एक्सपोर्टर्स के लिए टैक्स रिफंड स्कीम लाएगी केंद्र सरकार

सरकार जल्द ही केंद्रीय मंत्रिमंडल के सामने एक्सपोर्टर्स के लिए टैक्स रिफंड स्कीम पेश करेगी

Published29 Nov 2019, 06:00 PM IST
बिजनेस न्यूज
2 min read

केंद्र सरकार एक्सपोर्टर्स के लिए टैक्स रिफंड स्कीम लाने की योजना बना रही है. वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को राज्यसभा में बताया कि सरकार जल्द ही केंद्रीय मंत्रिमंडल के सामने एक्सपोर्टर्स के लिए टैक्स रिफंड स्कीम पेश करेगी और फिर इसे नोटिफाइ करेगी.

राज्यसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि सरकार एंटरप्रेन्योयर्स को अपने मैन्युफैक्चरिंग ऑपरेशन का विस्तार करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है.

सरकार एक्सपोर्टर्स को कई तरह के टैक्स पर रिफंड देने वाली योजना (RoDTEP) का पहले ही ऐलान कर चुकी है. सदन में पीयूष गोयल ने कहा, "RoDTEP की घोषणा वित्त मंत्री ने निर्यातकों को कई तरह के टैक्स पर रिफंड के लिए की थी. RoDTEP योजना के जरिए टैक्स का रिफंड किया जाएगा. हम जल्द ही कैबिनेट में ये स्कीम रखेंगे और फिर नोटिफाइ करेंगे."

“कई देशों के बीच तनाव बढ़ रहा है. लेकिन भारत सरकार अपने निर्माताओं के लिए अवसर देख रही है. ताकि हमारे उद्यमी अपने बिजनेस का विस्तार कर सकें और ज्यादा से ज्यादा मैन्युफैक्चर भारत की ओर आकर्षित हो सकें.”
पीयूष गोयल, वाणिज्य और उद्योग मंत्री

मंत्री ने कहा कि भारत टैक्नोलॉजी की रेस में पीछे नहीं रह सकता है. इसलिए सरकार कौशल विकास पर फोकस कर रही है. मॉडर्न मैन्युफैक्चरिंग टैक्नोलॉजी सुनिश्चित करने के लिए सरकार 3डी मैन्युफैक्चरिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डेटा एनालिटिक्स पर काम काम रही है.

“हमें पूरा विश्वास है कि जैसे-जैसे हम इस तरह की आधुनिक तकनीकों के साथ जुड़ते जाएंगे, वैसे-वैसे भारत इन तकनीकों के इस्तेमाल से दुनिया में लीडर बनता जाएगा. ठीक वैसे ही जैसे 20 साल पहले आईटी इंडस्ट्री ने इस चुनौती को स्वीकार किया था और दुनियाभर में लीडर बन गया था.”
पीयूष गोयल, वाणिज्य और उद्योग मंत्री

लोगों के नौकरी खोने के एक सवाल पर पीयूष गोयल ने कहा कि इसका कोई ठोस सबूत नहीं है कि लोग बड़े पैमाने पर नौकरी खो रहे हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!