कोरोनावायरस से भारत समेत दुनिया की इकनॉमी को क्यों है खतरा?
चीन में कई कंपनियों के स्टोर और फैक्ट्रियां बंद
चीन में कई कंपनियों के स्टोर और फैक्ट्रियां बंद(फोटो: AP)

कोरोनावायरस से भारत समेत दुनिया की इकनॉमी को क्यों है खतरा?

चीन में कोरोनावायरस की वजह से अब तक 560 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 24 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हैं. इस वायरस के खतरे के दायरे में दुनिया के 20 से ज्यादा देश आ चुके हैं.

कोरोनावायरस का कहर बस यहीं तक सीमित नहीं है. इसकी वजह से चीन की अर्थव्यवस्था के साथ-साथ दुनिया की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ सकता है.

Loading...

कई कंपनियों के स्टोर और फैक्ट्रियां बंद

  • एप्पल कंपनी कोरोनावायरस महामारी के चलते चीन में 9 फरवरी तक अपने स्टोर, कॉरपोरेट कार्यालयों और संपर्क केंद्रों को बंद रखने की घोषणा कर चुकी है
  • टोयोटा मोटर ने भी 9 फरवरी तक चीन में अपनी फैक्ट्रियों को बंद कर दिया है
  • ह्यूंदै मौटर ने कहा है कि वो पार्ट्स की सप्लाई में बाधा के चलते दक्षिण कोरिया में प्रोडक्शन रोकने जा रही है
  • रेस्टोरेंट ब्रैंड इंटरनेशनल ने बताया है कि कुछ बर्गर किंग रेस्टोरेंट मेनलैंड चाइना में अस्थाई रूप से बंद हो गए हैं
  • मैक डोनाल्ड चीन में अपने सैकड़ों आउटलेट बंद कर चुका है
  • कार्ल्सबर्ग ने भी कोरोनावायरस की वजह से नुकसान की आशंका जताई है
  • स्टारबक्स भी चीन में अपने आधे से ज्यादा स्टोर बंद चुका है
  • नाइकी भी चीन में करीब आधे स्टोर बंद कर चुकी है

होटल्स और ऑनलाइन बुकिंग कंपनियों पर भी असर

  • हयात और शांगरी-ला ने कहा है कि वे चीन से ट्रैवल करने वाले लोगों को बिना किसी चार्ज के 29 फरवरी तक होटल बुकिंग रद्द करने की अनुमति देंगे
  • चीन के सबसे बड़े ऑइलाइन बुकिंग प्लैटफॉर्म सीट्रिप ने कहा है कि उसके प्लैटफॉर्म पर 300,000 से ज्यादा होटल 22 जनवरी से 8 फरवरी तक बुकिंग पर रिफंड के लिए तैयार हुए हैं
  • अलीबाबा की बुकिंग साइट फ्लिगी ने भी इस तरह रिफंड करने की बात कही है
कोरोनावायरस के चलते चीन के कई शहरों में शट डाउन की वजह से खपत में भारी गिरावट की आशंका है. कम खपत का असर चीन की सर्विस इंडस्ट्री को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है, जिसका देश की जीडीपी में काफी बड़ा हिस्सा है.

सीएनबीसी के मुताबिक, कोरोनावायरस के कहर के बीच कुछ एनालिस्ट्स ने 2020 के लिए चीन की जीडीपी विकास दर के अनुमान को इस तरह घटा दिया है:

  • Citigroup: 5.8 फीसदी से घटाकर 5.5 फीसदी
  • इकनॉमिक इंटेलिजेंस यूनिट (EIU): 5.9 फीसदी से घटाकर 4.9-5.4 फीसदी
  • Macquarie: 5.9 फीसदी से घटाकर 5.6 फीसदी
  • Mizuho:5.9 फीसदी से घटाकर 5.6 फीसदी
  • Natixis: 5.7 फीसदी से घटाकर 5.5 फीसदी

क्यों दुनिया की अर्थव्यवस्था पर पड़ सकता है असर?

चीन की अर्थव्यवस्था पर चोट मंटीनेशनल कंपनियों के साथ-साथ दुनिया की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर छोड़ सकती है. इसकी वजहें समझने के लिए कुछ आंकड़ों पर नजर दौड़ाते हैं:

  • इस वक्त चीन अमेरिका के बाद दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है
  • वर्ल्ड टूरिज्म ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक, साल 2014 से चीन इंटरनेशनल टूरिज्म एक्सपेंडिचर का सबसे बड़ा स्रोत रहा है
  • चीन दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आयातक देश है
  • चीन दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक देश है

भारत में सूरत के हीरा उद्योग को बड़े नुकसान की आशंका

कोरोनावायरस की वजह से भारत में सूरत के हीरा उद्योग को अगले दो महीने में करीब 8,000 करोड़ रुपये की चपत लग सकती है. यह आशंका हॉन्ग कॉन्ग में इमर्जेंसी के ऐलान को ध्यान में रखकर लगाई जा रही है.

रत्न और आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद (जीजेईपीसी) के क्षेत्रीय चेयरमैन दिनेश नवाडिया ने कहा कि सूरत से हर साल हॉन्ग कॉन्ग के लिए 50,000 करोड़ रुपये के पॉलिश हीरों का निर्यात किया जाता है. यह यहां से कुल निर्यात का 37 फीसदी है. हॉन्ग कॉन्ग में जिन गुजराती कारोबारियों के कार्यालय हैं, वे वापस लौट रहे हैं. नवाडिया ने कहा कि फरवरी और मार्च में सूरत के हीरा उद्योग को 8,000 करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है.

ये भी पढ़ें : पॉडकास्ट | कोरोनावायरस पर फैलाई जा रही है ये 4 फेक न्यूज, सच सुनिए

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our बिजनेस न्यूज section for more stories.

    Loading...