती है. और यही हाल गंगा का भी है. नमामि गंगे परियोजना में क्या साफ किया जा रहा है कहने की कोई जरुरत नहीं. दक्षिणपंथियों को वामपंथ नाम का एक झुनझुना मिल गया है जिसे हर समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराकर वे अपना वजूद बचाते रहते हैं.

ADVERTISEMENT

वामपंथ की आलोचना तो की जा सकती है लेकिन इसे नकारा नहीं जा सकता. इसके योगदान वहां तक हैं जहां तक आधुनिक पूंजी से पोषित दक्षिणपंथ न पहुंच सकते हैं और न पहुंचना चाहते हैं. राष्ट्रीयता आमलोगों से निकलती है. लोक-दर्शन ही राष्ट्रीयता का दर्शन है और इस मामले में वामपंथ अधिक लोकोन्मुखी है. इसमें अधिक राष्ट्रीय-चेतना के भाव हैं. 

आभार: इस लेखन में वैचारिक सहयोग के लिए अपने मित्र केयूर पाठक का आभार.

(इस आर्टिकल में लिखे विचार लेखक के अपने हैं. क्विंट का इसमें सहमत होना जरूरी नहीं है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×