ADVERTISEMENT

गेहूं के निर्यात पर आपात बैन से किसानों को नुकसान, किसका फायदा हो रहा है?

गेहूं बैन का कदम मोदी सरकार के कथित किसान हितैषी होने के दावे की पोल खोलता है

Published
गेहूं के निर्यात पर आपात बैन से किसानों को नुकसान, किसका फायदा हो रहा है?
i

गेहूं के निर्यात (Wheat Export) पर बिना सोचे समझे बैन करने के नरेंद्र मोदी सरकार के फैसले से एक भरोसेमंद एक्सपोर्टर के तौर पर भारत की विश्वसनीयता को धक्का लग सकता है, साथ ही इसने किसानों की भलाई को लेकर मोदी सरकार की बड़ी बड़ी बातों की कलई खोल दी है.

ADVERTISEMENT
मोदी सरकार ने अनाज के सभी निर्यात शिपमेंट पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाने का ऐलान तब किया जब इससे एक दिन पहले ही सरकार ने "भारत से गेहूं के निर्यात को बढ़ाने की संभावनाएं तलाशने के लिए" नौ देशों में बिजनेस डेलिगेशन भेजने की बात कही थी. सरकार का ये फैसला एक और उदाहरण है कि आखिर किस तरह अपनी ही पॉलिसी मेकिंग को सरकार ध्वस्त करती है और जिनके गंभीर परिणाम होने की आशंकाएं हैं. ये फैसले बिना किसी वाजिब तर्क के लिए गए हैं.

वाणिज्य विभाग के नोटिफिकेशन के हिसाब से रातोंरात सभी तरह के गेहूं खास प्रोटीन वाला ड्यूरम (जिसे स्थानीय भाषा में दुरुम कहते हैं) और नरम रोटी की वैरायटी वाले गेहूं के विदेश भेजने पर पाबंदी लगा दी गई. अब सिर्फ दो कैटेगरी की गेहूं का निर्यात होगा, एक वो जिसकी इजाजत केंद्र सरकार देगी वो भी इस आधार पर कि उस देश में फूड सिक्योरिटी यानि अनाज की किल्लत हो.दूसरी कैटेगरी है ‘देश या सरकार का भारत से अनुरोध’ जिसमें कान्ट्रैक्ट पहले ही हो गया हो और बैन नोटिफिकेशन से पहेल ही लेटर ऑफ क्रेडिट जारी हो गया हो .

भारत की विश्वसनीयता पर चोट

यह कदम ऐसे समय में लिया गया है, जब भारत में कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स अप्रैल में आठ साल में सबसे ज्यादा 7.79 प्रतिशत पर पहुंच रही है और खुदरा खाद्य महंगाई बढ़कर 8.38 प्रतिशत हो गई है. मैंने पहले बताया कि कैसे महंगाई गरीबों के लिए एक ‘अदृश्य टैक्स’ की तरह हो गया है. खासकर एक ऐसे समय में जब ये लोग सबसे बड़ी आर्थिक परेशानी में फंसे हुए हैं.

मैंने अपने इससे पहले वाले कॉलम में लिखा था कि महंगाई कंट्रोल करने के लिए सरकार को कोई ऐसा उपाय नहीं करना चाहिए जिससे लगे कि भारत की ट्रेड पॉलिसी ज्यादा प्रोटेक्शनिस्ट यानि संरक्षणवादी बन गई है. लेकिन ऐसा लगता है कि मोदी सरकार कुछ हद तक संरक्षणवादी यानि प्रोटेक्शनिस्ट नीतियों के जाल में फंसती जा रही है.

महंगाई काबू करने के अलावा कम गेहूं के पैदावार ने मोदी सरकार को चिंतित कर दिया है. आधिकारिक तौर पर सरकार ने बताया कि गेहूं एक्सपोर्ट पर पाबंदी का फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि गेहूं की खरीद 15 साल में सबसे निचले स्तर पर चली गई है. सिर्फ 18 मिलियन टन गेहूं खरीदी गई जबकि पिछले साल 2021-22 में इसी समय में 43.3 मिलियन टन गेहूं खरीद हुई थी. जहां गेहूं की खरीद तकनीकी तौर पर अप्रैल से मार्च तक होती है लेकिन बल्क में सरकार जो MSP पर गेहूं लेती है वो अप्रैल से मिड मई तक जाता है.

तर्क चाहे जो भी हो सरकार का इस तरह से गेहूं एक्सपोर्ट पर अचानक पाबंदी लगा देना इंटरनेशनल मार्केट में भारत की विश्वसनीयता पर चोट पहुंचाएगी. दुनिया भर में गेहूं की जो पैदावार होती है भारत का उसमें हिस्सा 13.53 परसेंट है, जो रूस के बाद सबसे ज्यादा है.

रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते बैलेंस ऑफ पेमेंट संकट और ज्यादा लागत बढ़ने से पिछले कुछ महीनों में कई देशों ने गेंहू सप्लाई के लिए भारत का रुख किया. 31 मार्च 2022 को खत्म हुए वित्तीय साल में भारत से 7.22 मीट्रिक टन गेहूं का एक्सपोर्ट करीब 2.05 बिलियन डॉलर में हुआ जो कि भारत से सर्वाधिक गेहूं एक्सपोर्ट का रिकॉर्ड है. जो गेहूं बेच रहे हैं उन्हें एक्सपोर्ट के लिए ज्यादा पैसे मिलने से फायदा हो रहा था और गेहूं पैदावार पर उनकी कमाई बढ़ी थी.

'किसान-विरोधी कदम'

भारतीय हालात में महंगाई को अक्सर एक्सपोर्ट की ज्यादा कीमत से जोड़ा जाता रहा है..लेकिन कंपीटिशन देखते हुए और भारत में गेहूं के प्रचुर पैदावार से बांग्लादेश जैसे देश भी भारत से काफी मात्रा में गेहूं खरीदकर खुश थे. (नीचे के आंकड़ों में देखिए..भारतीय एक्सपोर्ट महंगा होने और डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होने के बाद भी कैसे तेजी से भारतीय एक्सपोर्ट बढ़ा है)

तकनीकी तौर पर ऐसे ट्रेंड्स और विदेशों में भारतीय प्रोडक्ट की बढ़ती मांग जैसे गेहूं और दूसरे एग्रो कमोडिटी से एक्सपोर्ट ओरिएंटेड पॉलिसी की वकालत करने वालों को खुश होना चाहिए. ये नवउदारवादी, प्रो-मार्केट, खेती किसानी करने वाले या एग्री एक्सपर्ट और पॉलिसी एडवाइजर्स को भी संतुष्ट करने वाला है. विवादित किसान कानून इसी आधार पर सही बताए जाते थे कि इससे किसानों को अपने प्रोडक्ट के लिए सही दाम मिलेगा और उनका प्रोडक्सन बढ़ेगा.
ADVERTISEMENT

फिर, आखिर क्या हुआ ?

अशोक गुलाटी जिन्होंने जोरशोर से मोदी सरकार के किसान कानून का समर्थन किया था, अब वो गेहूं एक्सपोर्ट बैन के फैसले को ‘किसान विरोधी’ बता रहे हैं. वो कहते हैं :

“अगर सरकार महंगाई को लेकर इतनी ही फिक्रमंद थी तो, वो धीरे धीरे एक्सपोर्ट को कुछ कम कर सकती थी बजाए इसके कि एक ही झटके में इसे बैन करे दे. सरकार मिनिमम एक्सपोर्ट प्राइस या कोई टैरिफ की नीति (जिससे कम प्राइस पर एक्सपोर्ट ना हो पाए) ला सकती थी. सरकारी खरीद में कमी की मुख्य वजह है सरकार की तुलना में प्राइवेट ट्रेडर्स और एक्सपोर्टर्स से ज्यादा पैसे मिलना. अगर कम खरीद और स्टॉक बड़ी चिंता थी तो सरकार MSP से थोड़ा ज्यादा पैसे का प्रस्ताव दे सकती थी. MSP से 200-250 रुपए का अतिरिक्त बोनस (2,015 प्रति क्विंटल) देकर खरीद बढ़ा सकती थी. अगर सरकार अभी भी ये कदम उठाती है तो निश्चित तौर पर किसान उनके पास ज्यादा गेहूं लेकर आएंगे. एक्सपोर्ट पर पाबंदी किसानों के लिए अप्रत्यक्ष तौर पर टैक्स जैसा है."

पॉलिसी बनाने में कंज्यूमर पूर्वाग्रह

दिलचस्प बात यह है कि गेहूं एक्सपोर्ट पर जो मौजूदा बैन लगा है वो भारत की व्यापार नीतियों में जमी कंज्यूमर पूर्वाग्रह को दिखाता है. यही कंज्यूमर पूर्वाग्रह अप्रत्यक्ष रूप से किसान विरोधी बन जाता है. जब किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से 10 फीसदी अधिक भाव अपने गेहूं के लिए मिल रहा है कि तो सरकार उन्हें बाजार की बेहतर स्थिति का फायदा क्यों नहीं लेने दे रही है ?

क्या सरकार किसानों की आय नहीं बढ़ाना चाहती? और वह भी तब, जब सितंबर के अंत तक 80 करोड़ से अधिक लोगों को एनएफएसए और पीएमजीकेएवाई के तहत लगभग मुफ्त अनाज (चावल और गेहूं) दिया गया है. क्या सरकार किसानों की कीमत पर शहरी मध्यम वर्ग को बचाने की कोशिश कर रही है? यह शहरी-कंज्यूमर पूर्वाग्रह है जिसने हमारे किसानों की हालत खराब कर रखा है.

गुलाटी का विचार, निश्चित रूप से, मजबूत दलीलों पर आधारित है और उनके अपने नीतिगत दृष्टिकोण के मुताबिक हैं, (जिन्होंने उनके पिछले काम को पढ़ा है, वो ये जरूर समझ रहे होंगे). ऐसे ख्यालात किसानों को लेकर मोदी सरकार के पांखंड और नीतिगत नजरिए को उजागर करता है. अब बिना किसी संदेह के इस बात के साफ सबूत हैं कि किसानों की ‘आर्थिक आजादी’ दिलाने का सरकारी इरादा किसानों को बड़ा बाजार या बेहतर दाम तक पहुंच बढ़ाने की नीति पर नहीं बनी है.

