ADVERTISEMENT

ट्रेड वॉर :अमेरिका-चीन खुलकर लड़ेंगे या समझौता कर लेंगे? 

चीन और अमेरिका ने अपने-अपने तेवर तीखे किए हैं लेकिन अभी खुली जंग नहीं हुई है

Updated
ट्रेड वॉर :अमेरिका-चीन खुलकर लड़ेंगे या समझौता कर लेंगे? 
i

अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर तेज होने की जो आशंका जताई जा रही थी, वह सही साबित हुई है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो दिन पहले ऐलान किया था कि वह चीन के 50 अरब डॉलर के निर्यात पर टैरिफ लगाएंगे. चीन के खिलाफ अमेरिका की यह कार्रवाई इंटेलक्चुअल कथित प्रॉपर्टी राइट्स, सॉफ्टवेयर और पेटेंट चोरी के आरोप में की जा रही है.

चीन ने ट्रंप की इस धमकी का कड़ा जवाब दिया है और कहा है कि वह अपने वाजिब हितों की रक्षा के लिए आखिरी दम तक लड़ेगा. उसे अमेरिकी कार्रवाई का डर नहीं है और वह इस लड़ाई से पीछे नहीं हटेगा. चीन ने भी अमेरिका के तीन अरब डॉ़लर के निर्यात पर टैरिफ लगाने का ऐलान कर दिया है.

ट्रंप मानते हैं कि पूरी दुनिया के देश अमेरिका का फायदा उठा रहे हैं 
(फाइल फोटोः PTI)
ADVERTISEMENT

लड़ाई बढ़ी तो पूरी दुनिया को नुकसान

यह तय है कि यह लड़ाई बढ़ी तो चीन और अमेरिका के साथ पूरी दुनिया को नुकसान होगा. लेकिन क्या यह लड़ाई वास्तव में बढ़ेगी.क्या चीन और अमेरिका खुल कर एक दूसरे के मैदान में आएंगे या फिर बीच में सुलह-समझौते का रास्ता निकाल लेंगे. दोनों के रवैये से ऐसा नहीं लगता है कि यह जंग खुल कर लड़ी जाएगी. अमेरिका के जितने भी बिजनेस पार्टनर हैं उनमें सबसे ज्यादा व्यापार घाटा चीन के साथ है. इसलिए ट्रंप अमेरिका में यह जताने की कोशिश कर रहे हैं कि वह चीन से व्यापार घाटे को कम करेंगे रहेंगे.

चीन ने अमेरिका को धमकी तो दी है लेकिन वह पूरी जंग छेेड़ने की मूड में नहीं दिखता
फोटो ः ब्लूमबर्ग क्विंट 
ADVERTISEMENT

चीन की धमकी में कितना दम

लेकिन सवाल यह है कि क्या चीन जवाबी कार्रवाई करेगा. उसकी धमकी में कितना दम है. फिलहाल उसने बदले की कार्रवाई को तहत जो कदम उठाया है वह अमेरिका को किस हद तक नुकसान पहुंचा सकता है?

चीन भले ही कड़ा जवाब देने की धमकी दे रहा हो लेकिन लगता नहीं है कि वह ऐसा करेगा. फिलहाल उसने सिर्फ 3 अरब डॉलर के अमेरिकी सामान पर टैरिफ लगाने का ऐलान किया है. यह अमेरिका से चीनी आयात का सिर्फ 2 फीसदी है. जबकि अमेरिका ने अपने यहां चीनी आयात के दस फीसदी पर टैरिफ लगाने का फैसला किया है. साफ है कि चीन फिलहाल अमेरिकी आक्रामकता को टक्कर नहीं देना चाहता है. उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों में जब दोनों ओर से कॉरपोरेट लॉबी के दबाव बढ़ेंगे तो चीन और अमेरिका सुलह-समझौते की राह पर आ जाएं. दोनों खुल कर मैदान में आने से बचेंगे. अब तक के दोनों के रुख देख कर तो यही लगता है.

ये भी पढ़ें - US-CHINA ट्रेड वॉर की आशंका से शेयर बाजार धराशायी, 400 अंक गिरा

ADVERTISEMENT

[क्‍विंट ने अपने कैफेटेरिया से प्‍लास्‍ट‍िक प्‍लेट और चम्‍मच को पहले ही 'गुडबाय' कह दिया है. अपनी धरती की खातिर, 24 मार्च को 'अर्थ आवर' पर आप कौन-सा कदम उठाने जा रहे हैं? #GiveUp हैशटैग के साथ @TheQuint को टैग करते हुए अपनी बात हमें बताएं.]

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×