आखिर नतीजा क्या है ?

कन्वेंशनल इकनॉमिक पब्लिक पॉलिसी मेकिंग में हमेशा कॉन्सेक्वेंशन सेंशिटिव रुख यानि पॉलिसी के असर पर फोकस रहता है ताकि मेथड के आउटकम को लेकर पहले से ही तैयारी रही। कोई भी अच्छी पब्लिक पॉलिसी इस मेथड से तैयार होती है.

इसके उलट एक नीति होती है जो नतीजों की फिक्र नहीं करती. मोदी सरकार का मौजूदा कदम उसी के मुताबिक है. इस तरह की पॉलिसी मेकिंग में ज्यादा ध्यान इकनॉमिक इफीशियंसी पर होती है और इसके लिए आर्थिक और सामाजिक चीजों की ज्यादा परवाह नहीं की जाती. इससे अक्सर ऐसी नीतियां अपने मकसद हासिल नहीं कर पाती. नोटबंदी और GST को जिस तरह से लागू किया गया ये उसी तरह की नीतियों का नजीर है. कोशिश ये थी कि जल्दी से जल्दी इसके आर्थिक फायदे उठाए जाएं.

अगर मोदी सरकार के नीतिगत फैसलों के पुराने रिकॉर्ड को देखें चाहे वो नोटबंदी हो या हड़बड़ी में लागू किया गया GST या फिर बिना तैयारी के ही कोविड की पहली लहर में नेशनल लॉकडाउन का एलान और फिर कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला, या फिर किसान कानून हो ये सब सर्व सत्तावादी, मनमानी और नतीजों की फिक्र किए बिना बनाई गई नीतियां हैं.

विश्वगुरु बनने की विडंबना

दरअसल अभी इस सरकार में कोई फीडबैक का सिस्टम नहीं है जहां सरकारी पॉलिसी की नीतिगत गड़बड़ियों का फीडबैक लिया जा सके. साथ ही किसी चीज को करने में या पॉलिसी को लागू करने में हुई गलतियों और इससे इकनॉमी को होने वाले नुकसान की समझ बनाने का भी सिस्टम नहीं है.

सबसे खराब बात तो ये है कि सरकार ने अपने पक्ष में मीडिया नैरेटिव बना रखा है जहां उसकी गलतियों का भी बचाव होता है. ऑप्शन या फिर गलतियों को दूर करने का विकल्प बनाए रखने के विजन की चर्चा तो कभी होती ही नहीं.

विडंबना ये है कि विदेश नीति में भारत विश्व गुरू और ग्लोबल चेंजमेकर के तौर पर उभरना चाहता है. जब कोविड की लहर थी तो अपने नागरिकों को पूरी तरह से वैक्सीन दिए बिना ही सरकार ने विदेशों में वैक्सीन भेजने का बड़ा फैसला किया. जिन देशों में वैक्सीन नहीं थी वहां वैक्सीन सप्लाई करके भारत के लिए गुडविल बनाने की नीति पर सरकार चली और इसका जश्न मनाया. बाद में सरकार को अपनी गलती का अहसास तब हुआ जब डेल्टा वैरिएंट ने देश में तबाही मचा दी, बिना वैक्सीन लिए लाखों नागरिक असमय ही मर गए.

नीति बनाना एक कौशल है

गेहूं एक्सपोर्ट को बढ़ाने के लिए 9 देशों में अपने कारोबारी प्रतिनिधिमंडल को भेजने और फिर अचानक से गेहूं एक्सपोर्ट बैन करने के सरकार का फैसला भी व्यवहारिक तौर पर पहले की तरह ही लिए फैसले जैसा है. निश्चित तौर पर इससे लाखों लोगों की जान तो नहीं जाएगी पर ज्यादा एक्सपोर्ट से किसानों की कमाई और पड़ोसी देशों और दुनिया में भारत की भरोसेमंद एक्सपोर्टर की छवि को धक्का लगेगा.

जर्मनी के एग्रीकल्चर मिनिस्टर सेम ओजिडेमिर ने हाल में हुए G7 मीट में भारत की एकतरफा कार्रवाई पर निराशा जताई. “अगर सबने इसी तरह से एक्सपोर्ट पर पाबंदी लगाना शुरू कर दिया तो संकट बहुत गहरा जाएगा.”

अब आगे का रास्ता ये है कि मोदी सरकार नीति बनाने के लिए नतीजों के असर वाले मेथड पर फोकस करे. नीतियों को लागू करने में शामिल महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं और संभावित परिणामों पर विचार करे.

सरकार के लिए यह समझना बहुत अहम है कि भारत में नीतियों के बनाने और लागू करने का आर्थिक फायदा होना चाहिए ताकि एजेंसी यानि कार्यकारी संस्था और लोग (नागरिक) आपसी सहयोग से काम कर सकें और सब इसका फायदा एक दूसरे से साझा कर पाएं।

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, voices और opinion के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Farmer   Wheat Export 

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×